संभल जाओ नहीं तो दोनों ठिकाने लग जाओगे: नंदकुमार सिंह चौहान

खंडवा। मुझसे पत्रकार सवाल पूछ रहे हैं कि आपके महापौर और विधायक में गुटबाजी है। काहे कि गुटबाजी रखना भाई, एक साथ बैठो और खाना खाओ, पान खाओ। दादाजी के दर्शन को जाओ। आप एक सिक्के के दो पहलू हैं, संभल जाओ नहीं तो दोनों ठिकाने लग जाओगे।संभल जाओ नहीं तो दोनों ठिकाने लग जाओगे: नंदकुमार सिंह चौहान

यह ताकीद सांसद और भाजपा प्रदेश अध्यक्ष नंदकुमारसिंह चौहान ने गुरुवार को कांग्रेस के खिलाफ एक दिवसीय अनशन के दौरान संबोधित करते हुए सार्वजनिक तौर पर विधायक देवेंद्र वर्मा और महापौर सुभाष कोठारी से कही। उन्होंने मजाकिया अंदाज में दोनों को ताकीद देते हुए कहा कि तुम तो मरोगे ही तुम्हारे पीछे मेरी गाड़ी भी अटक जाएगी। सबकी मेहनत से आज मैं यहां खड़ा हूं। बहुत पसीना बहाया है। ऐसा मत करो भाई। उनके इतना कहते ही अनशन स्थल पर ठहाके लगने लगे। नर्मदा जल योजना के तहत शहर में पानी के मीटर लगेंगे या नहीं, इस संबंध में जब सांसद से प्रश्न पूछा गया तो उन्होंने कहा कि जो भी निर्णय होगा शहर की जनता के हित में ही होगा।

‘दूर से ही फोटो खिंचवा रहे हो’

नर्मदा जल मुद्दे पर महापौर कोठारी पानी के मीटर लगाने के पक्ष में हैं और विधायक मुख्यमंत्री की घोषणा के अनुसार मीटर नहीं लगवाने पर अड़े हैं। इनकी गुटबाजी खुलकर सामने आने पर सांसद को बचाव में आना पड़ा। सांसद की हिदायत के बाद अनशन समाप्त होते ही महापौर- विधायक ने एक साथ खड़े होकर फोटो खिंचवाए। इस दौरान सांसद ने देखा तो कहा कि अब दोनों दूर से ही फोटो खिंचवा रहे हो। इस पर दोनों सांसद के पास गए और ग्रुप फोटो खिंचवाया।

छोले-भटूरे पर कांग्रेस की खिल्ली

सांसद चौहान ने अनशन के दौरान कांगे्रसियों पर कटाक्ष करते हुए कहा कि हमारे पहले कांग्रेसियों ने जल्दी-जल्दी में उपवास कर लिया और छोले- भटूरे खा लिए। उनका उपवास चूल्हे में गया और देशभर में छोले-भटूरे की खबरें चलती रहीं। यह कल्चर का फर्क है। सांसद ने कहा कि कांग्रेस ने हुड़दंग और हंगामा करके 5 मार्च से 6 अप्रैल तक जितने कार्य दिवस थे, देश की संसद नहीं चलने दी। सैकड़ों करोड़ रुपए इस देश के खजाने के स्वाहा हो गए। विधायक देवेंद्र वर्मा, महापौर सुभाष कोठारी, मांधाता विधायक लोकेंद्र सिंह तोमर, पंधाना विधायक योगिता बोरकर ने भी संबोधित किया।

…तो राजनीति से संन्यास ले लूंगा

सांसद चौहान ने संबोधन के दौरान कांग्रेस पर जमकर कटाक्ष किए। उन्होंने कहा कि फसल बीमा योजना मनमोहन सिंह के जमाने में भी थी, कांग्रेस के मित्रों को कहता हूं उस जमाने में फसल बीमा का क्या लाभ मिला। फसलें तब भी बर्बाद हुईं लेकिन लाभ किसानों को सरकार नहीं दे पाई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के समय में फसल बीमा योजना से खंडवा जिले को लगभग 175 करोड़ रुपए का एक साल में बीमा का लाभ मिला है। वहीं मप्र के मुख्यमंत्री ने अपने खजाने से बर्बाद फसलों पर 197 करोड़ रुपए दिए। एक साल में इसका एक चौथाई भी यदि कांग्रेसियों ने आजादी के बाद से किसानों को बांटा हो तो तो मैं राजनीति से संन्यास ले लूंगा।

कर्मचारियों का धरना

भाजपाइयों के अनशन स्थल के पंडाल के सामने ही मप्र लिपिक वर्गीय शासकीय कर्मचारी संघ के बैनर तले जिलेभर के कर्मचारी भी धरने पर बैठे रहे। विधायक देवेंद्र वर्मा जब अनशन स्थल के लिए यहां पहुंचे तो कर्मचारियों को धरने पर बैठा देखकर उनके पंडाल में जाकर बैठ गए। इस दौरान कर्मचारियों ने अपनी मांगों से अवगत कराते हुए विधायक को बताया कि दो दिवसीय हड़ताल पर कर्मचारी बैठे हैं। इस दौरान कोई कामकाज नहीं होगा। विधायक ने कर्मचारियों को संबोधित करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान संवेदनशील हैं और उन्होंने हाल ही में आंदोलित कर्मचारियों की मांगें पूरी करने का आश्वासन दिया है। निश्चित ही आपकी मांगें भी पूरी की जाएंगी। विधायक यहां से अनशन स्थल पर जाकर बैठ गए।

