चिदंबरम बोले- वित्त मंत्री जेटली हुए फ्लॉप, अगर मैं होता तो इस्तीफा दे देता

नोटबंदी, वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) और आर्थिक मामलों को लेकर पूर्व वित्तमंत्री पी चिदंबरम ने केंद्र सरकार पर एक बार फिर निशाना साधा है। उन्होंने वित्तमंत्री अरुण जेटली को फ्लॉप बताया और कहा कि मैं उनकी जगह होता तो इस्तीफा दे देता।
चिदंबरम भारत चैंबर ऑफ कॉमर्स के एक कार्यक्रम में पहुंचे थे, जहां उन्होंने चर्चा के दौरान कहा कि केंद्र सरकार राजकोषीय घाटे को कम करने में फेल रही है। चिदंबरम ने कहा, ‘बजट 2018-19 की वजह से आने वाले दिनों में महंगाई और बढ़ेगी।’

उन्होंने कहा कि सरकार को कच्चे तेल के कीमतों में कमी का फायदा मिल रहा है, लेकिन आम आदमी इस सुख से बहुत दूर है। उन्होंने अनुमान लगाया कि राजकोषीय घाटा जीडीपी का 3.3 फीसदी रहेगा। इतना ही नहीं राजस्व और व्यय की हालत ठीक न होने की वजह से लक्ष्य पाना मुश्किल होगा।

‘ये वो जीएसटी नहीं जो हम लाना चाहते थे’

चिदंबरम ने कहा कि मोदी सरकार वो जीएसटी नहीं लेकर आई है, जो कांग्रेस लाना चाहती थी। कांग्रेस 18 टैक्स के प्रावधान लेकर आने वाली थी, लेकिन ऐसा नहीं हो पाया है। बजट को लेकर इससे पहले भी कई बार चिदंबरम सवाल खड़े कर चुके हैं। उन्होंने कहा था कि सरकार ने बजट में मिडिल क्लास को कोई राहत नहीं दी। एनडीए सरकार को मेहनतकश मिडिल क्लास पर ज्यादा टैक्स लगाने की बजाय अमीर घरानों पर ज्यादा टैक्स लगाना चाहिए।

उन्होंने आगे कहा ‘मौजूदा सरकार को भविष्य में आंकड़ों से छेड़छाड़ कर तथ्यों को बढ़ा चढ़ाकर पेश करने वाली सरकार कहा जाएगा। सरकार जीडीपी बढ़ने का दावा पेश करती है लेकिन दूसरी तरफ देश में रोजगार हर दिन घट रहे हैं।’

You may also like

ऐसे भारत से भागा था विजय माल्या: CBI ने किया खुलासा..

  सूत्रों ने कहा कि पहले सर्कुलर में