पंजाब विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस में टिकटों की पहली सूची पर नहीं बन पाई सहमति, सोनिया गांधी ने कही ये बड़ी बात

 Punjab Vidhan Sabha Chunav 2022: आवंटन के मुद्दे पर दिल्ली में कांग्रेस की केंद्रीय चुनाव समिति (सीईसी) की बैठक में स्क्रीनिंग कमेटी के सदस्यों में सहमति नहीं बन सकी। एक के बाद एक कई सीटों पर स्क्री¨नग कमेटी के सदस्यों की अलग-अलग राय देखते हुए एक घंटे तक चली बैठक में कोई फैसला नहीं हो पाया। इसके बाद पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी ने स्क्रीनिंग कमेटी को निर्देश दिया कि पहले एक राय बनाएं, उसके बाद ही सीईसी के सामने आएं। अब आज पहले स्क्रीनिंग कमेटी की बैठक होगी। इसके बाद सीईसी की बैठक होगी, जिसमें टिकटें फाइनल होने की उम्मीद है। यह भी बताया जा रहा है कि सीएम चरणजीत सिंह चन्‍नी दो सीटोंं से चुनाव लड़ सकते हैं।   

सीईसी के सामने जाकर बिखर गई स्क्रीनिंग कमेटी, आज फिर होगी बैठक

कल हुई बैठक में के दौरान मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी, पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू और वरिष्ठ नेता सुनील जाखड़ के बीच मतभेद उभर कर सामने आए। सूत्रों के अनुसार मुख्यमंत्री ने आदमपुर सीट पर वरिष्ठ नेता मोहिंदर केपी का नाम लिया। इस सीट को लेकर चर्चा चल रही थी कि चन्नी चमकौर साहिब के अलावा आदमपुर से भी चुनाव लड़ना चाहते हैं। चन्नी के आदमपुर सीट से लड़ने से दोआबा के एससी वोट बैंक को एकजुट किया जा सकता है।

पार्टी पहले आदमपुर से जालंधर पश्चिम के विधायक सुशील रिंकू को उनकी सीट से मोहिंदर सिंह केपी को लड़ाना चाहती थी। केपी मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के नजदीकी रिश्तेदार भी हैं। पार्टी के आंतरिक सर्वे में रिंकू मजबूत उम्मीदवार बनकर सामने आए हैं। नवजोत सिंह सिद्धू भी इस हक में थे कि रिंकू को आदमपुर से लड़ाया जाए, लेकिन सीईसी की बैठक में चन्नी ने खुद केपी का नाम लिया।

इसी प्रकार गढ़शंकर सीट पर भी पंजाब के नेताओं के बीच मतभेद दिखे। मुख्यमंत्री और नवजोत सिंह सिद्धू निमीशा मेहता के समर्थन में थे, तो सुनील जाखड़ यूथ कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अमरप्रीत सिंह लाली के पक्ष में थे। निमीशा 2017 का चुनाव हार गई थीं।

सूत्रों के अनुसार एक के बाद एक कई सीटों पर पार्टी नेताओं की राय अलग रही। नवजोत सिद्धू ने भी कई सीटों पर अपनी तीखी प्रतिक्रिया दी। इसके बाद पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी ने हस्तक्षेप किया और स्क्रीनिंग कमेटी के चेयरमैन अजय माकन को निर्देश दिए कि पहले वह एक राय बना लें।

टिकट आवंटन में शिअद-बसपा व आप आगे

अभी तक पार्टी यही संकेत दे रही थी कि 70 सीटों पर सहमति बन गई है। इसलिए उम्मीद की जा रही थी कि गुरुवार को उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी कर सकती है, लेकिन जिस प्रकार से पंजाब के नेताओं ने रुख अपनाया है, उसके बाद मामला लटक गया है। टिकटों के आवंटन में आप और शिअद काफी आगे निकल गए हैं। आप अब तक 109 पर उम्मीदवार घोषित कर चुकी है, जबकि शिअद-बसपा गठबंधन ने भी 114 उम्मीदवार उतार दिए हैं। भाजपा और कांग्रेस ने अभी शुरुआत नहीं की है।

News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

7 − one =

Back to top button