Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > बड़ीखबर : उन्नाव रेप केस के आरोपी विधायक कुलदीप सेंगर का नार्को टेस्ट करा सकती है CBI

बड़ीखबर : उन्नाव रेप केस के आरोपी विधायक कुलदीप सेंगर का नार्को टेस्ट करा सकती है CBI

लखनऊ: उन्नाव रेपकांड में सबूत जुटाने के लिए सीबीआई सोमवार (16 अप्रैल) को आरोपी विधायक कुलदीप सेंगर और शशि को लेकर उन्नाव जाएगी. दोनों को लेकर वारदात स्थल पर ले जाया जा सकता है. पीड़िता से भी आमना-सामना कराया जा सकता है. सीबीआई विधायक कुलदीप सेंगर का नार्को और पॉलीग्राफ टेस्ट के लोए देगी कोर्ट में अर्जी दी गई है. विधायक कुलदीप सेंगर लगातार बयान बदल रहा है. सवालों के अलग-अलग सेट बनाये गए हैं. आरोपी विधायक एक ही सवाल के अलग-अलग टीम को अलग-अलग जवाब दे रहे हैं.बड़ीखबर : उन्नाव रेप केस के आरोपी विधायक कुलदीप सेंगर का नार्को टेस्ट करा सकती है CBI

आरोपी MLA की पत्नी भी चाहती हैं नार्को टेस्ट
उन्नाव की युवती के पिता की हिरासत में मौत के दो दिन बाद आरोपी विधायक की पत्नी उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक से मिलीं और अपने पति तथा पीडित युवती का नार्को टेस्ट कराने की मांग की. युवती ने विधायक पर बलात्कार का आरोप लगाया है.

बीजेपी विधायक कुलदीप सेंगर की पत्नी संगीता सेंगर ने पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह से मुलाकात के बाद संवाददाताओं से कहा, ‘हमारी मांग है कि मेरे पति और लड़की एवं उसके चाचा का नार्को टेस्ट कराया जाए. इससे सच्चाई का पता लग सकेगा और सही तस्वीर सामने आएगी. हमारी लडकी के साथ पूरी सहानुभूति है. इसके पीछे राजनीतिक वजह है और मेरे पति को मोहरा बनाया गया है.’

आरोपी MLA की पत्नी ने पति को बलात्कारी कहे जाने से नाराज
उन्होंने कहा, ‘मेरे पति निर्दोष हैं और मेरा अनुरोध है कि उन्हें बलात्कारी ना कहा जाए. वह पिछले 15 साल से राजनीति में हैं और समाज एवं जनता का सेवा कर रहे हैं. इस घटना के कारण मेरी बेटियां पढ़ाई में ध्यान नहीं लगा पा रही हैं.’ संगीता ने कहा कि उनके देवर अतुल पर लगाये गये आरोप भी झूठे हैं. कथित बलात्कार पीडिता एक सा बयान नहीं दे रही है.

यह पूछने पर कि क्या उनके पति को विधानसभा से इस्तीफा देना चाहिए, संगीता ने कहा, ‘दोषी साबित होने से पहले ही वह पद क्यों छोडें. केवल आरोपों के आधार पर वह इस्तीफा क्यों दें.’ उन्होंने कहा कि वह मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलकर उन्हें सच्चाई बताना चाहती थीं.

रेप पीड़िता ने CM हाउस के बाहर जान देने की कोशिश की थी
विधायक की पत्नी और कथित बलात्कार पीड़िता दोनों ने ही पूरे प्रकरण की सीबीआई जांच की मांग की है. बलात्कार पीडिता ने मुख्यमंत्री आवास के पास आत्मदाह करने का प्रयास किया था. उसका कहना है कि उसके पिता के बड़े भाई की हत्या भी विधायक के भाई और गुर्गों ने की थी. अब उसके पिता की हत्या भी इन्हीं लोगों ने की है.

पीड़िता का आरोप, प्रशासन ने मुझे कैद किया
युवती का दावा है कि उन्नाव जिला प्रशासन ने वस्तुत: उसे एक होटल में कैद कर दिया था, जहां ना तो कोई फोन था और ना ही पानी. हर कोने पर सुरक्षाकर्मी लगे थे.

युवती ने एक समाचार चैनल से कहा, ‘मैं अपना मोबाइल नहीं चार्ज कर सकती थी. कोई टीवी नहीं था. हम बाहर नहीं जा सकते.’ उसने कहा, ‘हमसे बताया गया कि हम बाहर नहीं जा सकते. हर कोने पर गार्ड हैं. जब हमने उनसे मदद के लिए कहा तो उन्होंने कहा कि ये उनका काम नहीं है. क्या यही न्याय है, मैं न्याय चाहती हूं. वे क्यों मुझ पर माफी मांगने का दबाव बना रहे हैं? क्या वे मेरे चाचा को भी मारना चाहते हैं?’ विधायक के भाई अतुल को कल उन्नाव से क्राइम ब्रांच की टीम ने गिरफ्तार किया था.

पीड़िता के परिजनों को मिली सुरक्षा
अपर पुलिस महानिदेशक (लखनउ जोन) राजीव कृष्णा के नेतृत्व वाली विशेष जांच टीम (एसआईटी) बलात्कार पीडिता के गांव माखी गयी और सूचनाएं एकत्र कीं. टीम को मुख्यमंत्री को रिपोर्ट सौंपनी है.

कृष्णा ने कहा कि एसआईटी प्रकरण के सभी पहलुओं की जांच करेगी और तदनुसार कार्रवाई करेगी. पीड़िता के परिवार वालों को सुरक्षा मुहैया करा दी गयी है.

पीड़िता के पिता को राइफल के बट से पीटा गया
इस बीच समाचार चैनलों ने कथित बलात्कार पीड़िता के पिता का बयान वायरल किया है, जो उनकी मौत के पहले का है. वीडियो में वह दावा कर रहे हैं कि उन्हें विधायक के भाई ने बेरहमी से पीटा. भाई ने अन्य लोगों के साथ मिलकर उन्हें राइफल की बट से बुरी तरह मारा. चैनलों ने मृतक के पीठ की तस्वीरें भी जारी की हैं, जिनमें घाव के निशान साफ नजर आ रहे हैं.

इस बीच सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि वह उन्नाव गैंगरेप प्रकरण की सीबीआई जांच कराने की मांग करने वाली याचिका पर अगले सप्ताह सुनवाई करेगा. उधर इलाहाबाद हाईकोर्ट ने शनिवार को आदेश दिया कि मृतक का दाह संस्कार नहीं करना चाहिए, अगर हो ना गया हो तो. मृतक का दाह संस्कार हालांकि कल कर दिया गया था. 

कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को बर्खास्त करने की मांग की है. उनकी सरकार को ‘रावण’ करार दिया है. कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने नयी दिल्ली में कहा, ‘योगी आदित्यनाथ सरकार रावण की सरकार है जो महिलाओं की सुरक्षा करने में विफल रही.’

Loading...

Check Also

राम मंदिर को लेकर उमा भारती ने दिया ये बड़ा बयान...

राम मंदिर को लेकर उमा भारती ने दिया ये बड़ा बयान…

राम मंदिर निर्माण का मामला भले ही सुप्रीम कोर्ट में हो बावजूद इसके लगातार सरकार …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com