राहुल के खुलासे पर पीएम मोदी का तीखा जवाब, राहुल को तकनीक की जानकारी नहीं

- in राष्ट्रीय

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने जिस तरह से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर डेटा लीक का आरोप लगाया है उसपर आखिरकार प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से सफाई दी गई है। पीएमओ ऑफिस की ओर से कहा गया है कि कांग्रेस और राहुल गांधी को तकनीक की जानकारी नहीं है। साथ ही प्रधानमंत्री कार्यालय ने कांग्रेस पर संगीन आरोप लगाते हुए कहा कि कैंम्ब्रिज एनालिटिका का डेटा चोरी करने के लिए कांग्रेस का ब्रह्मास्त्र बताया। साथ ही राहुल पर लोगों का मुद्दे से ध्यान भटकाने का आरोप लगाते हुए कहा कि यह सब लोगों का इस मुद्दे से ध्यान हटाने के लिए किया गया है

 ऐप पर जानकारी की जरूरत नहीं

पीएमओ की ओर से सफाई दी गई है कि मीडिया हाउस भी अपने ऐप के लिए थर्ड पार्टी सर्विस का इस्तेमाल करते हैं, जिससे की उनकी खबरें अधिक से अधिक लोगों तक पहुंच सके। पीएम ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ऐप पर सफाई देते हुए इसकी कार्यप्रणाली की जानकार रदी है। इसमे कहा गया है कि इस ऐप के भीतर कोई भी व्यक्ति गेस्ट मोड पर साइन इन कर सकता है, इसके लिए उसे अपने बारे में किसी भी तरह की जानकारी देने की जरूरत नहीं है, वह मेहमान की भी तरह से इस ऐप का इस्तेमाल कर सकता है। इसके लिए किसी की अनुमति या डेटा की जरूरत नहीं होती है।

राहुल ने लगाया था आरोप राहुल गांधी ने ट्विटर पर ट्वीट करके पीएम पर निशाना साधा है, उन्होंने कहा कि मेरा नाम नरेंद्र मोदी है, मैं भारत का प्रधानमंत्री हूं, जब आप मेरे ऑफिशियल एप में साइन अप करते हैं, तो मैं आपकी सारी जानकारी अमेरिका की कंपनी को दे देता हूं। इस ट्वीट के बाद उन्होंने मीडिया का शुक्रिया अदा करते हुए कहा कि आप लोग काफी अच्छा काम कर रहे हैं और इस तरह की खबरों को लोगों को सामने ला रहे हैं। 

अजमेर में ख्वाजा मोईनुद्दीन चिश्ती की दरगाह परिसर विवादों से घिरी

पीएमओ ने दी ऐप पर सफाई पीएमओ की ओर से कहा गया है कि विशेष परिस्थितियों में लोगों से उनकी जानकारी मांगी जाती है। उदाहरण के दौर पर अगर कोई सेल्फी कैंपेन का हिस्सा बनना चाहता है तो उसे अपनी तस्वीर और नाम बताने की जरूरत होती है। साथ ही अगर कोई व्यक्ति अपनी ईमेल आईडी या जन्मदिन की जानकारी देता है तो उसे पीएमओ की ओर से बधाई भी दी जाती है। ऐप को शुरू करने में किसी भी तरह की जानकारी नहीं मांगी जाती है, बल्कि अलग-अलग सेक्शन में जुड़ने के लिए लोगों से जानकारी मांगी जाती है। लीक पर पीएमओ की सफाई डेटा में सेंधमारी पर सफाई देते हुए पीएमओ ने कहा कि फ्रेंच ट्विटर यूजर ने जो खुलासा किया है वह वो जानकारी है जो लोग खुद अपनी डिवाइस में देते हैं, लिहाजा यह जानकारी किसी की सुरक्षा में सेंधमारी नहीं है। आपको बता दें कि हाल ही में कैंम्ब्रिज अनालिटिक कंपनी ने दावा किया है कि फेसबुक के यूजर्स की जानकारी लीक की गई है, जिसका भारत के नेताओं ने इस्तेमाल किया है। जिसके बाद कांग्रेस और भाजपा एक दूसरे पर लगातार आरोप लगा रहे हैं। इस मामले में केंद्र सरकार ने 23 मार्च को कैंम्ब्रिज अनालिटिका को नोटिस भी जारी किया है, सरकार ने पूछा है कि आखिर कैसे डेटा का दुरुपयोग मतदान को प्रभावित करने के लिए किया गया। कंपनी से 31 मार्च तक जवाब देने को कहा गया है। 

You may also like

अपने जीन्स में मौजूद कैंसर के खतरे से अनजान हैं 80 फीसदी लोग

दुनिया भर में कैंसर के मामलों में तेजी