दोपहर 12.30 बजे जब सांसद नंदकुमार सिंह चौहान अनशन स्थल पहुंचे तो कार्यकर्ता और पदाधिकारी उन्हें भी सबसे पहले कर्मचारियों के धरना स्थल पर ले गए। सांसद ने कर्मचारियों से मांगों से संबंधित ज्ञापन लिया और कहा कि कर्मचारी वर्ग सरकार की नस-नाड़ियों के रूप में है। कर्मचारियों को यदि कोई तकलीफ है तो मुख्यमंत्री निराकरण के लिए हमेशा आगे रहते हैं। उन्होंने कर्मचारियों की मांगें शासन तक पहुंचाने का आश्वासन दिया। इधर मप्र लिपिक वर्ग, मंत्रालयीन कर्मचारी संघ, तृतीय वर्ग शासकीय कर्मचारी संघ, मप्र राजस्व कर्मचारी संघ, मप्र नगर पालिका, निगम कर्मचारी संघ और मप्र लघु वेतन कर्मचारी संघ की एक साथ हड़ताल के कारण शासकीय कार्यालयों में कामकाज ठप रहा।

अनशन स्थल पर शुरू कर दी सुनवाई

– सांसद चौहान के अनशन स्थल पर पहुंचते ही यहां उन्हें आवेदन देने वालों का तांता लग गया। सांसद ने समस्याओं को लेकर आने वाले आवेदकों की सुनवाई अनशन स्थल पर ही शुरू कर दी। देखते ही देखते यहां भीड़ लगने लगी। इस पर भाजपा पदाधिकारियों ने समझाइश देकर लोगों को अनशन समाप्त होने के बाद सांसद से मिलने के लिए कहा।

– जिला पंचायत अध्यक्ष हसीनाबाई भाटे अनशन स्थल पर पहुंची तो उन्होंने अपने चप्पल खो जाने के डर से साथ में ही रखी। अनशन स्थल से उठने के दौरान वे हाथ में ही चप्पल लेकर पंडाल से बाहर आईं।

– सांसद चौहान के संबोधन के दौरान हरसूद के एक ग्रामीण ने हरसूद में सिंचाई परियोजना लाने की बात उठाई। इस पर सांसद ने कहा कि मैं हरसूद से कट गया हूं फिर भी मंत्री विजय शाह से चर्चा करके हरसूद में सिंचाई परियोजना शुरू कराएंगे।

– चार घंटे का अनशन और उपवास भाजपाइयों को भारी पड़ गया। पंडाल में पानी की मात्र चार केन रखी हुई थी जो एक घंटे में ही खाली हो गईं। अधिकांश भाजपाइयों ने चाय की गुमटियों पर जाकर प्यास बुझाई तो कुछ कार से रवाना हो गए और थोड़ी देर बाद अनशन स्थल पर आकर फिर बैठ गए।

– मांधाता विधायक लोकेंद्र सिंह तोमर ने संबोधन के दौरान राहुल गांधी पर कटाक्ष करते हुए कहा कि उन्हें सही दिशा देने वाला कोई नहीं है। गृहलक्ष्मी आ जाती तो थोड़ी -बहुत सही राय मिल जाती। इस पर खूब ठहाके लगे।

– अनशन के दौरान विधायक वर्मा और सांसद के साथ सेल्फी लेने के लिए कार्यकर्ताओं में होड़ लगी रही। सांसद ने अनशन समाप्त होने के बाद करीब डेढ़ घंटे स्थल पर ही रुककर कार्यकर्ताओं से चर्चा की।

– संबोधन के दौरान निमाड़ की नैया नंदू भैया के नारे लगाने पर एल्डरमैन अनिल भगत को मजाकिया अंदाज में सांसद ने कहा कि तुम्हारी पार्वती की दुकान बंद हो जाएगी।

सांसद चौहान ने कहा- कश्मीर में बलात्कार के पीछे पाकिस्तान का हाथ

सांसद नंदकुमार सिंह चौहान ने कश्मीर में मासूम के साथ हुए बलात्कार के मामले में पाकिस्तान को जिम्मेदार ठहराया है। मीडिया से चर्चा में उन्होंने कहा कि कश्मीर में जो कुछ हुआ उसमें पाकिस्तान का हाथ है। सांसद के अनुसार कश्मीर में तो एक फीसदी भी हिंदू नहीं रहते।

अनशन में ये हुए शामिल

कांग्रेस के खिलाफ हुए एक दिवसीय अनशन में भाजपा जिलाध्यक्ष हरीश कोटवाले, विधायक देवेंद्र वर्मा, मांधाता विधायक लोकेंद्रसिंह तोमर, पंधाना विधायक योगिता बोरकर, महापौर सुभाष कोठारी, बुरहानपुर के पूर्व महापौर अतुल पटेल, राजेश डोंगरे, पुरुषोत्तम शर्मा, जगदीश पटेल, त्रिलोक यादव, पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष राजपालसिंह तोमर, नगर परिषद मूंदी अध्यक्ष संतोष राठौर, एनएचडीसी डायरेक्टर नरेंद्रसिंह तोमर, अरुणसिंह मुन्ना, महिला मोर्चा की प्रमिला एतालकर, मंडल पदाधिकारी और बड़ी संख्या में पार्टी कार्यकर्ता मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

बसपा ने भी तोड़ा नाता, राहुल की एक और सियासी चूक, बीजेपी के लिए संजीवनी

बसपा अध्यक्ष मायावती ने कांग्रेस की बजाय अजीत जोगी के