कलयुगी बेटे शर्मनाक करतूत, नौकरी के लिए पिता की हत्‍या की कोशिश

- in बिहार, राज्य

कहते हैं मां-बाप धरती पर ईश्‍वर के रूप होते हैं। अपने बच्‍चों की खातिर वे अपनी सभी इच्‍छाएं कुर्बान कर देते हैं। लेकिन जब वही बेटा बड़ा होकर जब अपने पिता की हत्‍या की सोचे, तो इससे शर्मनाक बात क्‍या हो सकती है। ताजा मामला बिहार के मुंगेर जिले का है, जहां नौकरी के लिए बेटे ने ही अपने पिता की हत्‍या की साजिश रची।

मुंगेर के मुंगरौड़ा मस्जिद अली निवासी रेलकर्मी ओमप्रकाश मंडल की हत्या की साजिश उनके छोटे बेटे ने ही रची थी। इसके लिए उसने दो लाख रुपये में भाड़े के हत्यारों से सौदा किया था। पुलिस सूत्रों के मुताबिक, ओमप्रकाश मंडल 30 अप्रैल को रिटायर होने वाले हैं। छोटा बेटा उनकी हत्या कर आश्रित के रूप में रेलवे में नौकरी पाना चाहता था। इसके लिए उसने हत्‍या की साजिश रची। लेकिन ओमप्रकाश मंडल बाल-बाल बच गए। मामले में पुलिस रेलकर्मी के पुत्र सहित 3 लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है।

बता दें कि मंगलवार की सुबह ड्यूटी जाने के दौरान दो बाइक सवार बदमाशों ने ओमप्रकाश की हत्या करने की मंशा से गोली मारी थी। गोली रेलकर्मी को बाएं हाथ में लगी थी। वारदात के बाद अपराधी  हथियार लहराते हुए फरार हो गए थे। इसके बाद ओमप्रकाश को जख्मी अवस्था में रेलवे अस्पताल में भर्ती करवाया गया।

CM योगी आदित्यनाथ कुशीनगर पहुंचे, मृत बच्चों के परिजनों को देंगे सांत्वना

जांच के क्रम में पता चला कि ओमप्रकाश मंडल का बेटा पवन ने ही पिता की हत्या के लिए विक्की कुमार नाम के अपराधी से दो लाख में सौदा किया था। उसे कुछ रुपए एडवांस भी दिए थे। ओमप्रकाश का बड़ा बेटा आईटीबीपी में पहले से ही नौकरी कर रहा हैं। ऐसे में पिता की मौत के बाद पवन को अनुकंपा के आधार पर नौकरी मिलती। इस मामले के प्रकाश में अाने के बाद सभी लोग हैरान हैं कि आखिर जब अपना खून ही दगा दे तो और पर क्‍या ऐताबार करना!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

कांग्रेस का दलित-सवर्ण कार्ड में नहीं विश्वास : मदन मोहन

पटना। तकरीबन 11 महीने के लंबे अंतराल के बाद