कोविड-19 के संक्रमण से बचाव के दृष्टिगत कोविड टीकाकरण की महत्वपूर्ण भूमिका

मुख्यमंत्री ने वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के माध्यम से मेरठ, गोरखपुर, झांसी, बरेली, गाजियाबाद, मुरादाबाद, बलिया, जौनपुर, गौतमबुद्धनगर तथा गाजीपुर के जिलाधिकारियों से कोविड-19 की स्थिति के सम्बन्ध में संवाद किया

कोरोना के विरुद्ध जिस प्रकार से पिछले 01 वर्ष से प्रभावी संघर्ष किया
गया और सफलता मिली, उसी प्रकार संघर्ष और अभियान में और तेजी
लाते हुए टीम वर्क के साथ रणनीति बनाकर कार्यवाही की जाए

कोरोना प्रबन्धन, बचाव और उपचार से जुड़े हुए सभी
कर्मी स्वयं का बचाव करते हुए पूर्ण मनोयोग से कार्य करें

कोविड अस्पताल में खाली बेड्स की उपलब्धता के सम्बन्ध में
प्रतिदिन सुबह व शाम को जानकारी उपलब्ध करायी जाए

ऑक्सीजन की आपूर्ति व उपलब्धता बनाए रखते हुए
रेमडेसिविर व अन्य जीवन रक्षक दवाओं की कालाबाजारी
के सम्बन्ध में सख्त से सख्त कार्रवाई की जाए

01 मई से 18 वर्ष से अधिक आयु के सभी लोगों का टीकाकरण
किया जाना है, सभी जिला प्रशासन द्वारा इस सम्बन्ध में
आवश्यक तैयारियां समय से पूरी कर ली जाएं

होम आइसोलेशन में इलाज करा रहे मरीजों को
समय से पर्याप्त मेडिकल किट उपलब्ध कराया जाए

निगरानी समितियों को प्रभावी कर
प्रवासी श्रमिकों के बारे में जानकारी प्राप्त करें

सभी जिलाधिकारीगण स्वास्थ्य विभाग, गृह विभाग और
खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन विभाग से सम्पर्क में रहें,
किसी भी जनपद में ऑक्सीजन की कमी नहीं होने दी जाएगी

टेस्ट, ट्रेस और ट्रीट का मंत्र कोविड से लड़ाई में अति महत्वपूर्ण

मास्क, ग्लव्स की अनिवार्यता प्रत्येक दशा में सुनिश्चित की जाए

कण्टेन्मेण्ट जोन के प्राविधानों को सभी
जनपदों में प्रभावी ढंग से लागू किया जाए

शुक्रवार रात्रि 08 बजे से सोमवार प्रातः 07 बजे तक
कोरोना कफ्र्यू प्रभावी रहेगा, इस अवधि में स्वच्छता,
सैनिटाइजेशन व फाॅगिंग की व्यापक स्तर पर कार्यवाही हो

राज्य सरकार हर प्रदेशवासी के जीवन और
जीविका दोनों की सुरक्षा के लिए कृतसंकल्पित

गेहूं क्रय केन्द्रों के प्रभावी संचालन करते हुए किसानों
को उनका भुगतान 72 घण्टे के अन्दर सुनिश्चित किया जाए

भूसा बैंक की व्यवस्था बनायी जाए, जिससे गो-आश्रय
स्थलों और गोशाला केन्द्रों में चारे की उपलब्धता सुनिश्चित रहे

