इस वजह से अप्रैल के आखिरी 3 दिन हो सकती है कैश की बड़ी किल्लत

कैश की किल्लत के बीच बैंकों की लंबी छुट्टी आने वाली है. महीने के आखिर में बैंक लगातार तीन दिन बंद रहेंगे. इसका सीधा असर एटीएम सेवाओं से लेकर बैंकिंग सर्विसेज पर पड़ सकता है. बैंक 28 से 30 अप्रैल तक लगातार 3 दिन बंद रहेंगे. ऐसे में एक बार फिर से लोगों को नकदी की समस्या का सामना करना पड़ सकता है. पिछले दिनों करीब 8 राज्य दिल्ली-एनसीआर, उत्तर प्रदेश, गुजरात, बिहार, तेलंगाना, झारखंड, महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश में नकदी का संकट रहा. एटीएम में कैश नहीं होने की शिकायतें मिली थीं.

कैश की किल्लत

बैंकों के तीन दिन बंद रहने से कैश की यह किल्‍लत और बढ़ सकती है. पिछले कई दिनों से देशभर के कई हिस्‍सों में एटीएम से लेकर बैंक ब्रांचों तक में कैश की किल्‍लत के कारण लोगों को भारी समस्‍या का सामना करना पड़ है. हालांकि, सरकार ने इस समस्‍या को कम करने के लिए कई उपाय कर रही है. लेकिन, परेशानियां अभी भी बनी हुई हैं. वैसे तो लंबी छुट्टियां होने पर बैंक की ओर से अतिरिक्त कैश के इंतजाम किए जाते हैं, लेकिन इस बार स्थितियां कुछ अलग हैं.

3 दिन बंद रहेंगे बैंक

फटाफट : शाम 5 बजे तक की 25 बड़ी ख़बरें

अप्रैल के आखिरी तीन दिन बैंक बंद होंगे. 28 अप्रैल को महीने का चौथा शनिवार होने से बैंकों में छुट्टी रहेगी. 29 अप्रैल को साप्ताहिक अवकाश के चलते बैंक बंद रहेंगे. इसी तरह 30 अप्रैल को सरकार की ओर से बुद्ध पूर्णिमा पर अवकाश घोषित है, इससे सभी बैंक बंद रहेंगे. बुद्ध पूर्णिमा का यह अवकाश कोषागारों के लिए भी होता है. इस तरह शुक्रवार यानी 27 अप्रैल तक ही एटीएम में कैश डाला जा सकेगा. वैसे भी इन दिनों एटीएम में क्षमता से काफी कम कैश ही चल रहा है. हर महीने के दूसरे और चौथे शनिवार को बैंक बंद रहते हैं. सितंबर 2015 से ये व्यवस्था लागू है. बैंक कर्मचारियों की मांगें मानते हुए सरकार ने इसे लागू किया था. 

फिर खाली हो सकते हैं एटीएम

तीन दिन छुट्टी होने की वजह से शुक्रवार के बाद एटीएम में कैश नहीं डाला जाएगा. ऐसे में लोगों को एक बार फिर पेरशानियों का सामना करना पड़ सकता है. देश के कई हिस्सों में एटीएम खाली होने पर सरकार को कई बार सफाई देनी पड़ी थी. आरबीआई और एसबीआई ने भी कैश की किल्लत नहीं होने की बात कही थी. साथ ही जिन इलाकों से शिकायतें मिल रही थीं वहां अतिरिक्त कैश भी भेजा गया था.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

अपने जीन्स में मौजूद कैंसर के खतरे से अनजान हैं 80 फीसदी लोग

दुनिया भर में कैंसर के मामलों में तेजी