पद्मश्री से सम्मानित कलाकार दुलारी देवी से उपहार स्वरूप मिली मधुबनी पेंटिंग की सराहना करते हुए PM मोदी ने किया ये ट्वीट

पद्मश्री से सम्मानित कलाकार दुलारी देवी से उपहार स्वरूप मिली मधुबनी पेंटिंग की सराहना करते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ट्वीट किया है। पेंटिंग और दुलारी देवी के साथ अपनी तस्वीर को उन्होंने टैग किया है। नौ नवंबर को राष्ट्रपति भवन में राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द ने जिले के रांटी गांव निवासी मधुबनी पेंटिंग की कलाकार दुलारी देवी को पद्मश्री सम्मान प्रदान किया था। इसके बाद आयोजित कार्यक्रम में दुलारी देवी की प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मुलाकात हुई तो उन्होंने उनकेलिए बनाई एक पेंटिंग भेंट की थी।

दुलारी देवी ने बताया कि वर्ष 2014 में लोकसभा चुनाव के दौरान प्रधानमंत्री मधुबनी हवाई अड्डा पर सभा संबोधित करने पहुंचे थे। उसी दिन प्रधानमंत्री की मधुबनी यात्रा पर पेंटिंग बनाने का मन बनाया। तकरीबन डेढ़ माह में उस पेंटिंग को पूरा किया। प्रधानमंत्री को भेंट करने की इच्छा से उसे सहेजकर रख लिया था। अक्सर मन में यह बात उठती थी कि प्रधानमंत्री को यह पेंटिंग भेंट करने का कब अवसर मिलेगा। जब पद्मश्री सम्मान समारोह के लिए बुलावा आया तो दिल्ली जाते समय पेंटिंग साथ लेती गई। मुलाकात के दौरान जब प्रधानमंत्री को बताया कि उनके लिए पेंटिंग बनाई है तो वे अरे वाह! कहकर मुस्कुरा उठे थे। उन्होंने हाल-चाल पूछा था।

यह है पेंटिंग की खासियत 

प्रधानमंत्री के लिए 22 इंच लंबे तथा 30 इंच चौड़े पेपर पर बनी मधुबनी पेंटिंग में माछ (मछली) को हवाई जहाज का शक्ल दिया गया है। इसमें सवार प्रधानमंत्री को देखने के लिए लोग नीचे से हाथ उठाकर अभिवादन कर रहे हैं। पेंटिंग में बड़ी बारीकी से पूरे सीन को उकेरा गया है।

बना चुकीं आठ हजार पेंटिंग 

53 वर्षीया दुलारी देवी ने संघर्ष के बूते पहचान बनाई है। मधुबनी पेंटिंग की एक कलाकार के घर झाड़ू-पोछा कर यह कला सीखी। वे अब तक तकरीबन आठ हजार पेंटिंग्स बना चुकी हैं। वर्ष 2012-13 में उन्हें राज्य पुरस्कार मिला था। गीता वुल्फ की पुस्तक ‘फालोइंग माइ पेंट ब्रशÓ और मार्टिन ली काज की फ्रेंच में लिखी पुस्तक ‘मिथिलाÓ में दुलारी की जीवन गाथा व कलाकृतियां सुसच्जित हैं। ‘सतरंगीÓ नामक पुस्तक में भी इनकी पेंटिंग ने जगह पाई है। इग्नू के लिए मैथिली में तैयार किए गए आधार पाठ्यक्रम के मुखपृष्ठ पर इनकी पेंटिंग है। देश के अनेक शैक्षणिक व अन्य संस्थानों की दीवारों पर इनकी पेंटिंग्स शोभा बढ़ा रही हैं। एक दशक पूर्व केरल में पेंटिंग प्रदर्शनी में दुलारी की पेंटिंग को फिल्म कलाकार वैजयंती माला ने सराहा था।

News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

twenty − nine =

Back to top button