कश्मीर में शीशे से बना रेल कोच चलाने के लिए तैयार, है ‘सही समय’ का इंतजार

बता दें कि पीओके को लेकर भारत और पाकिस्तान के बीच लंबे समय से विवाद है. संसद ने साल 1994 में एक रिजल्यूशन पारित करके कहा है कि पीओके भारत का एक अविभाज्य हिस्सा है. भारत के इस हिस्से पर पाकिस्तान अपना हक जताता रहा है. इस इलाके में पाकिस्तान आतंकी संगठनों को प्रशिक्षित करता रहा है. वहीं, घुसपैठ की भी कोशिश करता रहा है. ऐसे में वहां के राष्ट्रपति के साथ सिद्धू के बैठने पर लोग सवाल खड़े कर रहे हैं.