Loan Moratorium: क्या आज आयेगा आपके अकाउंट में पैसा, यहां जानें सब कुछ…

नई दिल्ली। देशभर में फैले कोरोना वायरस के बीच रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने लोन लेने वाले ग्राहकों को मोरेटोरियम (Loan Moratorium) की सुविधा दी थी। ये सुविधा मार्च 2020 से अगस्त 2020 तक के लिए दी गई थी। रिजर्व बैंक (RBI) ने सभी बैंकों को ये आदेश दिया था कि 5 नवंबर तक चक्रवृद्धि ब्याज (compound interest) और साधारण ब्याज (simple interest) के अंतर का जो भी पैसा है, वो खाताधारकों को लौटा दें, लोन मोराटोरियम (Loan Moratorium) मामले में बैंकों को ब्याज पर ब्याज (Interest on interest) का पैसा खाताधारकों को अकाउंट में वापस करना है।

क्या है सरकार की स्कीम?

सरकार के एक निर्देश के बाद, भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने बैंकों को ब्याज के भूतपूर्व भुगतान के कार्यान्वयन को 5 नवंबर तक पूरा करने का निर्देश दिया था। बदले में भारतीय स्टेट बैंक में 15 दिसंबर तक अपने-अपने दावे कर सकते हैं। सरकार इन बैंकों की भरपाई करेगी।

कौन-कौन ले सकता है इस स्कीम का फायदा?

जिन ग्राहकों ने 2 करोड़ रुपये तक का लोन लिया है और जिन्होंने मोरेटोरियम का फायदा लिया हो या नहीं लिया है उन्हें भी पेमेंट किया जाएगा। बता दें कि एजुकेशन लोन, क्रेडिट कार्ड ड्यूज, कार लोन, पर्सनल लोन, होम लोन, कंजम्‍पशन लोन, कंज्‍यूमर ड्यूरेबल लोन और एमएसएमई लोन इस स्‍कीम के तहत पात्र हैं।

क्या बढ़ाई जाएगी इस योजना की समय सीमा?

कई उधारदाताओं का मानना है कि उधारकर्ताओं को भुगतान करने के लिए दिया गया समय बहुत कम है। पूरी प्रक्रिया के लिए पात्र उधारकर्ताओं की पहचान करने और सही राशि की गणना करने के लिए बहुत समय की आवश्यकता होती है। वहीं, एक अधिकारी ने कहा कि यह समय सीमा बहुत कम है। लोन लेने वाले ग्राहक उम्मीद कर रहे हैं कि सरकार और आरबीआई उनके लिए योजना को लागू करने के लिए अधिक समय देंगे।

कब हुआ था मोरेटोरियम का ऐलान?

भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) ने मार्च में छह महीने के मोरेटोरियम की घोषणा की थी, जिससे कोरोना वायरस के प्रभाव से बचाया जा सके, मोरेटोरियम की छह महीने की अवधि के दौरान बंद हुए लोन अकाउंट भी राहत के पात्र माने जाएंगे। ऐसे मामलों में ब्याज अंतर की गणना 1 मार्च से लोन खातों के बंद होने की तारीख तक किया जाएगा।

अब कर्जदारों को क्या करना चाहिए?

बैंकरों और एनबीएफसी अधिकारियों के अनुसार, यदि वे ग्राहक जो चक्रवृद्धि ब्याज वापसी के पात्र हैं, तो उन्हें 5 नवंबर तक बैंक से अपडेट मिलेगा। उन्हें आगे की जानकारी के लिए व्यक्तिगत उधारदाताओं के संपर्क में रहना होगा। ग्राहक बैंकों के ग्राहक सेवा प्रभागों से भी संपर्क कर सकते हैं और स्थिति को समझ सकते हैं।

उधारकर्ता खातों में कितनी राशि को जमा किया जाएगा?

सरकार की योजना के अनुसार, बैंक पात्र उधारकर्ताओं के खातों में सरल ब्याज और चक्रवृद्धि ब्याज (1 मार्च से 31 अगस्त तक) के बीच अंतर देंगे, इसकी गणना व्यक्तिगत खातों पर की जानी है।

क्या यह राशि लोन में समायोजित हो जाएगी?

यह अभी तक स्पष्ट नहीं है कि यह राशि लोन राशि में समायोजित की जाएगी या उधारकर्ताओं के खाते में अलग से जमा की जाएगी। व्यक्तिगत बैंक उधारकर्ता से सहमति लेने के बाद इस पर काम करेंगे।

क्या आप इस योजना का लाभ लेने के लिए अयोग्य हैं?

इस योजना का पात्र होने के लिए लोन 29 फरवरी 2020 तक एक गैर-निष्पादित परिसंपत्ति (NPA) नहीं होनी चाहिए। इसलिए, यदि आपका लोन उस तारीख तक एनपीए की श्रेणी में है, तो आप इस योजना के पात्र नहीं हैं।

आपने मोरेटोरियम का लाभ नहीं उठाया, क्या अब भी आपको लाभ मिलेगा?

हां, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है कि उधारकर्ता ने छह महीने के लिए मोरेटोरियम का लाभ उठाया है या नहीं, या फिर आंशिक रूप से लाभ उठाया है (पहले तीन महीनों के लिए कहें) या बिल्कुल भी लाभ नहीं उठाया है। बैंकों को 29 फरवरी तक ब्याज की दर के आधार पर जमा की जाने वाली राशि की गणना करनी होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button