ईडन गार्डंस से लेकर लॉर्ड्स तक, ये है टीम इंडिया का नया पोस्टर ब्वॉय

- in खेल

नई दिल्ली: टीम इंडिया के स्टार स्पिनर और भारत के पहले ‘चाइनामैन’ गेंदबाज कुलदीप यादव  इंग्लैंड में अपनी फिरकी से फिरंगी बल्लेबाजों को परेशान किए हुए हैं. इंग्लैंड दौरे पर यही खिलाड़ी है, जो हर मैच के बाद सुर्खियों में छा जाता है और टीम इंडिया का नया पोस्टर ब्वॉय बन गया है.  कुलदीप का उदय 2014 के अंडर-19 वर्ल्ड कप में हुआ.

यूनाइटेड अरब अमीरात में हुए इस वर्ल्ड कप में कुलदीप ने स्कॉटलैंड के खिलाफ हैट्रिक हासिल की थी. इसके साथ ही आईसीसी अंडर-19 के इतिहास में हैट्रिक लेने वाले वह पहले गेंदबाज बन गए थे. कुलदीप ने अपना इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) करियर 2012 में मुंबई इंडियंस के साथ शुरु किया था, लेकिन उन्होंने डेब्यू किया 2016 में कोलकाता नाइट राइडर्स की तरफ से. 2017 में कुलदीप यादव ने धर्मशाला में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अपने टेस्ट करियर का डेब्यू किया और पहले ही मैच में अपने इरादे साबित कर दिए थे. 

बता दें कि कुलदीप यादव वही ‘चाइनामैन’ गेंदबाज हैं, जिनकी वजह से कभी कप्तान विराट कोहली और अनिल कुंबले के बीच झगड़े की शुरुआत हुई थी और आखिरकार अनिल कुंबले को कोच पद से इस्तीफा देना पड़ा था. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, टीम इंडिया के पूर्व कोच अनिल कुंबले और कप्तान विराट कोहली के बीच झगड़े की शुरुआत की वजह कुलदीप यादव  ही बने थे. 2017 मार्च में ऑस्ट्रेलिया के भारत दौरे पर कप्तान और कोच के बीच अनबन हुई थी. दरअसल, सीरीज के तीसरे टेस्ट में कुंबले चाहते थे कि कुलदीप यादव को टीम में शामिल किया जाए लेकिन कोहली ने इससे साफ इंकार कर दिया. हालांकि, आखिरी टेस्ट मैच में कुलदीप को शामिल कर लिया गया था. भारत ने इस टेस्ट मैच जीत के साथ सीरीज पर भी कब्जा जमाया था. इस मैच में कुलदीप यादव ने चार विकेट लेकर अपने टेस्ट करियर का शानदार आगाज किया था.

2017 में कुलदीप यादव ने 12 मैचों में 16 विकेट लेकर सुर्खियां बटोरीं. इसका परिणाम यह हुआ कि उन्हें वेस्टइंडीज के खिलाफ वन-डे सीरीज में टीम इंडिया में चुन लिया गया. इस वन-डे सीरीज में भी कुलदीप की फिरकी का जादू जमकर बोला. इसके बाद से उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा. 2018 में दक्षिण अफ्रीका दौरे पर भी कुलदीप यादव के नाम की ही चर्चा रही. उत्तर प्रदेश के इस स्पिनर के पास पूरा मौका है कि वह आने वाले समय में खुद को सबसे बेहतरीन स्पिनर साबित कर दें. 

क्रिकेट के तीनों फॉर्मेट में शानदार परफॉर्मेंस
वेस्ट इंडीज के खिलाफ डेब्यू वन-डे सीरीज में कुलदीप ने 4.05 की इकोनॉमी से 5 मैचों में 8 विकेट लिए थे. पिछले साल ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वन-डे सीरीज में में वह तीसरे ऐसे भारतीय गेंदबाज बने जिन्होंने वन-डे में हैट्रिक ली है. उन्होंने यह उपलब्धि ईडन गार्ड्न्स पर उस टीम के खिलाफ हासिल की, जो पांच बार विश्व चैंपियन रह चुकी थी. कुलदीप यादव ने इस सीरीज में 14 मैचों में 4.88 की इकोनॉमी से 22 विकेट लेकर सनसनी मचा दी थी. 

विदेशों में भी साबित कर रहे अपनी उपयोगिता 
2018 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ कुलदीप ने शानदार प्रदर्शन किया. 23 वर्षीय इस युवा बाएं हाथ के चाइनामैन गेंदबाज ने वन-डे सीरीज में 6 मैचों में 17 विकेट लिए. यह सीरीज भारत ने 5-1 से जीती. युजवेंद्र सिंह के साथ उनका संयोजन भी शानदार रहा. हाल ही में इंग्लैंड के खिलाफ टी-20 सीरीज में कुलदीप ने 2 मैचों में 5 विकेट लिए. मैनचेस्टर में पहले मैच में कुलदीप ने 4 ओवरों में 24 रन देकर 5 विकेट लिए. कुलदीप ने पहले वन-डे में भी श्रेष्ठ गेंदबाजी की. उन्होंने 25 रन देकर इंग्लैंड के 6 बल्लेबाजों को पवेलियन का रास्ता दिखाया. इंग्लैंड में किसी भी स्पिनर का यह सबसे बढ़िया प्रदर्शन था. कुलदीप यादव केवल स्पिनर फ्रैंडली पिचों पर ही नहीं, दक्षिण अफ्रीका और इंग्लैंड की तेज गेंदबाजों की मदद करने वाली पिचों पर भी अपनी उपयोगिता साबित कर रहे हैं.

यूनीक गेंदबाज बनते जा रहे हैं कुलदीप
यह ‘चाइनामैन’ अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में बेहद उपयोगी और अनूठा गेंदबाज है. दुनिया में आपको ऑफ स्पिनर, लेग स्पिनर और लेफ्ट आर्म आर्थोडोक्स स्पिनर मिल जाएंगे, लेकिन लेफ्ट आर्म चाइनामैन बॉलर मिलना मुश्किल है. कुलदीप यादव इस मामले में बेस्ट गेंदबाज के रूप में तेजी से उभर रहे हैं. वह अपनी वेरिएशन से बल्लेबाजों को परेशान करते हैं. दुनिया के बेहतरीन बल्लेबाज भी उनकी गेंदों को समझने में असफल रहे हैं. उनकी गेंदों को पढ़ना उनके लिए मुश्किल होता है. गैर एशियाई खिलाड़ी उनकी गेंदों पर संघर्ष करते दिखाई देते हैं. कहा जा सकता है कि कुलदीप यादव यूनीक गेंदबाज हैं. 

बहुत कम उम्र में हासिल की बड़ी सफलता
कुलदीप यादव की उम्र अभी केवल 23 वर्ष है यानि उन्हें बहुत सा क्रिकेट खेलना है. यदि वह फिट रहते हैं तो वह कम से कम एक दशक तक टीम इंडिया में बने रह सकते हैं. बहुत कम गेंदबाजों को इतनी छोटी उम्र में इतनी सफलता मिलती है, इसलिए कुलदीप का भविष्य उज्ज्वल दिखाई पड़ता है. कप्तान विराट कोहली भी कुलदीप यादव की प्रतिभा से चकित हैं. कोहली कुलदीप से इतने प्रभावित हैं कि हर मैच के बाद उनकी तारीफ करते हैं. हाल ही में विराट ने कहा है कि, सीमित ओवरों में टीम को बेहतरीन सफलता दिलाने के बाद लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल और चाइनामैन कुलदीप यादव टेस्ट टीम के लिए अपनी दावेदारी पेश कर रहे हैं और आने वाले दिनों में सफेद जर्सी में भारत के लिए खेलते देखे जा सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

पाक के लिए ‘खतरे की घंटी’ बने ये भारतीय खिलाड़ी, एशिया कप में ठोका शतक

टीम इंडिया के सलामी बल्लेबाज शिखर धवन ने एशिया