IAS इंटरव्यू में पूछा- काले और गोरे में क्या भेद होता है, जानें जवाब

यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा के इंटरव्यू में आपके डीएएफ और करंट अफेयर से जुड़े तमाम पहलुओं को लेकर आपकी तैयारी ही आपकी सफलता तय करती है। इंटरव्यू में उम्मीदवार की नॉलेज का नहीं बल्कि उसकी अवेयरनेस का टेस्ट होता है। अगर इंटरव्यू बोर्ड में से कोई सदस्य आपके जवाब पर काउंटर कर दें तो आप क्या कहेंगे। डीएएफ और कंरट अफेयर्स के हर पहलू के बारे में सोचना चाहिए।

Loading...

हर विषय को गंभीरता से लेने और समझने की जरूरत होती है। ये बात आपको यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा 2016 में 33वीं रैंक लाने वाले गंगा सिंह के इंटरव्यू से पता चलेगी। राजस्थान के बाड़मेर जिले के रहने वाले गंगा सिंह ने हिन्दी मीडियम से 33वीं रैंक हासिल की थी। 

महज 23 साल की उम्र में दूसरी अटेंप्ट में यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा पास करने वाले गंगा सिंह ने एक वीडियो इंटरव्यू में बताया कि इंटरव्यू में मुझसे रंगभेद की समस्या से जुड़ा एक दिलचस्प सवाल पूछा गया था। उस वक्त दुनिया में रंगभेद से जुड़ी कुछ खबरें आ रही थीं। काले और गोरे के भेद से जुड़ा प्रश्न मेरे इंटरव्यू का टर्निंग प्वॉइंट था। मुझसे पूछा गया कि क्या भारतीय समाज में काले और गोरे का भेदभाव होता है? मैंने कहा कि हां, ये भेदभाव होता है। हम रोजमर्रा की जिंदगी में भी काफी उदाहरण देखते हैं।

यह भी पढ़ें:  सावधान: स्टूडेंट के लिए इंटरनेट सबसे बड़ा खतरा, माँ-बाप ज़रूर पढ़ें ये खबर

उन्होंने (इंटरव्यू बोर्ड के एक सदस्य) कहा कि कैसे, भारत में तो लोकतंत्र है। मैंने कहा कि उदाहरण देता हूं – ट्रैक्टर और ट्रक के पीछे लिखा रहता है बुरी नजर वाले तेरा मुंह काला! इसका मतलब है कि काले रंग के लोग बुरी नजर के हैं और गोरी चमड़ी वाले अच्छी बुद्धि व नजर वाले हैं। बॉलीवुड फिल्मों के गाने भी गोरे रंग पर हैं। अखबार के पेज में भी आता है- वर चाहिए, वधू चाहिए गोरे रंग के। इससे पता चलता है कि काले और गोरे के बीच भेद की विकृत मानसिकता व भावना हमारे समाज में घर कर गई है। 

हिन्दी मीडियम से यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा में शानदार प्रदर्शन करने वाले गंगा सिंह ने कहा- यूपीएससी की तैयारी कर उम्मीदवारों में इंटरव्यू को लेकर बहुत से वहम होते हैं। तैयारी के दौरान मेरे जहन में भी थे। बहुत से सोचते हैं कि अगर इंटरव्यू में प्रश्न अंग्रेजी में पूछ लिया तो क्या बोलेंगे? लेकिन जेएनयू में पढ़ाई के दौरान हम लोग काफी डिबेट किया करते थे। इससे अंग्रेजी में मुझे अभिव्यक्त करना आया। अपनी बात करनी आई। इस तरह की प्रैक्टिस करने से आपका इंटरव्यू काफी आसान पलों के साथ गुजरेगा। कोचिंग के दौरान पहले मॉक इंटरव्यू में मैं नवर्स हो गया था। अपना नाम नहीं बोल रहा था। लेकिन असल यूपीएससी इंटरव्यू में काफी सहज माहौल होता है। वहां काफी कंफर्टेबल माहौल होता है। 

Loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *