MothersDay2017: …तो ऐसे शुरू हुआ था मदर्स डे मनाने का चलन

- in जीवनशैली

मां…
इस एक शब्द में दुनिया के सारे मतलब छुपे हैं. वैसे हर दिन नहीं बल्कि हर पल मां को समर्पित है. लेकिन दुनिया भर में मई महीने के दूसरे रविवार को Mother’s Day  मनाया जाता है .तो ऐसे शुरू हुआ था मदर्स डे मनाने का चलन

जानें कैसे शुरु हुआ Mother’s Day मनाने का चलन
1. मदर्स डे का इतिहास लगभग 400 साल पुराना है. प्राचीन ग्रीक और रोमन इतिहास में मदर्स डे को मनाया जाता था. इसके पीछे कई धार्मिक कारण जुड़े थे.

2. मदर्स डे ग्राफटन वेस्ट वर्जिनिया में एना जॉर्विस द्वारा सभी माताओं और उनके गौरवमयी मातृत्व को सम्माने देने के लिए शुरू किया गया था.

यह भी पढ़े: अभी अभी: राष्ट्रपति चुनाव के लिए मोदी के गुजरात से सोनिया ले आईं ये ऐसा चेहरा कि उड़े सबके होश

3. इसकी शुरुआत मां के द्वार परिवार और रिश्तों के आपसी संबधों को  और सम्मान मिल सके इसलिए भी किया गया.

4. मदर्स डे दुनिया के हर कोने में अलग-अलग दिनों में मनाया जाता हैं. इस दिन कई देशों में विशेष अवकाश घोषित किया जाता है.

5. कुछ विद्वानों का दावा है कि मां के प्रति सम्मान यानी मां की पूजा का रिवाज पुराने ग्रीस से आरंभ हुआ था. कहा जाता है कि स्य्बेले ग्रीक देवताओं की मां थीं, उनके सम्मान में यह दिन मनाया जाता था.

6. एशिया माइनर के आस-पास और साथ ही साथ रोम में भी वसंत के आस-पास इदेस ऑफ मार्च 15 मार्च से 18 मार्च तक मनाया जाता था.

7. इंग्लैंड में 17वीं शताब्दी में 40 दिनों के उपवास के बाद चौथे रविवार को मदर्स डे मनाया जाता था। इस दौरान लोग चर्च में प्रार्थना के बाद छोटे बच्चे फूल या उपहार लेकर अपने-अपने घर जाते थे.

8. अलग-अलग तारीखों पर दुनिया के लगभग 46 देशों में इसे मनाया जाता है.

9. भारत में मदर्स डे हर साल मई के दूसरे रविवार को मनाया जाता है.

10. अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस(international women’s day) के दिन कई देशों में Mother’s Day के रूप में सेलिब्रेट किया जाता है.

 

You may also like

प्यार जताने के लिए Kiss के 7 असरदार तरीके

लफ्जों के बगैर प्यार जताने और अपने जज्बात