केजरीवाल ने खैहरा के खिलाफ खेला दलित कार्ड

चंडीगढ़। पंजाब में दोफाड़ हो चुकी आम आदमी पार्टी ने अब सुखपाल सिंह खैहरा व बैंस ब्रदर्स के खिलाफ दलित कार्ड खेला है। पार्टी सुप्रीमो अरविंद केजरीवाल ने लोक इंसाफ पार्टी के प्रधान सिमरजीत सिंह बैंस से मांग की है कि वह दलितों से माफी मांगें। बैंस ने भी केजरीवाल की मांग का करारा जवाब देते हुए कहा है कि केजरीवाल इतनी गिरी हुई हरकत कर सकते हैं, यह उन्हें उम्मीद नहीं थी। उन्होंने आरोप लगाया है कि केजरीवाल पंजाब में समाज को बांटने की घटिया राजनीति कर रहे हैं।केजरीवाल ने खैहरा के खिलाफ खेला दलित कार्ड

विधानसभा चुनाव से पहले लोक इंसाफ पार्टी के साथ आप ने गठबंधन किया था। लोक इंसाफ पार्टी के दो विधायक हैं। पार्टी के प्रधान सिमरजीत सिंह बैंस व खैहरा की राजनीति एक ही दिशा में चलती रही है। यही वजह है कि दोनों के सियासी रिश्ते भी मजबूत हैं। खैहरा को नेता प्रतिपक्ष के पद से हटाए जाने के बाद आप के फैसले का बैंस ने खुलकर विरोध किया था।

उन्होंने केजरीवाल के मजीठिया से माफी मांगने के बाद ही गठबंधन तोड़ लिया था। उसके बाद भी खैहरा के साथ उनके सियासी रिश्ते पहले से भी ज्यादा मजबूत हो गए थे। अब दो गुटों में बंटने के बाद आप ने दलित कार्ड खेलकर खैहरा की कन्वेंशन को फ्लाप करने व बैंस को दलित विरोधी नेता के रूप में पहचान देने की कोशिश कर एक तीर से दो निशाने साधे है।

समाज को बांटने का काम कर रहे केजरीवाल : बैंस

बैंस ने पलटवार कर कहा है कि केजरीवाल समाज को बांटने का काम कर रहे हैं। इतनी गिरी हुई हरकत की उम्मीद उनसे नहीं थी। दलित भाईचारा उन्हें अच्छी तरह से जानता है कि उन्होंने दलित भाईचारे के लिए कितना काम किया है। उन्हें केजरीवाल के प्रमाणपत्र की जरूर नहीं है। पंजाब से खत्म हो चुकी आप अब दलित कार्ड खेलकर अपने पैर जमाने की कोशिश कर रही है।  

भितरघात का शिकार हो सकते हैं खैहरा

बेशक 2 अगस्त को खैहरा के समर्थक विधायकों ने बठिंडा में कन्वेंशन बुलाई है लेकिन इसकी सफलता इसमें आने वाली भीड़ पर निर्भर करती है। इस कन्वेशन में खैहरा भितरघात का शिकार भी हो सकते हैं क्योंकि उनके समर्थन में आए आठ विधायकों में से तीन विधायक अब भी लगातार दिल्ली हाईकमान के संपर्क में हैं। खैहरा ने कन्वेंशन की जगह भी बठिंडा में इसीलिए चुनी थी कि क्योंकि मालवा से ज्यादातर विधायक हैं और दलितों की संख्या भी इसी क्षेत्र में ज्यादा है। अगर खैहरा के साथी विधायकों में से कुछ भितरघात कर गए तो सफलता को ग्रहण लग सकता है।

कन्वेशन पार्टी विरोधी: डा. बलबीर

पार्टी के कार्यकारी प्रधान डा. बलबीर सिंह ने सिसोदिया के साथ बैठक के बाद स्पष्ट किया है कि 2 अगस्त को हो रही कन्वेंशन पार्टी विरोधी है। पार्टी का इससे कोई लेना देना नहीं है। डा. सिंह ने कहा कि खैहरा ने हाईकमान को चुनौती देने के लिए यह कन्वेंशन बुलाई है। इसमें आप का कोई भी सक्रिय कार्यकर्ता शामिल नहीं होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

मध्यप्रदेश चुनाव : कल भाजपा आयोजित करेगी ‘कार्यकर्ता महाकुंभ’, PM मोदी समेत कई बड़े नेता होंगे शामिल

मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनाव तेजी से नजदीक आ