लखनऊ: 22 अप्रैल, 2021

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने कहा है कि कोरोना के विरुद्ध जिस प्रकार से पिछले 01 वर्ष से प्रभावी संघर्ष किया गया और सफलता मिली, उसी प्रकार संघर्ष और अभियान में और तेजी लाते हुए टीम वर्क के साथ रणनीति बनाकर कार्यवाही की जाए। इससे कोरोना पर विजय पाने में फिर से सफलता मिलेगी। उन्होंने कहा कि कोरोना प्रबन्धन, बचाव और उपचार से जुड़े हुए सभी कर्मी स्वयं का बचाव करते हुए पूर्ण मनोयोग से कार्य करें।
मुख्यमंत्री जी आज यहां वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जिलाधिकारियों से संवाद कर रहे थे। उन्होंने जनपद मेरठ, गोरखपुर, झांसी, बरेली, गाजियाबाद, मुरादाबाद, बलिया, जौनपुर, गौतमबुद्धनगर तथा गाजीपुर के जिलाधिकारियों से कोविड-19 की स्थिति, आॅक्सीजन की उपलब्धता व उसकी आपूर्ति, बेड्स की उपलब्धता, टेस्टिंग, काॅन्टैक्ट ट्रेसिंग, कण्टेन्मेण्ट जोन, दवाइयों की उपलब्धता, प्रवर्तन की कार्यवाही, इण्टीग्रेटेड कमाण्ड एण्ड कण्ट्रोल सेण्टर के संचालन, प्रवासी कामगार व श्रमिकों, क्वारण्टीन सेण्टर आदि के सम्बन्ध में विस्तार से जानकारी प्राप्त की और आवश्यक दिशा-निर्देश दिए।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि सभी जिलाधिकारी प्रभारी मंत्रियों व जनप्रतिनिधियों से समन्वय बनाते हुए समस्याओं का निराकरण करें। उन्होंने प्रत्येक जनपद में ऑक्सीजन प्लाण्ट की स्थापना के सम्बन्ध में भी सम्भावनाओं की बात की। उन्होंने कहा कि प्रत्येक कोविड अस्पताल में खाली बेड्स की उपलब्धता के सम्बन्ध में प्रतिदिन सुबह व शाम को जानकारी उपलब्ध करायी जाए। खाली बेड की अद्यतन जानकारी नियमानुसार सार्वजनिक की जाए। यह सुनिश्चित किया जाए कि एक भी मरीज बेड के अभाव में परेशान न हो। उन्होंने कहा कि ऑक्सीजन की आपूर्ति व उपलब्धता बनाए रखते हुए रेमडेसिविर व अन्य जीवन रक्षक दवाओं की कालाबाजारी के सम्बन्ध में सख्त से सख्त कार्रवाई की जाए। अफवाहों को फैलने से हर हाल में रोका जाए। अफवाह फैलाने वाले शरारती तत्वों के खिलाफ कार्यवाही हो।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि कोविड-19 के संक्रमण से बचाव के दृष्टिगत कोविड टीकाकरण की महत्वपूर्ण भूमिका है। अधिकाधिक लोगों का कोविड टीकाकरण हो। 01 मई से 18 वर्ष से अधिक आयु के सभी लोगों का टीकाकरण किया जाना है, सभी जिला प्रशासन इस सम्बन्ध में आवश्यक तैयारियां समय से पूरी कर ली जाएं।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि होम आइसोलेशन में इलाज करा रहे मरीजों को समय से पर्याप्त मेडिकल किट उपलब्ध कराया जाए। ऐसे मरीजों से हर दिन संवाद बनाए जाए। दवाओं का कोई अभाव नहीं है। किसी भी प्रकार की आवश्यकता होने पर तत्काल शासन को अवगत कराएं। प्रत्येक दशा में यह सुनिश्चित कराएं कि जो लोग होम आइसोलेशन अथवा क्वारण्टीन हैं, वह नियत समय तक इस व्यवस्था का पालन करें। संक्रमण को न्यूनतम रखने के लिए इस व्यवस्था को सख्ती से लागू करना आवश्यक है।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि जनपद मेरठ, गोरखपुर, झांसी, बरेली, बलिया, जौनपुर, गोरखपुर, गाजीपुर जिलों में पॉजिटिविटी दर अधिक है। यहां प्रवासी श्रमिकों का भी आगमन हो रहा है। इसके दृष्टिगत यहां विशेष सतर्कता की जरूरत है। निगरानी समितियों को प्रभावी कर प्रवासी श्रमिकों के बारे में जानकारी प्राप्त करें। इन्हें आवश्यकतानुसार क्वारण्टीन किया जाए। सभी जिलों में बेड्स बढ़ाए जाने की दिशा में विशेष प्रयास किए जाने की आवश्यकता है। सम्बन्धित मण्डलायुक्त व जिलाधिकारी इसकी मॉनीटरिंग करते रहें।