कोहली ने टी-20 टीम से कप्तानी छोड़ने का किया फैसला

रोहित को कप्तान बनाए जाने की मजबूत वजहें

भारतीय क्रिकेट टीम से जुड़ी एक बड़ी खबर सामने आ रही है। दरअसल, आगामी टी-20 वर्ल्ड कप के बाद भारतीय कप्तान विराट कोहली ने टी-20 टीम से कप्तानी छोड़ने का फैसला किया है। विराट ने गुरुवार को सोशल मीडिया के जरिए अपनी कप्तानी छोड़ने की बात कही।

विराट के कप्तानी छोड़ने का साफ मतलब ये है कि उनके बाद अनुभवी सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा को इस फॉर्मेट के लिए टीम का नया कप्तान बनाया जा सकता है।

रोहित को कप्तान बनाए जाने की मजबूत वजहें
पहली: पिछले दो सालों से क्रिकेट की दुनिया के कई जानकार पहले ही कई बार ये बात कह चुके हैं कि टी-20 फॉर्मेट की कमान हिटमैन यानी रोहित के हाथों में सौंप देनी चाहिए, क्योंकि इस फॉर्मेट में उनका जीत प्रतिशत 78.94 रहा है।

दूसरी: 2013 में मुंबई इंडियंस ने टूर्नामेंट के बीच में रिकी पोंटिंग से कप्तानी लेकर रोहित शर्मा को कमान सौंप एक बड़ा दांव खेला था। मुंबई का यह दांव टीम के काम आया और फ्रेंचाइजी पहली बार ट्रॉफी जीतने में सफल रही। इसके बाद रोहित ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। रोहित 5 आईपीएल ट्रॉफी जीत चुके हैं। रोहित ने मुंबई को 2013, 2015, 2017, 2019 और 2020 के IPL खिताब जिताए।

रोहित ने श्रीलंका सीरीज, निदहास ट्रॉफी और एशिया कप जिताया

2017 में रोहित शर्मा को पहली बार भारतीय टीम की कप्तानी करने का मौका मिला था। उस समय श्रीलंका के खिलाफ घरेलू सीरीज में विराट कोहली को रेस्ट दिया गया था और रोहित को टीम की कमान मिली थी। इंडिया ने ये वनडे सीरीज 2-1 से जीती थी। 2018 में रोहित ने अपनी कप्तानी में भारत को पहले निदहास ट्रॉफी जिताई और उसके बाद उसी साल एशिया कप जिताने में सफल रहे।
अभी तक 19 इंटरनेशनल टी-20 में भारतीय ओपनर ने कप्तानी करते हुए 15 में जीत दर्ज की, जबकि सिर्फ 4 में टीम को हार का सामना करना पड़ा। वनडे फॉर्मेट में भी रोहित ने 10 मैचों में कप्तानी करते हुए 8 में सफलता हासिल की और मात्र 2 मैच हारे।
कोहली रहे लगातार फ्लॉप

2012 में विराट को RCB का कप्तान बनाया गया था, लेकिन 9 सालों में वह एक बार भी टीम को ट्रॉफी नहीं जिता सके। 2016 एकमात्र ऐसा मौका रहा था, जब कोहली की टीम फाइनल में पहुंची थी, मगर तब भी टीम के खिताब जीतने का सपना साकार नहीं हो सका और सनराइजर्स हैदराबाद बाजी मारने में सफल रही।
विराट कोहली को ही 2017 में टीम के लिमिटेड ओवर का कप्तान भी बनाया गया था। अभी तक 45 टी-20 इंटरनेशनल मैचों में से 27 में उन्होंने जीत दर्ज की, जबकि 14 में टीम को हार का मुंह देखना पड़ा। 2 मैच के नतीजे नहीं आ सके और दो मुकाबले टाई रहे।

एक दिवसीय में कोहली ने 95 मैचों में टीम की कमान संभाली और 65 मुकाबले जीतने में सफल रहे। 27 में टीम को हार मिली और एक टाई और 2 का नतीजा नहीं आया।
कोहली की कप्तानी में भारत को 2017 की ICC चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल, 2019 के वनडे वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल और वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप 2021 के फाइनल में हार मिली।

अचानक फ्रांस ने अपने नागरिकों से अफगानिस्तान छोड़ने को कहा, तालिबान के बढ़ते खतरे को देखते हुए…

शतकों में भी कोहली से आगे हैं रोहित
पिछले 5 सालों की बात करें तो टी-20 और वनडे क्रिकेट में विराट कोहली ने कुल 17 शतक लगाए हैं, जबकि रोहित शर्मा के बल्ले से दोनों फॉर्मेट में कुल 22 शतक देखने को मिले हैं। 2020 की शुरुआत से तो विराट के बल्ले से एक भी शतकीय पारी देखने को नहीं मिली है।

News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

7 − 6 =

Back to top button