उन्होंने स्पष्ट करते हुए कहा कि कैसे अली का व्यवहार ‘महिलाओं के प्रति उनके असम्मान के आभाव को दिखाता है.’

लीना गनी ने लिखा, “गलत तरीके से छूने, दबोचने और यौन टिप्पणी करने को हास्य और अभद्रता के बीच के अस्पष्ट क्षेत्र में नहीं डालना चाहिए. आपको वस्तु की तरह पेश करने वाले टिप्पणी, आपकी चमड़ी में सिहरन पैदा करने वाली टिप्पणी को ‘एक मजाक’ नहीं माना जा सकता है. इस तरह के व्यवहार से महिलाओं को ठेस पहुंचती है.”

उन्होंने कहा, “शफी अकेली नहीं है.” लीना ने कहा, “उस समय की वे यादें, जिसमें अली को लगता था कि वह अभद्र चीजें कहकर चला जाएगा, मुझे आज भी उन्हें सोचकर बुरा लगता है.”

एक पत्रकार माहम जावेद ने भी ‘वर्षो पहले’ की एक घटना के बारे में बताया, जब ‘अली ने उनकी एक रिश्तेदार का चुंबन लेने की कोशिश की थी और उसे एक रेस्टरूम में खींच लिया था.’

ब्लॉगर हुमना रजा ने भी अली पर एक सार्वजनिक समारोह में उन्हें गलत तरीके से छूने का आरोप लगाया.

मीशा शफी ने गुरुवार शाम को ट्वीट कर कहा था कि अली जफर ने एक से अधिक बार उनका यौन उत्पीड़न किया था. यह पहली ऐसी घटना है जिसमें पाकिस्तान की एक सेलेब्रिटी ने अपने सहकर्मी के बारे में खुलकर ऐसा आरोप लगाया है.

अली ने गुरुवार को ही शफी की बात खंडन किया था और कहा था कि वह कानून के जरिए इसका जवाब देंगे.

उन्होंने ट्वीट कर कहा था, “मैं यह काफी विश्वास करता हूं कि सच की हमेशा जीत होती है.”

हालांकि, पाकिस्तान का मनोरंजन जगत इस मुद्दे पर अधिक बोल नहीं रहा है लेकिन कुछ आवाजें अली जफर के पक्ष में भी सामने आई हैं. अभिनेत्री माया अली ने इंस्टाग्राम पर लिखा कि वह अली का सम्मान करती हैं और हमें किसी के चरित्र पर तब तक कोई फैसला नहीं करना चाहिए जब तक सच सामने न आ जाए.

बता दें कि अली जफ़र ने बॉलीवुड में कई बड़े स्टार्स के साथ काम किया है जिनमें शाहरुख़ खान, कैटरीना कैफ जैसे सितारे हैं.