अगर आप नौकरी की तलाश कर रहे हैं तो आपके लिए अच्छी खबर है. हाल ही में हुए एक सर्वेक्षण की रिपोर्ट में यह दावा किया गया है कि भारत में एशिया के दूसरे देशों के मुकाबले ज्यादा लोगों को नौकरियां मिलने वाली हैं. सबसे संतोषजनक बात यह है कि यह सब इसी चालू वित्त वर्ष की पहली छमाही में होने वाला है. यानी अगर आप जॉब की तलाश कर रहे हैं तो इस बात की संभावना ज्यादा है कि आपको जल्द ही नौकरी मिल जाए.

सर्वे रिपोर्ट के अनुसार पिछले दो साल से तुलना करें तो भारत में हायरिंग प्रक्रिया में बढ़ोतरी हुई है. चालू वित्तीय वर्ष की पहली छमाही में कुछ सेक्टर्स की बहुत सी कंपनियां ज्यादा से ज्यादा कर्मचारियों को हायर कर रही हैं और अगामी कुछ महीनों के दौरान अभी और भी हायरिंग्स होंगी.

इस सर्वेक्षण को टीमलीड एम्प्लॉयमेंट आउटलुक ने किया है. इसकी रिपोर्ट के अनुसार साल 2017 के अक्टूबर-मार्च के दौरान नेट एमप्लॉयमेंट आउटलुक 91 फीसदी था, जबकि इस साल इसी समयावधि अक्टूबर-मार्च 2017-18 में एमप्लॉयमेंट आउटलुक 95 प्रतिशत रहा. एमप्लॉयमेंट आउटलुक में 4 प्वॉइंट्स की बढ़ोतरी हुई है. हालांकि अक्टूबर-मार्च 2016-17 में एमप्लॉयमेंट आउटलुक 95 फीसदी था.

#बड़ी खुशखबरी: इस बैंक में आई नौकरियों की बहार, युवा जल्द करें आवेदन

इन सेक्टर्स में होगी नौकरी की बरसात

सर्वेक्षण रिपोर्ट के अनुसार इस वित्तीय वर्ष में जो सेक्टर सबसे ज्यादा नौकरियां देने वाला है, उसमें रीटेल, बिजनेस प्रोसेस आउटसोर्सिंग (BPO), IT सर्विसेज(ITeS), फास्ट मूविंग कंस्ट्रक्शन गूड्स(FMCG), कंस्ट्रक्शन और रियल एस्टेट और मीडिया और एंटरटेंमेंट.

केपीओ: 4 प्रतिशत की बढ़ोतरी
ई-कॉमर्स और टेक स्टार्टअप: 3 प्रतिशत की बढ़ोतरी
फाइनेंशियल सर्विसेज: 3 प्रतिशत की बढ़ोतरी
मीडिया एंड एंटरटेंंमेंट: 3 प्रतिशत की बढ़ोतरी
रीटेल: 2 प्रतिशत की बढ़ोतरी
बीपीओ और आईटी : 2 प्रतिशत की बढ़ोतरी
एफएमसीजी: 2 प्रतिशत की बढ़ोतरी
कंस्ट्रक्शन और रियल एस्टेट : 2 प्रतिशत की बढ़ोतरी

इन सेक्टर्स में नौकरी मिलना थोड़ा मुश्किल

एग्रीकल्चर और एग्रोकेमिकल : 4 फीसदी की गिरावट
टेलीकॉम्यूनिकेशन: 4 प्रतिशत की गिरावट
हेल्थकेयर और फार्मास्यूटिकल: 2 फीसदी की गिरावट
एजुकेशन सर्विस: 2 प्रतिशत की गिरावट
मैनुफैक्चरिंग, इंजीनियरिंग और इंफ्रास्ट्रक्चर: 2 फीसदी की गिरावट
ट्रैवल और हॉस्पीटैलिटी: 1 प्रतिशत की गिरावट

इन शहरों में मिली सबसे ज्यादा नौकरियां

मुंबई : 4 फीसदी बढ़ा
दिल्ली : 3 प्रतिशत बढ़ोतरी
बेंगलुरु, हैदराबाद और पुणे : प्रत्येक 1 फीसदी का इजाफा

इन शहरों में हाल बुरा:

कोलकाता: नौकरी देने के मामले में 3 फीसदी गिरावट
अहमदाबाद: 2 प्रतिशत कम लोगों को नौकरी
चेन्नई: 1 फीसदी की गिरावट.

टीमलीज की को-फाउंडर रितुपरना चक्रवर्ती ने कहा कि भारत में एमप्लॉयमेंट आउटलुक 95% पर है जो दूसरे एशाई देशों के मुकाबले काफी ऊपर है. देश के आठ बड़े शहरों में से 5 शहरों में हायरिंग में इजाफा देखा जा सकता है. नए कर्मियों को हायर करने में सबसे आगे मध्यम आकार की कंपनियां हैं. इनके कारण ही हायरिंग सेगमेंट में 5 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है.

यह सर्वे रिपोर्ट विभिन्न 16 सेक्टर्स की 695 छोटी, मध्यम और बड़ी कंपनियों के एचआर से मिले डेटा के आधार पर तैयार की गई है. सर्वेक्षण के दौरान 96 प्रतिशत कंपनियों ने हायरिंग को लेकर सकारात्मक रवैया बताया. वहीं 1 प्रतिशत कंपनियों में हायरिंग प्रक्रिया में कमी आई है. जबकि 3 फीसदी कंपनियों ने ना तो हायरिंग बढ़ाई है और ना ही घटाई है.