सही नहीं हैं लखनऊ में तन्वी का पता, रद्द हो सकता है पासपोर्ट!

- in राष्ट्रीय

लखनऊ के हिंदू-मुस्लिम कपल के पासपोर्ट विवाद में जांच टीम को ने अहम खुलासा किया है. मोहम्मद अनस सिद्दीकी की पत्नी तन्वी सेठ (अब सादिया हसन) के लखनऊ आवास पहुंची लोकल इंटेलिजेंस टीम (LIU) टीम का कहना है कि तन्वी ने पासपोर्ट के लिए लखनऊ के जिस पते के दस्तावेज दिए हैं, वहां वह पिछले एक साल से कभी लंबे समय तक रही ही नहीं. एलआईयू की टीम वेरिफिकेशन के लिए सोमवार को लखनऊ स्थित तन्वी के ससुराल पहुंची थी.

बता दें कि पासपोर्ट के लिए तन्वी सेठ ने लखनऊ के कैसरबाग इलाके में झाऊलाल बाजार के पास चिकवाली गली में स्थित घर का पता दिया था, जहां उसके ससुराल वाले रहते हैं. जांच टीम ने बताया कि तन्वी के ससुराल वाले इस बात का कोई सबूत पेश नहीं कर सके कि तन्वी पिछले एक साल के दौरान वहां रही.

एलआईयू की टीम अब तन्वी के नोएडा स्थित आवास वेरीफिकेशन के लिए जाएगी. पुलिस सूत्रों का कहना है कि तन्वी ने पासपोर्ट के लिए आवास स्थान की गलत जानकारी दी, क्योंकि वह कभी लखनऊ के आवास पर लंबे समय तक रही ही नहीं. नियमों के मुताबिक, अगर तन्वी पर गलत जानकारी देने के आरोप सही पाए जाते हैं तो उसका पासपोर्ट रद्द किया जा सकता है.

पति ने दो लोगों के साथ मिलकर चलती कार में पत्नी से किया गैंगरेप

चश्मदीद आया सामने, बोला- किडनैप करने की हुई कोशिश

हिंदू-मुस्लिम कपल को पासपोर्ट देने से मना करने पर शुरू हुए इस विवाद में बीते दिनों तब नया मोड़ आ गया, जब घटना का एक चश्मदीद भी सामने आया. कुलदीप सिंह नाम के शख्स का दावा है कि वह पासपोर्ट ऑफिस में घटी पूरी घटना के चश्मदीद हैं और इसीलिए शनिवार की दोपहर उन्हें अज्ञात बदमाशों ने किडनैप कर लिया था

हालांकि कुलदीप का दावा है कि वह किसी तरह किडनैपर्स को चकमा देकर बच निकलने में सफल रहे. लखनऊ के SSP दीपक कुमार ने कहा कि खुद को चश्मदीद बता रहे कुलदीप ने पासपोर्ट मामले में पासपोर्ट अधिकारी का बचाव किया है. हालांकि एसएसपी का कहना है कि कुलदीप के दावों की अभी पुष्टि नहीं हो सकी है और पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है.

पासपोर्ट विवाद को लेकर विदेश मंत्री भी हो गईं ट्रोल

लखनऊ के इस पासपोर्ट विवाद के मीडिया में आने के बाद दबाव में अनस-तन्वी का पासपोर्ट जारी कर दिया गया और पासपोर्ट देने से मना करने वाले अधिकारी का ट्रांसफर भी कर दिया गया. लेकिन लोगों के एक तबके को यह बात पसंद नहीं आई. इसे लेकर सोशल मीडिया पर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को जमकर ट्रोल किया गया और उनके फेसबुक पेज की रैंकिंग गिराने की मुहिम भी चली.

सुषमा स्वराज को लेकर की गई कई टिप्पणियों में भद्दी भाषा का भी प्रयोग किया गया. हालांकि सुषमा ने बड़ी ही दिलेरी से इन ट्रोलर्स का सामना किया और खुद ही इनका स्वागत किया और अपने जवाब से ट्रोल करने वालों की बोलती बंद कर दी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

राहुल गाँधी के बचाव में आये ये नेता, बोले- पहले अपना ज्ञान बढ़ाये अमित शाह

नई दिल्‍ली। भारत में आगामी चुनाव बेहद काफी नजदीक