विश्वभारती यूनिवर्सिटी में बोले PM मोदी- गुजरात की बेटी भी गुरुदेव के घर बहू बनकर आई थी…

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि गुरुदेव की बड़े भाई सत्येंद्र नाथ टैगोर की नियुक्ति गुजरात में हुई थी. तब रवींद्र नाथ टैगोर उनसे मिलने अहमदाबाद में आते थे, वहां पर ही उन्होंने अपनी दो कविताओं को लिखा था. गुजरात की बेटी भी गुरुदेव के घर बहू बनकर आई थी. सत्येंद्र नाथ टैगोर की पत्नी ज्ञानेंद्री देवी जब अहमदाबाद में रहती थीं, तब उन्होंने देखा कि वहां महिलाएं साड़ी का पल्लू दाईं ओर रखती थीं, तब उन्होंने बाएं कंधे पर साड़ी का पल्लू रखने की सलाह दी जो अबतक जारी है.

पीएम मोदी बोले कि कोरोना काल के कारण इस बार विश्वभारती के मेले का आयोजन नहीं हुआ. विश्वभारती के छात्र-छात्राएं पॉश मेले में आने वाले लोगों से संपर्क करें, कोशिश करें कि उनकी कलाकृतियां कैसे ऑनलाइन तरीके से बेची जा सकती हैं.

Ujjawal Prabhat Android App Download Link

पीएम मोदी ने कहा कि गुरुदेव कहते थे कि लक्ष्य की प्राप्ति के लिए अकेला चलना हो, तो चल पड़िए. जब आजादी का आंदोलन चरम पर था, तब बंगाल उसे दिशा दे रहा था. लेकिन साथ ही बंगाल ने संस्कृति के क्षेत्र में भी काम किया.

अपने संबोधन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि रामकृष्ण परमहंस के कारण देश को स्वामी विवेकानंद मिले, स्वामी जी भक्ति-ज्ञान और कर्म को अपने में समाए हुए थे. भक्ति आंदोलन के बाद कर्म आंदोलन आगे बढ़ा, जिसमें कई योद्धाओं ने विदेशी आक्रांताओं को रोका जो बाद में आजादी का आंदोलन बना.
पीएम मोदी बोले कि अंत में ज्ञान का संगम होने से आजादी का आंदोलन तेज हुआ. वैचारिक आंदोलन भी खड़ा किया गया और भविष्य के बारे में सोचा गया.
पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि इन आंदोलनों से प्रभावित होकर ही हजारों की संख्या में लोग आजादी की लड़ाई में जान देने के लिए आते रहे. पीएम बोले कि गुरुदेव ने जिस तरह विश्वभारती को इस तरह बुना, जिसने राष्ट्रवाद की तस्वीर सामने रखी.
पीएम मोदी बोले कि वेद से विवेकानंद तक भारत के चिंतन की धारा गुरुदेव के राष्ट्रवाद में मुखर थी. पीएम मोदी ने कहा कि हमारा विकास वैश्विक होता है, गुरुदेव का संदेश ही आत्मनिर्भर भारत का आधार है.

अपने संबोधन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि रामकृष्ण परमहंस के कारण देश को स्वामी विवेकानंद मिले, स्वामी जी भक्ति-ज्ञान और कर्म को अपने में समाए हुए थे. भक्ति आंदोलन के बाद कर्म आंदोलन आगे बढ़ा, जिसमें कई योद्धाओं ने विदेशी आक्रांताओं को रोका जो बाद में आजादी का आंदोलन बना.  पीएम मोदी बोले कि अंत में ज्ञान का संगम होने से आजादी का आंदोलन तेज हुआ. वैचारिक आंदोलन भी खड़ा किया गया और भविष्य के बारे में सोचा गया.

प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में कहा कि पर्यावरण के क्षेत्र में आज भारत इकलौता ऐसा देश है, जो पेरिस एग्रीमेंट को पूरा कर रहा है. पीएम बोले कि कई परिस्थितियां यूनिवर्सिटी की स्थापना का आधार बनीं, जिसमें सिर्फ अंग्रेजों की गुलामी ही नहीं बल्कि कई सालों से चले आंदोलनों की पृष्ठभूमि थी.
पीएम मोदी बोले कि आजादी के आंदोलनों की नींव काफी वक्त पहले रखी गई थी. देश की आध्यात्मिक, सांस्कृतिक आंदोलन को भक्ति युग ने मजबूत किया, संतों-आचार्यों ने देश की चिंता की है.

पीएम मोदी ने बताया कि दक्षिण में रामानुजाचार्य समेत कई संत हुए, पश्चिम में मीराबाई समेत अन्य संत आए, उत्तर में कबीर दास, सूरदास समेत अन्य लोग आए और जबकि पूर्व में चैतन्य महाप्रभु भी आए.

पश्चिम बंगाल की विश्वभारती यूनिवर्सिटी के कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संबोधन शुरू हो गया है. पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि मेरे लिए ये गर्व का विषय है कि मैं इसमें शामिल हुआ हूं. ये सौ साल की यात्रा काफी विशेष है, विश्वभारती मां भारती के लिए गुरुदेव के चिंतन-दर्शन और परिश्रम का साकार अवतार है. भारत के लिए गुरुदेव ने जो सपना देखा था, उसे मूर्त रूप देने के लिए देश को ऊर्जा देने वाला संस्थान है.
पीएम मोदी ने कहा कि 2015 में यूनिवर्सिटी के योग डिपार्टमेंट की लोकप्रियता तेजी से बढ़ रही है. हमारा देश विश्वभारती से निकले संदेश को दुनिया में पहुंचा रहा है.

विश्व भारती यूनिवर्सिटी का ये कार्यक्रम इस बार वर्चुअल तरीके से हो रहा है. कार्यक्रम में सिर्फ यूनिवर्सिटी के स्टाफ, टीचर और अन्य लोग हैं. सांस्कृतिक कार्यक्रम में रवींद्रनाथ टैगोर द्वारा लिखे गानों को गाया जा रहा है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button