सिविल लाइंस थाना क्षेत्र में एक खेत से आठ भ्रूण मिले हैं। पन्नी में लपेटकर उन्हें फेंका गया था, जिन्हें चील-कौवे नोच रहे थे। कुछ भ्रूण काफी आकार ले चुके थे। जानकारी पर आसपास के तमाम ग्रामीण एकत्रित हो गए। बताया जा रहा है कि शुक्रवार दोपहर में एक कार आई थी। इसमें से एक नर्स बाहर निकली और भ्रूण को फेंक गई। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर उन्हें कब्जे में लिया। एक भ्रूण को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है, जबकि बाकी के शव सड़ गए थे।

बदायूं-दातागंज रोड पर आमगांव हदीरा के निकट खेत में काम कर रहे ग्रामीणों ने बताया कि दोपहर के वक्त एक कार आई थी। उसमें से एक नर्स उतरी, इसके बाद भ्रूणों को वहीं खेत में डालकर चली गई। किसी नर्सिंग होम की नर्स होने की चर्चा है। प्रभारी एसओ राजीव राठी ने बताया कि खेत में एक भ्रूण मिला, उसे पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है। हालांकि, आठ भ्रूण मिलने से इन्कार किया।

वहीं कुछ लोगों का कहना है कि यह भ्रूण हत्या का मामला हो सकता है। खेत में मिले आठ भ्रूण इसके साक्ष्य हैं।

अभी अभी: कांग्रेस खेमे में शोक की लहर, इन दो हस्तियों का हुआ निधन

खेत में भ्रूण मिलने से स्वास्थ्य विभाग का कोई लेना-देना नहीं है। भ्रूण हत्या अपराध है। पुलिस ही इसमें कोई कार्रवाई करेगी। कुछ मामलों में गर्भवती महिलाओं के भ्रूण गिर जाते हैं। – डॉ.आसाराम, सीएमओ

पुलिस अपनी कार्रवाई कर रही है। प्रशासनिक स्तर पर भी इसे दिखवाया जाएगा। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ नर्सिंग होमों में छापामारी कराई जाएगी। भ्रूण हत्या के अपराध में कोई संलिप्त मिलेगा तो उसके खिलाफ कार्रवाई होगी। – दिनेश कुमार सिह, जिलाधिकारी