अभी अभी: भारतीय जांच एजेंसियों को नीरव मोदी का न्यूयॉर्क में मिला पता

भारतीय जांच एजेंसियों ने भगोड़े नीरव मोदी के भारत से फरार होने, उसकी सम्पत्ति और परिवार का पूरा डॉजियर तैयार किया है. अब तक की जांच से खुलासा हुआ है कि नीरव मोदी इस वक्त न्यूयॉर्क में मौजूद है. उसका लेटेस्ट पता लुइस रीजेंसी होटल 540 पार्क एवेन्यू 61 स्ट्रीट न्यूयॉर्क सिटी में है. इसकी लोकेशन टाइम स्क्वायर और ब्रॉड स्ट्रीट के आसपास की देखी गई है.

आजतक को मिली एक्सक्लूसिव जानकरी के मुताबिक भारतीय जांच एजेंसियों के डर की वजह भारत से भागने के बाद वह पश्चिम एशिया, पूर्वोत्तर एशिया, यूरोप और अमेरिका में लगभग 4 महीने से घूम रहा है. भारतीय एजेंसियां उसके पीछे पड़ी हुई हैं, जिससे वह हताशा में हर जगह से जल्दी-जल्दी भागने को मजबूर हो रहा है.

जांच में पता चला कि 1 जनवरी 2018 को मुंबई से भागकर नीरव मोदी सीधा यूएई गया, लेकिन वहां पर भारतीय एजेंसी के दबाव के कारण यूएई में उसे ज्यादा देर टिकने में बहुत परेशानी होने लगी, जिसकी वजह से 2 फरवरी को उसे हांगकांग में शरण लेनी पड़ी. हांगकांग में उसने सोचा था कि वह लंबे समय तक वह टिक पाएगा, लेकिन हांगकांग के कठोर कानूनों की वजह से उसे 14 फरवरी को लंदन के हीथ्रो एयरपोर्ट के लिए भागना पड़ा.

भगोड़ा नीरव मोदी यूएई से हांगकांग होते हुए न्यूयॉर्क पहुंच चुका है. पहले जानकारी आई थी नीरव मोदी हांगकांग में मौजूद है, लेकिन अब वह हांगकांग में नहीं है.

भारतीय खुफिया एजेंसियों के पास मौजूद जानकारी के मुताबिक इस वक्त नीरव मोदी न्यूयॉर्क में मौजूद है. शुरुआती खोजबीन में पता चला कि नीरव मोदी ने 1 जनवरी 2018 को मुंबई से यूएई की उड़ान भरी, कुछ समय वहां रहने के बाद वह 2 फरवरी को हांगकांग के लिए रवाना हो गया, जहां पर उसने कुछ ज्यादा देर तक रुकने का प्लान बनाया था, लेकिन हांगकांग के कड़े कानून की वजह से वह ज्यादा देर नहीं रुक पाया.

14 फरवरी को उसने हीथ्रो एयरपोर्ट की उड़ान भरी, 15 फरवरी को लंदन पहुंचने के बाद 1 महीने लंदन में रहा. मार्च के तीसरे हफ्ते में वह लन्दन से न्यूयॉर्क आ गया.

हांगकांग में नीरव मोदी के खिलाफ जांच की एक्सक्लूसिव डिटेल्स

1. एलओयू के जरिए पंजाब नेशनल बैंक को 7000 करोड़ से ज्यादा का चूना लगाने के बाद नीरव मोदी ने 1 जनवरी 2018 को भारत छोड़ दिया.

2. इस झटके के बाद पंजाब नेशनल बैंक अभी तक उबर नहीं पाया है और अपने तमाम रियल एस्टेट असेट्स को बेचकर बैलेंस शीट सुधारने में लगा है.

3. नीरव मोदी की जांच कर रही एजेंसियों ने पाया है कि भगोड़े हीरा कारोबारी ने पिछले चार महीनों में पश्चिमी एशिया, पूर्वी एशिया, यूरोप और अमेरिका जैसे देशों की यात्राएं की हैं.

4. नीरव मोदी की ये व्याकुलता भारतीय जांच एजेंसियों से बचने का सबूत है. नीरव मोदी मुंबई से यूएई गया, फिर हांगकांग, उसके बाद लंदन और आखिर में न्यूयॉर्क भाग गया.

5. हांगकांग में गहन जांच के बाद नीरव मोदी की तीन फर्मों के दस्तावेज सामने आए हैं. इन तीन कंपनियों के नाम सनशाइन जेम्स लिमिटेड, सीनो ट्रेडर्स लिमिटेड और ऑरोजेम कंपनी लिमिटेड शामिल हैं. ये दस्तावेज सूत्रों के जरिए जांच में मिले हैं.

6. इन दस्तावेजों के स्क्रीन शॉट कंपनियों के यूनिक नंबर का भी खुलासा करते हैं. इन तीनों कंपनियों के जरिए ही नीरव मोदी ने ज्यादातर मनी लॉन्ड्रिंग के मामले निपटाए थे.

7. यही नहीं एक चौथी कंपनी, सीबेस्ट सोल्यूशन लिमिटेड की भी पहचान हुई है, जोकि सनशाइन जेम्स और सिनो ट्रेडर्स के लिए कंपनी सेक्रेटरी के तौर पर काम करती है. सिनो ट्रेडर्स के पास एक डायरेक्टर भी है, इसका नाम आशीष कुमार मोहन भाई लाड है, जिसका पता 17-सी, केशव नगर, भेस्तान, सूरत, 395023, गुजरात है.

8. जांच एजेंसियों ने इस एड्रेस का दौरा किया और पाया कि ये एड्रेस सही है, लेकिन ये एक निम्न आय वाले एरिया में हैं, जहां इस बात का कोई संकेत नहीं है कि यहां रहने वाला व्यक्ति हांगकांग में डायमंड कंपनी चलाता है.

वीके सिंह ने राज्यसभा को दी जानकारी

इस महीने की शुरुआत में विदेश राज्य मंत्री वीके सिंह ने राज्य सभा को जानकारी दी थी कि उन्होंने नीरव मोदी की तात्कालिक गिरफ्तारी की मांग की है. उन्होंने बताया कि इस संबंध में 23 मार्च को सिफारिश की गई है.

इसके साथ ही पंजाब नेशनल बैंक ने हांगकांग की कोर्ट में नीरव मोदी के खिलाफ एक रिकवरी रिट दाखिल की है, ये रिट 5 मिलियन डॉलर की हैं.  

बैंक ने इस तरह के फ्राड को रोकने के लिए डिटेक्टिव हायर करने की खातिर विज्ञापन भी दिए हैं. इन डिटेक्टिव की मदद से बैंक डिफॉल्टरों और उनकी संपत्तियों का पता लगाना चाहता है.

Ujjawal Prabhat Android App Download Link
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button