IIT प्रफेसर्स, 5 मिनट में तैयार हो सकेगा रेलवे का टाइम टेबल

रेलवे का टाइमटेबल सबसे ज्यादा रेलवे अधिकारियों की ही नींद उड़ाकर रखता है। रेलवे का नया टाइम टेबल तैयार करने में अभी उन्हें करीब 15-20 दिन लग जाते हैं। लेकिन अब ऐसा नहीं होगा और इसके लिए भारतीय रेल के अधिकारी इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नॉलजी (IIT) के प्रफेसर्स का शुक्रिया अदा कर सकते हैं।IIT प्रफेसर्स, 5 मिनट में तैयार हो सकेगा रेलवे का टाइम टेबलIIT प्रफेसर्स की एक टीम ने सेंट्रल रेलवे के साथ मिलकर एक ऐसा ऐल्गरिदम तैयार किया है जिसकी मदद से रेलवे का टाइम टेबल बस 5 मिनट में तैयार किया जा सकेगा। यह प्रक्रिया सरल बनाने के लिए टीम ने एक सॉफ्टवेयर डिवेलप किया है। इस सॉफ्टवेयर के जरिए टीम ने एक पीरियॉडिक टाइम टेबल तैयार किया है जो रेलवे स्टाफ के लिए किसी वरदान से कम नहीं है।

सेंट्रल रेलवे के चीफ पब्लिक रिलेशन ऑफिसर नरेंद्र पाटिल ने मुंबई मिरर को बताया कि IIT प्रफेसर्स के साथ वे इस प्रॉजेक्ट पर 2 साल से काम कर रहे थे। प्रफेसर रंगराज ने बताया कि इस सॉफ्टवेयर की मदद से रेलवे को किसी रूट पर ट्रेनों की संख्या तय करने में भी दिक्कत नहीं होगी। टीम को उम्मीद है जल्द ही इस नए सिस्टम का व्यावहारिक उपयोग शुरू हो जाएगा।

यह नया सिस्टम न केवल टाइम टेबल बनाने में खर्च होने वाला इतना सारा समय बचाएगा, बल्कि टाइम टेबल तैयार होने के बाद ट्रेनों में बोगियों की बदलती संख्या और ट्रेनों के लिए कई बार तय प्लैटफॉर्म न उपलब्ध होने जैसी बाकी समस्याओं से भी निजात दिलाएगा।

गुरुवार को प्रफेसर नारायन रंगराज, प्रफेसर मधु बेलूर, एम टेक स्कॉलर सौम्या दत्ता और सेंट्रल रेलवे के डेप्युटी चीफ ऑपरेशंस मैनेजर (गुड्स) के. एन. सिंह की टीम ने रेलवे के ऑपरेशन डिपार्टमेंट के सामने इस सॉफ्टवेयर पर एक प्रेजेंटेशन दिया। अब इस प्रॉजेक्ट का एक प्रेजेंटेशन फ्रांस में इंटरनैशनल असोसिएशन ऑफ रेलवे ऑपरेशंस रिसर्च (IAROR) द्वारा अप्रैल के पहले हफ्ते में आयोजित सेमिनार में दिया जाएगा।

News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button