चंडीगढ़ हवाई अड्डे के पास बसाया जाएगा नया शहर

- in पंजाब

पंजाब सरकार राज्‍य में चंडीगढ़ और माेहाली के पास एक नया शहर बसाएगी। यह शहर चंडीगढ़ अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के नजदीक पांच हजार एकड़ में बसाया जाएगा। इसके लिए कवायद जल्‍द शुरू होने की उम्‍मीद है। कैबिनेट मंत्री तृप्त राजिंदर सिंह बाजवा ने इस बारे में बताया कि इसके लिए जमीन हासिल करने की तैयारी की जा रही है।चंडीगढ़ हवाई अड्डे के पास बसाया जाएगा नया शहर

बाजवा ने शहरी विकास और निर्माण विभाग के उच्च अधिकारियों से विभाग के कामकाज की समीक्षा करने को बुलाई बैठक के बाद यह जानकारी दी। बाजवा ने बताया कि इसके लिए जमीन लैंड पूलिंग पॉलिसी के तहत हासिल की जाएगी। इसके अलवा न्यू चंडीगढ़ में 560 एकड़ जमीन हासिल करने की प्रक्रिया इस वर्ष मुकम्मल कर ली जाएगी और विभिन्न गांवों की अन्य 272 एकड़ जमीन न्यू चंडीगढ़ में हासिल की जाएगी। उन्‍होंने बताया कि अधिग्रहीत की जानेवाली इस जमीन का इस्तेमाल रिहायशी क्षेत्र के लिए होगा। इसके अलावा न्यू चंडीगढ़ और एसएएस नगर को जोड़ने के लिए फोरलेन सड़क का निर्माण किया जाएगा। इसके साथ ही अन्‍य सुविधाएं भी विकसित की जाएगी।

सभी शहरों व कस्बों का मास्टर प्लान दो वर्ष में होगा तैयार, ई-सीएलयू के बाद अब ई -लाइसेंसिंग सुविधा भी

बाजवा ने बताया कि राजस्व विभाग आधारित मास्टर प्लान और ई -सीएलयू सेवाएं ऑनलाइन उपलब्ध करवाने वाला पंजाब देश का पहला राज्य बन गया है। उन्होंने बताया कि राज्य के 165 शहरों और कस्बों का मास्टर प्लान दो वर्ष के भीतर मुकम्मल कर लिया जाएगा। सभी शहरों और कस्बों के राजस्व विभाग आधारित मास्टर प्लान को लोगों की सुविधा के लिए विभाग की वेबसाइट पर उपलब्ध करवाया जाएगा।

बाजवा ने बताया कि विभाग द्वारा ई -ऑक्शन और ई-सीएलयू के बाद अब ई-लाइसेंसिंग प्रणाली शुरू की जा रही है। ई-लाइसेंसिंग प्रणाली के अंतर्गत अस्थायी लाइसेंस ख़ुद-ब-ख़ुद इलेक्ट्रॉनिक प्रणाली के द्वारा उपलब्ध करवाए जा सकेंगे। इसके साथ ही ई-प्रणाली के लागू होने से लोगों को दफ्तरों में ज्यादा परेशान नहीं होना पड़ेगा और सारा काम कंप्यूटर के द्वारा घर बैठे ही किया जा सकेगा।

 
 
 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

कांग्रेस कार्यकर्ता के साथ मारपीट करने पर अकाली दल प्रमुख के खिलाफ FIR हुई दर्ज

मुख़्तसर: जिला परिषद और पंचायत समिति चुनावों के दौरान