Home > धर्म > जानिए हथेली में बनने वाले इन 10 निशानों का क्या होता है फल

जानिए हथेली में बनने वाले इन 10 निशानों का क्या होता है फल

थेली में कभी-कभी रेखाओं से कुछ विशेष निशान बन जाते हैं। हस्तरेखा ज्योतिष के अनुसार रेखाओं के बने इन निशानों का असर हमारे जीवन पर भी होता है। कुछ निशान शुभ होते हैं और कुछ निशान अशुभ होते हैं। यहां जानिए हथेली में बनने 10 खास निशान और उनसे मिलने वाले शुभ-अशुभ फल…

मंदिर : यदि किसी व्यक्ति के हाथ में मंदिर जैसा निशान बन जाए तो समझ लेना चाहिए कि वह सर्वश्रेष्ठ पद प्राप्त करेगा और हर ऐश-आराम ऐसे लोगों को मिलेगा।

त्रिशूल : त्रिशूल का निशान भाग्यशाली लोगों के हाथ में होता है। इस निशान के असर से व्यक्ति जीवन में सभी सुख सुविधाएं और मान-सम्मान प्राप्त करता है।

अंडाकार : अंडाकार निशान हथेली में जिस पर्वत पर या रेखा पर होता है, उसका शुभ असर कम करता है। आमतौर पर ये निशान अच्छा नहीं माना जाता है।

रथ : जिस व्यक्ति के हाथ में रथ का निशान होता है, वह किसी राजा के समान जीवन जीता है। आमतौर पर किसी राजा के हाथ में रथ बनता है।

तलवार : तलवार के निशान को अशुभ माना जाता है, उन्हें जीवन में कई प्रकार के संघर्षों का सामना करना पड़ता है।

स्वस्तिक : स्वस्तिक पूजनीय और पवित्र चिन्ह है। जिन लोगों के हाथ में स्वस्तिक बन जाता है, वे धर्म के क्षेत्र में कार्य करते हैं। समाज में मान-सम्मान प्राप्त करते हैं।

जानिए, कैसे बनी गांधारी 101 संतानो की माता

वृक्ष : हथेली में जिस रेखा या पर्वत पर वृक्ष बन जाता है, उसके शुभ फलों को बढ़ा देता है। ये बहुत शुभ निशान माना जाता है।

हाथी : जिन लोगों के हाथ में हाथी (गज़) का निशाँ बन जाता है, उन्हें गणेशजी की कृपा से सभी राजकीय सुख और सुविधाएं मिलती है।

मछली : मछली के निशान को चमत्कारिक माना जाता है। जिन लोगों के हाथ में ये निशान बन जाता है, उनके जीवन में कई चमत्कारिक घटनाएं होती है।

झंडा : हथेली में झंडा बनना मतलब व्यक्ति को हर क्षेत्र में जीत मिलना। ऐसे लोग कोर्ट-कचहरी और किसी तरह के वाद-विवाद में जीत हासिल करते हैं

Loading...

Check Also

चरण स्पर्श करने के पीछे आखिर क्या है वजह? जानिए...

चरण स्पर्श करने के पीछे आखिर क्या है वजह? जानिए…

हमारे भारत देश में ऐसी बहुत सी परंपराएं हैं जो प्राचीन काल से चली आ …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com