आ गई Corona Vaccine, यहां जानें किसे, कब, कहां और कैसे मिलेगी फाइजर वैक्सीन, यहां पढें

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के कारण यह साल लोगों के लिए अच्छा नहीं था, पूरे साल वायरस ने दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में अपना करहर बरपा दिया है। वहीं, अब साल के अंत में कुछ अच्छी खबरें सामने आ रही हैं। कोरोना को मात देने के लिए वैक्सीन आ गई है। यूनाइटेड किंगडम में अगले कुछ दिनों में आम लोगों को वैक्सीन मिलने लगेगी। फाइजर-बायोएनटेक की वैक्सीन को UK की सरकार ने इस्तेमाल की मंजूरी दे दी है। ऐसे में अब ये वैक्सीन किसे और कब मिलेगी और किस तरह दी जाएगी, ऐसे सभी सवालों के जवाब जानिए…

ब्रिटिश रेगुलरेटर्स ने अमेरिकन कंपनी फाइजर और जर्मन कंपनी बायोएनटेक द्वारा बनाए गई वैक्सीन को इजाजत दे दी है। इस वैक्सीन को ट्रायल में 95 फीसदी तक सफलता मिली थी, जिसके बाद UK ने इस वैक्सीन के इस्तेमाल की हामी भर दी है।

यूनाइटेड किंगडम ने कुल 40 मिलियन यानी 4 करोड़ डोज़ का ऑर्डर दिया है, जिसे दो करोड़ लोगों को दिया जा सकेगा। इस वैक्सीन के दो डोज़ हर व्यक्ति को 21 दिनों के अंतराल में दिए जाएंगे, UK ने तय किया है कि वो 16 साल की उम्र से अधिक के लोगों को ये वैक्सीन देगा, ऐसे में उसकी जरूरत के हिसाब से उसे 5 करोड़ से अधिक डोज़ चाहिए। यानी UK के पास अभी जरूरत से कम वैक्सीन है।

खुशखबरी: रूस ने बना ली एक और कोरोना वैक्‍सीन…

अगले कुछ दिनों में बेल्जियम से वैक्सीन की पहली खेप ब्रिटेन पहुंचेगी। उम्मीद की जा रही है कि 15 दिसंबर से आम लोगों को ये डोज़ देना शुरू किया जाएगा। ब्रिटिश स्वास्थ्य मंत्री मैट हैनकॉक ने कहा है कि अगले कुछ हफ्तों में 8 लाख डोज़ मिलेंगी, जबकि लाखों वैक्सीन आने का सिलसिला जारी रहेगा।

आम लोगों को वैक्सीन देना इतना भी आसान नहीं है, इसके लिए काफी चुनौतियों का सामना करना होगा। वैक्सीन को पहुंचाने के लिए उसे -70 डिग्री के तापमान में रखना होगा। हालांकि, राहत की बात ये है कि कुछ दिनों के लिए इसे आम फ्रिज के तापमान (2-8 डिग्री) तक रखा जा सकता है।

यूनाइटेड किंगडम में आम लोगों को वैक्सीन लगाने का जिम्मा वहां की नेशनल हेल्थ सर्विस को मिलेगा, उनके साथ स्थानीय डॉक्टरों को मदद के लिए लगाया जा सकता है। हर शहर और गांव में वैक्सीन पहुंचाने के लिए स्पेशल वैक्सीन सेंटर बनाए गए हैं।

UK के हर व्यक्ति को वैक्सीन मिलने के लिए कुछ महीने लग सकते हैं। क्योंकि UK को एक ही खेप में सारी वैक्सीन नहीं मिलेगी, ऐसे में वहां की सरकार कुछ अन्य रास्तों पर भी विचार कर रही है। फाइजर की वैक्सीन के अलावा UK की सरकार मॉर्डना वैक्सीन भी ले सकती है, ताकि बड़ी संख्या में लोगों को डोज मिल सके।

इसके साथ ही ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी द्वारा बनाई जा रही AstraZeneca से भी उम्मीदें हैं। इस वैक्सीन की सफलता का रेट अभी कम है, लेकिन दाम भी सस्ता है। UK ने पहले ही AstraZeneca की 100 मिलियन डोज़ खरीदी हुई हैं।

News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

twenty − eighteen =

Back to top button