सउदी अरब के रुख में बड़ा बदलाव, प्रिंस ने कहा- इजरायल को अपनी जमीन रखने का अधिकार

सउदी अरब का इजरायल के प्रति रुख में बड़े बदलाव सामने आया है. सऊदी अरब के प्रिंस मोहम्‍मद बिन सलमान अल असद ने कहा है कि इजरायल को अपनी जमीन रखने का अधिकार है. यह सऊदी अरब की राजशाही के रुख में बड़ा परिवर्तन माना जा रहा है. बता दें कि सऊदी अरब और इजरायल के बीच अब भी कोई औपचारिक राजनयिक रिश्ते नहीं हैं, लेकिन बीते वर्षों में दोनों देशों के बीच पर्दे के पीछे संबंधों में सुधार हुआ है. दोनों देश ईरान को सबसे बड़े बाहरी खतरे के रूप में देखते हैं और उनके प्रमुख सहयोगी देश के रूप में अमेरिका और दोनों सैन्य इस्लामी चरमपंथियों से खतरा महसूस करते हैं.फिलीस्तीनियों के साथ इजरायल का संघर्ष, तकरार सुलझाने में बाधा का काम करता है, लेकिन रियाद अब भी संप्रभुता के उनके दावे का समर्थन करता है. अब शहजादे मोहम्मद बिन सलमान अमेरिकी न्‍यूज मैगजीन द अटलांटिक के प्रधान संपादक से बातचीत में इजरायल के भूमि के दावे को बराबरी पर रखते हुए नजर आए.

इजरायलियों को अपनी जमीन रखने का अधिकार

जेफरी गोल्डबर्ग ने प्रिंस मोहम्‍मद बिन सलमान से पूछा, ”क्या यहूदी लोगों को अपने पूर्वजों की भूमि के कम से कम एक हिस्से में एक राष्ट्र का अधिकार है?” तीन सप्ताह के दौरे पर अमेरिका आए प्रिंस ने कहा, ”मेरा मानना है कि हर व्यक्ति चाहे वह कहीं भी हो, उसे अपने शांतिपूर्ण देश में जीवन जीने का अधिकार है.” उन्होंने कहा, ”मेरा मानना है कि फलस्तीनियों और इजरायलियों को अपनी जमीन रखने का अधिकार है.” शहजादे ने कहा, ”लेकिन हमें सभी की स्थिरता और सामान्य संबंध सुनिश्चित करने के लिए शांति समझौता करना होगा.”

मलेशिया ने पकड़ी रोहिंग्याओं से भरी नाव, 56 लोग थे सवार

 

सऊदी के शाह ने यूएस प्रेसिडेंट से फोन पर मध्यपूर्व शांति प्रक्रिया पर चर्चा की

सऊदी अरब के शाह सलमान बिन अब्दुलअजीज अल सऊद ने रियाद से अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ टेलीफोन पर बातचीच की. इसमें उन्होंने कहा कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय के लिए मध्य पूर्व शांति प्रक्रिया को आगे बढ़ाना आवश्यक है. सऊदी प्रेस एजेंसी की मंगलवार की रिपोर्ट के मुताबिक, सऊदी शाह ने सोमवार शाम ट्रंप के साथ टेलीफोन पर फिलीस्तीन के मुद्दे और फिलीस्तीनी लोगों के वैध अधिकारों पर देश के समर्थन की मजबूत स्थिति की पुष्टि की.

15 फिलिस्तीनियों की फायरिंग में हो चुकी है मौत

ट्रंप और शाह के यह बातचीत उस समय हुई है, जब गाजा पट्टी से सटी इजरायल सीमा के पास पिछले दिनों इजरायली सैनिकों और फिलीस्तीनियों के बीच हिंसक झड़पें हुईं हैं, जिनमें कम से कम 15 फिलिस्तीनी प्रदर्शनकारियों की मौत हो गई और 1,200 अन्य घायल हो गए. सऊदी शाह ने व्हाइट हाउस द्वारा यमन में ईरान समर्थित हौती समूह के खिलाफ जारी बयान की प्रशंसा की. इस दौरान दोनों नेताओं ने इराक और सीरिया में आतंकवादी संगठनों से लड़ने के लिए संयुक्त अंतर्राष्ट्रीय प्रयासों के महत्व पर जोर दिया. (इनपुट- पीटीआई/आईएएनएस)

 
 
 

You may also like

रूस से एस-400 मिसाइल की खरीद पर अमेरिका नाराज, भारत पर लगाएगा प्रतिबंध!

अमेरिका के ट्रंप प्रशासन ने कहा है कि भारत का