क्या है कठुआ मामला

जिले के रसाना में दो समुदायों की लड़ाई में एक देवस्थान के केयरटेकर ने अपने बेटे, भतीजे और कुछ पुलिस वालों के साथ मिलकर 8 साल की लड़की का पहले अपहरण और फिर गैंगरेप को अंजाम दिया. इस मामले में पुलिस के अधिकारी भी शामिल हैं. लड़की को सात दिन तक देवस्थान पर ही रखा गया था और कई बार उसके साथ रेप किया गया. लड़की की छत-विक्षत लाश मिलने पर लोगों ने प्रदर्शन किया और सरकार पर दबाव बनाया. बाद में क्राइम ब्रांच को मामला दे दिया गया.

क्राइम ब्रांच की टीम ने मामले का खुलासा करते हुए 8 लोगों को गिरफ्तार किया. लेकिन कुछ क्षेत्रीय लोग, वकीलों का एक समुह और कुछ राजनैतिक लोग आरोपियों के साथ खड़े हो गए हैं. वे आरोपियों की गिरफ्तारी के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं.

अभी अभी: कावेरी मुद्दे पर तमिलनाडु में पीएम मोदी के खिलाफ लगे ‘मोदी गो बैक’ के के नारे वाले गुब्बारे

क्या है उन्नाव मामला

उन्नाव में एक लड़की ने बीजेपी विधायक पर गैंगरेप का आरोप लगाया है. मामले का और गंभीर तब हो गया जब ये आरोप लगा कि शिकायत करने थाने पहुंचे पीड़िता के पिता की पुलिस पिटाई से मौत हो गई. हालांकि, विधायक रेप से और पुलिस पिटाई से मौत से इनकार कर रही है.

मामला तूल पड़ता देख योगी सरकार ने पहले एसआईटी जांच के आदेश दिए. लेकिन वहां से भी चीजें स्पष्ट नहीं हुई तो सीबीआई जांच के आदेश दिए गए हैं. हालांकि, बीजेपी की एक प्रवक्ता सहित विपक्षी नेता इस पर योगी सरकार से सवाल कर रहे हैं. उनका कहना है कि विधायक अब भी क्यों नहीं सलाखों के पीछे है?