खुशखबरी: JIO में 80 हजार पदों पर निकलीं वैकेंसी, 12वीं पास से लेकर इंजीनियर्स तक करें अप्लाई

- in करियर
रिलायंस जियो मौजूदा कारोबारी साल में करीब 75,000-80,000 लोगों की भर्ती करेगी। यह बात कंपनी के मुख्य मानव संसाधन अधिकारी संजय जोग ने सोसाइटी ऑफ ह्यूमैन रिसोर्सेज मैनेजमेंट के एक कार्यक्रम में एक इतर मौके पर कही। उन्होंने बताया कि कंपनी में अभी करीब 1,57,000 लोग वेतन सूची में हैं। उन्होंने बताया कि कंपनी छोड़ने की दर मुख्यालय स्तर पर बस दो फीसदी है और समग्र स्तर पर 18 फीसदी है।

 खुशखबरी: JIO में 80 हजार पदों पर निकलीं वैकेंसी, 12वीं पास से लेकर इंजीनियर्स तक करें अप्लाई

जोग ने कहा कि कंपनी की लगभग 6,000 कालेजों के साथ टाईअप है। इसके अलावा कंपनी सोशल मीडिया मंचों के माध्यम से भी नियुक्तियां करेगी। उन्होंने कहा कि संदर्भ आधार पर नियुक्तियों का हिस्सा करीब 60 से 70 फीसदी तक है। इस मामले में कालेज से नाम आना और कर्मचारियों के जरिये नाम भेजा जाना नियुक्ति में योगदान करने वाले दो प्रमुख स्रोत हैं। 

इनको मिलेगी नौकरी

रिलायंस जियो ने 12वीं क्लास पासआउट से लेकर के एमबीए, स्नातक और इंजीनियर्स के लिए नौकरी निकाली है। कंपनी की वेबसाइट careers.jio.com पर सभी नई पोस्ट और शैक्षिक योग्यता के बारे में जानकारी है। हालांकि जॉब पोस्ट के साथ सैलरी नहीं बताई है, लेकिन जानकार मानते हैं कि जियो में काम करने वाले कर्मचारी को काफी मोटे पैकेज पर रखा जाता है। यह नौकरियां कंपनी के सभी डिपार्टमेंट्स में सीनियर से लेकर के लोअर लेवल तक के लिए निकली हैं। कंपनी फिलहाल मार्केटिंग सेल्स, कस्टमर सर्विस से लेकर आईटी, कॉरपोरेट जॉब्स में मौके दे रही है।

शहरों के हिसाब से निकली हैं नौकरियां

जियो ने शहरों के हिसाब से भी नौकरियां निकाली हैं। इसका मतलब यह है कि आप अपने पसंदीदा जगह पर नौकरी इस कंपनी में कर सकते हैं। अगर आप में योग्यता और काबिलियत है तो फिर नवी मुंबई में बने जियो के हेड ऑफिस में भी नौकरी पा सकते हैं। हालांकि रिलायंस ने फिलहाल इन नौकरियों में आवेदन करने के लिए कोई अंतिम तारीख नहीं दी है, लेकिन वाकई में अगर आप सीरियस हैं तो फिर तुरंत अप्लाई कर दें। 
 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

#बड़ी खुशखबरी: 50000 रु वेतन के साथ केरल में प्रोफ़ेसर पदों पर पाए नौकरी

केरल विश्वविद्यालय मत्स्य पालन और महासागर अध्ययन द्वारा