कश्मीर पर पाक के सुर हुए नरम, आर्मी चीफ बोले- बातचीत से हल हो मसला

भारत और पाकिस्तान के बीच लंबे समय से विवादों का जड़ रहे कश्मीर मामलों को लेकर पाकिस्तान के सुर अब नरम पड़ते दिख रहे हैं. अकसर ही भड़काऊ बयान देने वाले पाकिस्तान के आर्मी चीफ जनरल कमर जावेद बाजवा ने अब कहा है कि कश्मीर के मूल मुद्दे सहित भारत-पाकिस्तान के बीच सभी विवादों का शांतिपूर्ण हल एक पॉजिटिव बातचीत से ही संभव है.कश्मीर पर पाक के सुर हुए नरम, आर्मी चीफ बोले- बातचीत से हल हो मसला

पाकिस्तान के सशस्त्र बलों की मीडिया इकाई इंटर-सर्विसेज पब्लिक रिलेशंस (आईएसपीआर) के एक बयान के मुताबिक, बाजवा ने शनिवार को काकुल में पाकिस्तानी मिलिट्री एकेडमी में कैडेट्स के पासिंग आउट परेड में अपने संबोधन के दौरान यह टिप्पणी की. उन्होंने कहा , ‘हमारा यह साफ़ तौर पर मानना है कि कश्मीर के मूल मुद्दे सहित भारत-पाकिस्तान के विवादों के शांतिपूर्ण समाधान का रास्ता सार्थक बातचीत से ही गुजरता है.

‘बयान के मुताबिक, कैडेट्स को संबोधित करते हुए 57 साल के बाजवा ने कहा कि पाकिस्तान एक अमन पसंद देश है और सभी देशों, खासकर अपने पड़ोसियों, के साथ अच्छी नीयत और शांतिपूर्ण मौजूदगी चाहता है. उन्होंने कहा, ‘लेकिन शांति की इस चाहत को किसी भी तरह से हमारी कमजोरी की निशानी नहीं समझा जाना चाहिए. हमारे साहसी सशस्त्र बल किसी भी खतरे का करारा जवाब देने के लिए पूरी तरह तैयार हैं.’

आर्मी चीफ ने जम्मू-कश्मीर के लोगों के आत्मनिर्णय के बुनियादी अधिकार के लिए अपने देश के राजनीतिक और नैतिक समर्थन की बात दोहराई. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान ने आतंकवाद और चरमपंथ के सफाए के लिए बगैर किसी भेदभाव के अपनी भूमिका निभाई है और कोशिशों ने नतीजे दिखाने शुरू कर दिए हैं.

जनरल बाजवा ने कहा, ‘हम किसी मजबूरी के कारण इन कोशिशों को जारी रखने के लिए प्रतिबद्ध नहीं हैं, बल्कि पाकिस्तान को एक सुरक्षित, समृद्ध और प्रगतिशील देश बनाने के लिए तैयार हैं.’ उन्होंने कहा कि पाकिस्तान को अंदर से कमजोर करने के लिए एक हाइब्रिड युद्ध थोपा गया है.

आर्मी चीफ ने कहा, ‘हमारे दुश्मन जानते हैं कि वे हमें सीधे तरीके से मात नहीं दे सकते तो उन्होंने हम पर एक बुरा और लंबा हाइब्रिड युद्ध थोप दिया है.’

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

इस वजह से मालदीव में ब्रिटिश कालीन मूर्तियों को तोड़ा गया कुल्हाड़ी से..

मालदीव के निवर्तमान राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन द्वारा ब्रिटिश