प्रशांत किशोर को कांग्रेस में होना चाहिए शामिल: एम वीरप्पा मोइली

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एम वीरप्पा मोइली ने रविवार को कहा कि कुछ नेताओं ने जी-23 का ‘दुरुपयोग’ किया। उन्होंने कहा कि अगर कोई इसके संस्थागतकरण के साथ बना रहता है तो यह ‘निहित स्वार्थ’ के लिए होगा, क्योंकि सोनिया गांधी की लीडरशिप में पार्टी में सुधार पहले से ही चल रहा है। पूर्व केंद्रीय मंत्री ने चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर के कांग्रेस में शामिल होने का भी कड़ा समर्थन किया और कहा कि पार्टी में उनके प्रवेश का विरोध करने वाले सुधार के विरोधी हैं।

पिछले साल गांधी को पत्र लिखकर संगठनात्मक सुधार की मांग करने वाले 23 नेताओं में शामिल मोइली समाचार एजेंसी पीटीआइ के दिए इंटरव्यू में जी-23 के संस्थागतकरण का विरोध किया और कहा कि हम में से कुछ ने केवल पार्टी के सुधार के लिए और पार्टी के पुनर्निर्माण के लिए हस्ताक्षर किए थे, न कि इसे नष्ट करने के लिए। कांग्रेस के वरीष्ठ नेता ने किसी नाम लिए बगैर कहा, ‘हमारे कुछ नेताओं ने जी-23 का दुरुपयोग किया। सोनिया जी ने जैसे ही पार्टी को अंदर से और जमीनी स्तर पर सुधार करने की सोची, हमने जी-23 के विचार को स्वीकार नहीं किया.

मोइली ने कहा कि पार्टी प्रमुख सोनिया गांधी के नेतृत्व में सुधार की शुरुआत के साथ अब जी-23 की कोई भूमिका नहीं है और यह अप्रासंगिक हो गया है। अगर वे (कुछ नेता) बने रहते हैं (जी -23 के साथ) तो इसका मतलब है कि उनमें से कुछ अपने निहित स्वार्थ कांग्रेस पार्टी के खिलाफ काम कर रहे हैं, जिसे हम स्वीकार नहीं करते और इसका विरोध करते हैं।उन्होंने कहा कि अगर कोई भी फिर से जी-23  का उपयोग करता है, वह कांग्रेस और उसकी विरासत के लिए एक बड़ा नुकसान पहुंचाएगा। इस तरह के कार्यों से कांग्रेस के प्रतिद्वंद्वियों को मदद मिलेगी। उनकी टिप्पणी का महत्व इसलिए है क्योंकि जी-23 के कई नेताओं ने या तो इससे दूरी बना ली है या पिछले साल उनके द्वारा लिखे गए पत्र के बाद चुप हो गए हैं।

सोनिया गांधी को पत्र लिखने वाले 23 नेताओं के उस समूह में से जितिन प्रसाद भाजपा में शामिल हो गए हैं। जी -23 के कुछ सदस्य हाल ही में कपिल सिब्बल के आवास पर सामाजिक समारोहों में एक साथ नजर आए थे और कथित तौर पर पार्टी के मुद्दों पर चर्चा की थी। एक सभा में सिब्बल ने कई विपक्षी नेताओं को भी अपने आवास पर आमंत्रित किया था।

मोइली ने कहा कि पार्टी की ‘बड़ी सर्जरी’ यानी वह संगठन को पुनर्जीवित करने की बात कर रहे हैं, उस पर सोनिया गांधी पहले से ही विचार कर रही है। उन्होंने कहा कि वह (सोनिया गांधी) सक्रिय हैं और फैसले ले रही हैं, ऐसे फैसलों की जरूरत है। वह पार्टी प्रमुख द्वारा उठाए गए कदमों से खुश हैं।

प्रशांत किशोर के कांग्रेस में शामिल होने की अटकलों के बारे में पूछे जाने पर मोइली ने कहा कि यह उचित होगा कि वह कांग्रेस में शामिल हों और पार्टी में रहकर सुधार करें। उन्होंने कांग्रेस में किशोर के शामिल होने का विरोध करने वाले पार्टी के भीतर लोगों से ऐसा नहीं करने का आग्रह करते हुए कहा कि देश और कांग्रेस के लिए यह महत्वपूर्ण है कि पार्टी में सुधार किया जाए। जो उन्होंने कहा वह सोनिया गांधी और राहुल गांधी की मंशा थी।

सूत्रों के मुताबिक, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी किशोर को शामिल करने पर अंतिम फैसला लेंगी और इस मुद्दे पर कई वरिष्ठ नेताओं के साथ चर्चा कर चुकी हैं। यह पूछे जाने पर कि क्या उन्हें लगता है कि किशोर को शामिल करना पार्टी के लिए फायदेमंद होगा? मोइली ने कहा कि चुनावी रणनीतिकार ने साबित कर दिया है कि वह रणनीति बनाने में सफल रहे हैं। बाहर से काम करने के बजाय, अगर वह पार्टी में शामिल होते हैं, तो यह काफी फायदेमंद होगा।

News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fourteen − seven =

Back to top button