अभी-अभी: GST को लेकर खड़ी हो गई नई मुसीबत, लोगों में मचा हड़कंप…

जीएसटी को लेकर अब एक नई मुसीबत खड़ी हो गई है, जिसके कारण लोगों में हड़कंप मचा हुआ है। क्लिक करके जानिए और संभल कर रहें।अभी-अभी: GST को लेकर खड़ी हो गई नई मुसीबत, लोगों में मचा हड़कंप...दरअसल, हरियाणा में व्यापारी सम्मेलन से ठीक दो दिन पहले शुक्रवार को सेंट्रल गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स टीम की छापामारी हुई। ऐसे होने से व्यापारियों में जहां हड़कंप मचा हुआ है, वहीं काफी रोष भी व्याप्त है। गुस्साए रोहतक के व्यापारियों ने घन्नीपुरा और झज्जर रोड बाजार बंद कर दिया। गुस्साए व्यापारियों ने सरकार की इस कार्रवाई को व्यापारी सम्मेलन में भीड़ जुटाने के लिए डराकर बुलाने का पैंतरा बताया है।

उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार के इशारे पर ही रोहतक के व्यापारियों पर कार्रवाई की है। शुक्रवार सुबह करीब 10.30 बजे कारों में सवार करीब 75 सेंट्रल जीएसटी के अफसर और कर्मचारियों की टीम ने झज्जर रोड स्थित प्रमोद ट्रेडिंग कंपनी, ओमनी कंपनी और हिसार रोड स्थित शुद्ध स्टील पर एक ही समय छापा मारा। साथ ही प्रमोद ट्रेडिंग कंपनी के मालिक के घर पर भी छापा मारा। यह टीमें दिल्ली और चंडीगढ़ से पहुंचीं थीं।

छापे की सूचना मिलते ही व्यापारी एकजुट होने लगे। जहां टीम छापामारी कर रही थी वहां व्यापारियों के प्रवेश पर रोक लगा दी। गोदामों में स्टॉक की जांच की गई और कंपनियों के कर्मचारियों को अंदर ही बैठाकर शटर गिरा दिए। व्यापारियों को तब तक यह भी जानकारी नहीं थी कि छापामारी किस विभाग ने की। व्यापारियों ने स्थानीय जीएसटी और प्रशासनिक अफसरों को फोन मिलाया तो पता चला कि उन्हें किसी छापामारी की जानकारी ही नहीं है।

कुछ पता नहीं चलने पर व्यापारियों का पारा चढ़ गया और घन्नीपुरा और झज्जर रोड मार्केट बंद कर दी। हरियाणा व्यापारी कल्याण बोर्ड के सदस्य विजय गुप्ता भी वहां पहुंचे थे, लेकिन उनकी बात को भी व्यापारियों ने दरकिनार कर दिया। उधर, देर शाम उपायुक्त आबकारी एवं कराधान विभाग (बिक्री कर) सुरेश कुमार बोडवाल, नगराधीश महेंद्र पाल एवं अन्य अधिकारी आए, लेकिन छापामारी कर रही टीम के अफसरों ने उनसे भी कोई बात नहीं की। देर रात तक छापामारी जारी रही हालांकि सभी कंपनियों के मालिक सुबह छापे की सूचना मिलने के बाद से ही फरार रहे।

व्यापारी बोले : डराने-धमकाने पर उतर आई है सरकार
गुस्साए व्यापारियों ने कहा कि सरकार के आठ अप्रैल को होने वाले व्यापारी सम्मेलन में भीड़ नहीं जुट पा रही है। इसलिए सरकार डराने-धमकाने पर उतर आई है। रोहतक के व्यापारियों को डराने-धमकाने के लिए सरकार के इशारे पर सेंट्रल जीएसटी की टीम ने छापामारी की है। हालांकि सेंट्रल जीएसटी टीम की छापामारी की जानकारी स्थानीय अधिकारियों को भी नहीं थी। व्यापारियों के बाजार बंद के बाद स्टेट जीएसटी और प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंचे, लेकिन कार्रवाई नहीं रुकने से व्यापारियों का गुस्सा और बढ़ गया।

फिलहाल मार्केट बंद है। शनिवार को मीटिंग कर फैसला लिया जाएगा कि प्रतिष्ठान खोलने हैं या नहीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

मारूति की कारों का जलवा बरकरार, ये लो बजट कार रही नंबर वन

भारतीय कार बाजार में मारुति सुजुकी इंडिया (एमएसआई)