अभी अभी: बॉल टेंपरिंग मामले में स्मिथ-वॉर्नर पर लगा 1 साल का बैन

- in खेल

बॉल टेंपरिंग कांड में क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने बड़ा फैसला लिया है. इस फैसले के तहत उसने स्मिथ और वॉर्नर पर 1 साल का बैन लगा दिया है. इन दोनों के अलावा कैमरुन बैनक्रॉफ्ट पर 9 महीने का बैन लगा है. इन तीन खिलाड़ियों पर बैन लगाते हुए क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने कहा कि सिर्फ वॉर्नर.  स्मिथ और बैनक्रॉफ्ट को ही बॉल टेंपरिंग के बारे में पता था, जिस वजह से इन्हें सजा मिली. क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने  स्मिथ, वॉर्नर और बैनक्रॉफ्ट को अपने कोड ऑफ कंडक्ट 2.3.5 का दोषी पाया है. इस कोड के तहत खेल की स्प्रिट और उसकी भावना के साथ खिलवाड़ करने को लेकर सजा सुनाई जाती है.

ढाई घंटे की मीटिंग के बाद सजा का एलान

इन तीनों खिलाड़ियों को बैन करने से पहले ढाई घंटे तक क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया की मीटिंग चली, जिसमें चेयरमैन डेविड पीवर, समेत दूसरे बड़े अधिकारियों के अलावा ऑस्ट्रेलिया के पूर्व क्रिकेटर मार्क टेलर और कास्पोरोविज ने भी हिस्सा लिया. इस मीटिंग में ये डिसाइड हुआ कि ये तीनों खिलाड़ी अगले 24 घंटे में साउथ अफ्रीका छोड़ेंगे और इनकी जगह पर मैक्सवेल, रेनशॉ और जो बर्न टीम का हिस्सा बनेंगे.

केपटाउन का बॉल टेंपरिंग कांड

अब यहां से भी रिटायर हुए सचिन तेंदुलकर, पीएम ने दी शुभकामनाएं

बता दें कि साउथ अफ्रीका के खिलाफ केपटाउन टेस्ट के तीसरे दिन बॉल टेंपरिंग का खुलासा उस वक्त हुआ था जब कैमरे ने बेनक्रॉफ्ट को किसी पीली चीज से गेंद की शक्त को बिगाड़ते देखा था. इसके बाद इस मामले में तूल पकड़ लिया. मामला तब और संगीन हो गया जब कंगारू कप्तान स्टीव स्मिथ ने पोस्ट मैच कॉन्फ्रेंस में ये मान लिया कि इसके बारे में उन्हें पता था और ये सिर्फ एक खिलाड़ी नहीं बल्कि टीम के लीडरग्रुप के मिली भगत का नतीजा था. स्मिथ के बॉल टेंपरिंग करने को स्वीकार किए जाने के बाद तो पूरा वर्ल्ड क्रिकेट इसे लेकर आवाज उठाने लगा, जिससे ऑस्ट्रेलिया की भारी बदनामी हुई. नौबत यहां तक आ पहुंची कि ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री को क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया से बात कर स्मिथ को कप्तानी से हटाए जाने तक की मांग करनी पड़ी. प्रधानमंत्री के दबाव में क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने स्मिथ को हटाकर टिम पेन को कप्तान बना दिया.  यहां तक कि इस घटना के दूसरे मास्टर माइंड डेविड वॉर्नर को अपनी उप-कप्तानी भी गंवानी पड़ी. उधर ICC ने स्मिथ पर एक मैच के बैन के साथ 100 फीसदी मैच फी जुर्माना जबकि बेनक्रॉफ्ट पर 75 फीसदी मैच फी जुर्माना लगाया.

लेकिन, क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने कहा कि वो इस मामले पर अंतिम फैसला पूरी जांच के बाद ही सुनाएगा. जांच के बाद स्मिथ, वॉर्नर और बेनक्रॉफ्ट को बॉल टेंपरिंग का दोषी पाया गया, जिसके बाद इन पर कड़ी कार्रवाई करते हुए क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने बैैन लगाया.

 
 
 
 

You may also like

पैदल चाल प्रतियोगिता 2 अक्तूबर को

राज्यमंत्री स्वाती सिंह सुबह 7 बजे करेंगी पैदल