पाकिस्तान पूर्व प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ को सजा देने वाले जज के घर पर गोलाबारी

पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस इजाजुल अहसन के घर पर रविवार को अज्ञात बंदूकधारियों ने गोलियां बरसाईं. अहसन पूर्व प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ से जुड़े भ्रष्टाचार के मामलों की सुनवाई करने वाली पीठ के सदस्य रह चुके हैं. न्यायाधीश लाहौर के मॉडल टाउन इलाके में रहते हैं, इस गोलाबारी में कोई हताहत नहीं हुआ है.पाकिस्तान पूर्व प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ को सजा देने वाले जज के घर पर गोलाबारीपाकिस्तान पूर्व प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ को सजा देने वाले जज के घर पर गोलाबारी

सुप्रीम कोर्ट के बयान के मुताबिक रविवार सुबह साढ़े चार बजे और सुबह नौ बजे जस्टिस अहसन के आवास को निशाना बनाया गया. इस घटना के बाद पाकिस्तान के चीफ जस्टिस मियां साकिब निसार ने जस्टिस अहसन के घर जाकर उनसे मुलाकात की. इस मामले में उन्होंने पंजाब के पुलिस महानिरीक्षक आरिफ नवाज़ खान को भी तलब किया.

बयान के मुताबिक चीफ जस्टिस खुद स्थिति पर नज़र रख रहे हैं. एक फॉरेंसिक टीम सबूत इकट्ठा करने के लिए घटना स्थल पर पहुंच गई है. जांच के लिए बैलेस्टिक विशेषज्ञों को भी बुलाया गया है. पुलिस अधिकारी इस बात की जांच कर रहे हैं कि यह निशाना बनाकर गोलीबारी की गई थी या हवाई फायरिंग थी.

कड़ी की गई सुरक्षा

पुलिस प्रवक्ता नियाब हैदर ने कहा, ‘एलीट फोर्स के कमांडोज ने इलाके को घेर लिया है और जांच चल रही है.’ उन्होंने कहा कि जस्टिस अहसन के घर पर रेंजर्स की तैनाती भी की गई है. प्रधानमंत्री शाहिद खाकान अब्बासी, पंजाब के मुख्यमंत्री शाहबाज शरीफ, पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के अध्यक्ष बिलावल भुट्टो, सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन और लाहौर कोर्ट बार एसोसिएशन ने इस घटना की निंदा की है.

प्रधानमंत्री ने संघीय और प्रांतीय अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि आरोपियों को जल्द से जल्द पकड़ा जाए. जस्टिस अहसन पाकिस्तान की शीर्ष अदालत की उस पांच सदस्यीय पीठ के सदस्य रह चुके हैं जिसने पिछले साल पनामा गेट प्रकरण की सुनवाई की थी और तत्कालीन प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को अयोग्य ठहरा दिया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

इस वजह से मालदीव में ब्रिटिश कालीन मूर्तियों को तोड़ा गया कुल्हाड़ी से..

मालदीव के निवर्तमान राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन द्वारा ब्रिटिश