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि गाजियाबाद और गौतमबुद्धनगर सहित सभी जनपदों के जिलाधिकारी यह सुनिश्चित करें कि सभी जगह औद्योगिक गतिविधियां संचालित होती रहें। श्रमिकों की जरूरतों का ध्यान रखा जाए। ऑक्सीजन की सुगम आपूर्ति सुनिश्चित की जा रही है। सभी जिलाधिकारीगण इस सम्बन्ध में लगातार स्वास्थ्य विभाग, गृह विभाग और खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन विभाग से सम्पर्क में रहें। किसी भी जनपद में ऑक्सीजन की कमी नहीं होने दी जाएगी।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि टेस्ट, ट्रेस और ट्रीट का मंत्र कोविड से लड़ाई में अति महत्वपूर्ण है। सभी जिलों में टेस्टिंग को बढ़ाया जाए। क्वाॅलिटी टेस्टिंग सुनिश्चित किया जाए। निजी लैब द्वारा भी टेस्टिंग अधिकाधिक की जाए। लेकिन क्वालिटी के सम्बन्ध में कोई समझौता न हो। मास्क, ग्लव्स की अनिवार्यता प्रत्येक दशा में सुनिश्चित की जाए। जागरूकता भी बढ़ाएं, साथ ही प्रवर्तन की कार्रवाई भी की जानी चाहिए।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि पुलिस द्वारा कण्टेन्मेण्ट जोन के प्राविधानों को सभी जनपदों में प्रभावी ढंग से लागू किया जाए। इस कार्य में सिविल डिफेंस, एन0सी0सी0 और एन0एस0एफ0 का सहयोग भी लिया जाए। लोगों को कोरोना से बचाव के बारे में जागरूक किया जाए। सोशल डिस्टेंसिंग अपनाने और मास्क का अनिवार्य उपयोग करने की जानकारी देने के लिए पब्लिक एड्रेस सिस्टम का व्यापक स्तर पर उपयोग किया जाए।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि शुक्रवार रात्रि 08 बजे से सोमवार प्रातः 07 बजे तक कोरोना कफ्र्यू प्रभावी रहेगा। इस अवधि में स्वच्छता, सैनिटाइजेशन व फाॅगिंग की व्यापक स्तर पर कार्यवाही हो। रात्रि कोरोना कफ्र्यू को भी सख्ती से लागू किया जाए। इस अवधि में औद्योगिक इकाइयां संचालित होती रहें। राज्य सरकार हर प्रदेशवासी के जीवन और जीविका दोनों की सुरक्षा के लिए कृतसंकल्पित हैं।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि कोविड संक्रमित व्यक्ति की दुर्भाग्यपूर्ण मृत्यु के उपरान्त उनका अन्तिम संस्कार सम्मानजनक ढंग से कोविड प्रोटोकॉल का पालन करते हुए कराया जाए। एक भी नागरिक की मृत्यु दुःखद है, यह प्रदेश की क्षति है। उनके परिजनों के साथ यथोचित सम्मान के साथ संवेदनशील व्यवहार किया जाए। उन्होंने कहा कि कोविड से सम्बन्धित सेवा कार्य में संलग्न कार्मिकों के देहांत के उपरान्त शासन द्वारा नियमानुसार देय सहायता राशि के भुगतान में विलम्ब न हो। ऐसे प्रकरणों का प्राथमिकता के साथ निस्तारण किया जाए।
मुख्यमंत्री जी ने इस अवसर पर गेहूं क्रय केन्द्रों के प्रभावी संचालन के निर्देश देते हुए कहा कि किसानों को उनका भुगतान 72 घण्टे के अन्दर सुनिश्चित किया जाए। सभी जिलाधिकारी गेहूं खरीद के सम्बन्ध में नियमित समीक्षा करें। उन्होंने कहा कि भूसा बैंक की व्यवस्था बनायी जाए, जिससे गो-आश्रय स्थलों और गोशाला केन्द्रों में चारे की उपलब्धता सुनिश्चित रहे।

Ujjawal Prabhat Android App Download Link
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button