प्रतिनिधिमंडल ने कल अमेरिकी अधिकारियों के साथ बैठक की. उन्होंने विदेश मंत्रालय, वाणिज्य विभाग और यूएस एजेंसी फॉर इंटरनेशनल डेवलपमेंट (यूएसएआईडी) के अधिकारियों से मुलाकात की और उद्योगपतियों के साथ गोलमेज बैठक की. उन्होंने साझा संदेश देते हुए कहा यदि वे भारत में निवेश करना और बेहतर संबंध बनाना चाहते हैं तो उत्तर प्रदेश की अनदेखी नहीं कर सकते हैं. सिंह और उनके प्रतिनिधिमंडल ने अमेरिकी उद्योगपतियों के साथ बैठक के दौरान कहा कि राज्य को कारोबार-अनुकूल बनाने के लिए भाजपा सरकार ने स्वास्थ्य, कृषि, उद्योग एवं शिक्षा क्षेत्र में प्रशासनिक सुधार शुरू किए हैं. इसके साथ ही उत्तर प्रदेश में कंपनियों के लिए बड़ा बाजार है. उन्होंने कहा कि अमेरिकी कंपनियों ने उत्तर प्रदेश में रक्षा विनिर्माण, सूचना प्रौद्योगिकी और स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र में निवेश करने की इच्छा जताई थी जबकि कुछ शीर्ष शिक्षण संस्थानों ने सहयोगी अनुसंधान के क्षेत्र में रुचि दिखाई थी.

पीएम मोदी के दौरे के बाद चीन ने 28 दवाओं पर लगने वाले इम्पोर्ट ड्यूटी को किया खत्म

बुंदेलखंड क्षेत्र में रक्षा गलियारे की स्‍थापना की पीएम ने की है घोषणा

उत्तर प्रदेश में फरवरी में आयोजित निवेशक शिखर सम्मेलन-2018 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुंदेलखंड क्षेत्र में रक्षा गलियारे की स्थापना की घोषणा की थी. सिंह ने कहा कि इससे 20,000 करोड़ रुपये का निवेश आएगा और 2.5 लाख लोगों के लिए रोजगार पैदा होने का रास्ता खुलेगा. घोषणा के बाद कुछ अमेरिकी कंपनियों ने इस क्षेत्र में निवेश की इच्छा जताई थी. सिंह ने यहां रक्षा क्षेत्र की कंपनी लॉकहीड मार्टिन और बोइंग के प्रतिनिधियों के साथ भी बैठक की. मंत्री ने कहा कि अमेरिका-भारत रणनीतिक एवं भागीदारी मंच ( यूएसआईएसपीएफ ) ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ को अमेरिकी यात्रा के लिए आमंत्रित किया है. हमें उम्मीद हैं कि मुख्यमंत्री जल्द ही अमेरिकी की यात्रा करेंगे. सिंह ने कहा कि अमेरिकी यात्रा मुख्यत: उत्तर प्रदेश को नए तरीके से जानने और अमेरिका से उत्तर प्रदेश के लिए निवेश लाने के लिए है.