Home > कारोबार > उद्योगपतियों पर कितना कर्ज, सिर्फ 2 बैंकों ने ही दी जानकारी

उद्योगपतियों पर कितना कर्ज, सिर्फ 2 बैंकों ने ही दी जानकारी

शराब कारोबारी विजय माल्या और हीरा व्यापारी नीरव मोदी के खिलाफ बैंक फ्रॉड के बड़े मामले सामने आने के बाद पूरे देश का ध्यान बैंकों से कर्ज लेकर हजम कर जाने वाले उद्योगपतियों की तरफ गया है. ऐसे में आजतक के सहयोगी रिपोर्टर अशोक उपाध्याय और संतोष चौबे ने सूचना का अधिकार (आरटीआई) नियम के तहत वित्त मंत्रालाय से देश के बड़े उद्योगपतियों पर कर्ज के बारे में जानकारी मांगी.

आरटीआई पर अमल करते हुए मंत्रालय ने बैंकों से इस बारे में जानकारी इकट्ठा की. आरटीआई के सवालों के तहत प्राइवेट और सरकारी बैंकों से ऐसे लोन की जानकारी मांगी गई.

बैंकों से मिली जानकारी के मुताबिक, कॉर्पोरेट कंपनियों पर करीब 9.5 लाख करोड़ रुपये का कर्ज है. जो जून 2017 तक भारत में सभी बैंक लोन का 12.6 फीसदी है. हालांकि, ये आंकड़ा महज दो बैंकों का है. क्योंकि आरटीआई के तहत प्राइवेट बैंकों ने जानकारी साझा नहीं की है. साथ ही ज्यादातर सरकारी बैंकों ने भी ऐसा डाटा देने में असमर्थता जताई है.

अमेरिका-चीन के बीच व्यापारिक जंग, दुनिया भर के बाजार पर असर

आरटीआई में पूछे गए ये तीन सवाल

आरटीआई में मुख्य रूप से तीन सवाल किए गए. इनमें पहला सवाल ये पूछा गया कि सरकारी बैंकों ने उद्योगपतियों को कितना कर्ज दिया? दूसरा सवाल ये पूछा गया कि प्राइवेट बैंकों ने इन उद्योगपतियों को कितना लोन दिया? जबकि तीसरे सवाल में विशेष रूप से रिलायंस ग्रुप, अडानी ग्रुप, जीवेके ग्रुप, जीएमआर ग्रुप और जेपी ग्रुप को दिए गए लोन के बारे में जानकारी मांगी गई.

ये मिला जवाब

जवाब में ये बात सामने आई कि सरकारी बैंकों में से कुछ ने लोन की जानकारी नहीं दी और ऐसे रिकॉर्ड न होने का हवाला दिया. जबकि सभी प्राइवेट बैंकों ने ये कहते हुए जानकारी नहीं दी कि वो आरटीआई कानून के तहत ऐसा करने के लिए बाध्य नहीं हैं. वहीं, जिन बैंकों ने लोन की जानकारी साझा भी की, उनमें से सिर्फ दो बैंकों ने विशेष कंपनियों या समूहों के बारे में सूचना उपलब्ध कराई.

इन बैंकों ने दिया नियमों का हवाला

विशेष कंपनियों के बारे में जानकारी देने से मना करने वाले बैंकों में भारतीय स्टेट बैंक, बैंक ऑफ महाराष्ट्र, कॉर्पोरेशन बैंक, इंडियन बैंक, कैनरा बैंक, यूको बैंक, इंडियन ओवरसीज बैंक, सैंट्रल बैंक ऑफ इंडिया, बैंक ऑफ इंडिया और सिंडिकेट बैंक शामिल हैं. बैंकों ने जानकारी न देने के पीछे आरटीआई कानून के तहत कमर्शियल गोपनीयता का हवाला दिया.

दो बैंकों ने दी पूरी जानकारी

आंध्रा बैंक और इलाहाबाद बैंक ने हर सवाल का जवाब दिया. इन दोनों बैंकों ने कर्ज के अलावा देश के बड़े बिजनेस समूहों को दिए गए कर्ज की भी जानकारी दी. आंध्रा बैंक ने 31 दिसंबर 2017 तक की जानकारी देते हुए बताया कि अलग-अलग उद्योगपतियों पर उसका 56,098.33 करोड़ का कर्ज है. हालांकि, इलाहाबाद बैंक ने कुछ ग्रुप की ही जानकारी दी.

रिलायंस ग्रुप

आंध्रा बैंक ने रिलायंस के मुकेश अंबानी और अनिल अंबानी ग्रुप के अलग-अलग आंकड़े बताए. बैंक ने बताया कि अनिल अंबानी ग्रुप पर उसका 1708 करोड़ और मुकेश अंबानी ग्रुप पर 1538 करोड़ रुपये का कर्ज है.

 
Loading...

Check Also

मर्सिडीज-बेंज ने उतारी नई CLS, 85 लाख रुपए है कीमत

लक्जरी कारें बनाने वाली जर्मन कंपनी मर्सडीज-बेंज ने शुक्रवार को नई सीएलएस पेश की। दिल्ली …

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com