यूपी में एक दिन बिकी 100 करोड़ रुपए से ज्यादा की शराब…

लॉकडाउन के तीसरे चरण में शराब की दुकानें खुलीं तो लोग इस कदर टूट पड़े जिससे कोरोना वायरस के फैलने की आशंका पैदा हो गई है। उत्तर प्रदेश के लगभग सभी जिलों में सोमवार को शराब की दुकानों पर कई किलोमीटर लंबी लाइनें देखने को मिली। लोग तड़के सुबह से ही शराब की दुकानों के बाहर इकट्ठा होना शुरू गए थे।

न्यूज एजेंसी आईएएनएस के अनुसार, उत्तर प्रदेश में लॉकडाउन-3 के पहले दिन 100 करोड़ रुपए से अधिक की शराब की बिक्री हुई। राज्य के आबकारी विभाग के अधिकारियों ने बताया कि अकेले राजधानी लखनऊ में 6.3 करोड़ रुपए की शराब की बिक्री हुई है। आबकारी विभाग में प्रधान सचिव संजय भूसरेड्डी ने आईएएनएस को बताया कि मुझे नहीं लगता कि एक लाख से कम कार्यबल वाला कोई एक उद्योग होगा जो एक दिन में 100 करोड़ रुपये (राज्य के खजाने को) देता है। सामान्य समय में राज्य में शराब की औसत बिक्री लगभग 70-80 करोड़ रुपये की है।

प्रयागराज में बिक गई पांच करोड़ रुपये की शराब
प्रयागराज में 43 दिनों बाद शराब की दुकानें खुलीं तो लंबी कतारें लग गईं। एक ही दिन में जिले के लोगों ने पांच करोड़ रुपये की शराब की खरीद की है। आमतौर पर प्रयागराज में रोजाना औसतन दो करोड़ रुपये की शराब की बिक्री होती है। यानी बंदी के बाद लोगों ने ढाई गुना अधिक शराब खरीदी।

सात दिनों तक पुरानी दर पर बिकेगी शराब
शराब अगले सात दिनों तक पुरानी दर पर ही बिकेगी। इसका दो कारण है एक तो अभी नए रेट लगे नहीं है और दूसरे गोदामों में भी माल भरा है। ऐसे में गोदामों से भी माल का क्लीयर होना जरूरी है। जिला आबकारी अधिकारी संदीप बिहारी मोडवेल का कहना है कि सात दिनों तक रेट में कोई बदलाव नहीं किया जाएगा।

शराब की दुकानों पर नजर रखेगी स्थानीय पुलिस
शराब की दुकानों पर उमड़ी भीड़ से सबक लेते हुए प्रशासन ने सख्ती करने का निर्देश देते हुए कहा कि दुकानों के बाहर यदि सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं हुआ तो कार्रवाई होगी। उन्होंने कहा कि शराब की दुकानों पर स्थानीय पुलिस नजर रखेगी। इसके अलावा उड़का दस्तों का भी गठन किया गया है। ये अचानक अलग अलग स्थानों पर दुकानों का निरीक्षण करेंगे।

Ujjawal Prabhat Android App Download Link
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button