मंत्रालय ने कहा, ‘‘भारत से पाकिस्तान गए सिखों की मौजूदा यात्रा के दौरान पाकिस्तान में भड़काऊ बयान देकर एवं श्रद्धालुओं की यात्रा के विभिन्न पड़ावों पर पोस्टर लगाकर खालिस्तान का मुद्दा उठाने की कोशिशों को लेकर कड़ा विरोध जताया गया.’’ मंत्रालय ने कहा कि उन्हें यह बताया गया कि भारत में अलगाववादी आंदोलनों को समर्थन देने की पाकिस्तान में अधिकारियों एवं इकाइयों द्वारा बार बार की जा रही कोशिशें उसके आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप है.

ईरान: भारतीय लड़की की मौत, 19 घायल

विदेश मंत्रालय ने साथ ही कहा कि भारतीय श्रद्धालुओं की यात्रा के दौरान हो रही इन तरह की घटनाएं दोनों देशों के बीच श्रद्धालुओं की यात्रा के आदान प्रदान से जुड़े 1974 के द्विपक्षीय प्रोटोकॉल की भावना के खिलाफ है. इससे पहले रविवार को भारत ने पाकिस्तान की यात्रा कर रहे श्रद्धालुओं के भारतीय राजनयिकों से मिलने में रोड़े अटकाने को लेकर पाकिस्तान के समक्ष कड़ा विरोध जताया था.