4 महीने तक रोज प्रेमिका की कब्र पर सोता था प्रेमी, एक दिन हुआ कुछ ऐसा कि उसने कब्र से शव निकालकर…

आपने अकसर देखा होगा कि लोग प्यार में जब होते हैं तो हर हद पार कर देते हैं. आज हम आपको एक ऐसे ही किस्से के बारे में बताने जा रहे हैं जिसको सुनकर शायद आपको यकीन न हो, लेकिन ये बात पूरी तरह से सच है. एक प्रेमी अपनी प्रेमिका को इस कदर प्यार करता था कि वो उसकी मौत के बाद रोज रात को उसकी कब्र के पास जाकर सोने लगा. रोज कब्र पर सोने के दौरान इस प्रेमी को लगा की उसकी प्रेमिका की मौत नहीं हुई बल्कि उसकी हत्या की गयी है उसके बाद जो हुआ उसको सुनकर आपके पैरों तले जमीन खिसक जायेगी.

4 महीने तक रोज प्रेमिका की कब्र पर सोता था प्रेमी, एक दिन हुआ कुछ ऐसा कि उसने कब्र से शव निकालकर…

4 महीने पहले हुई थी प्रेमिका की मौत

दरअसल ये मामला थाना सिम्भावली क्षेत्र के गांव मुरादपुर का है. इस गांव में रहने वाले एक लड़का और लड़की बहुत सालों से एक-दूसरे को बहुत ज्यादा प्यार करते थे, लेकिन लड़की के घरवालों को लड़का बिलकुल भी पसंद नहीं था और वो नहीं चाहते थे कि उनकी लड़की की शादी इस लड़के से हो. 7 महीने बाद लड़की की अचानक मौत हो गयी और उसके घरवालों ने उसको घर के पास वाले कब्रिस्तान में दफना दिया.

रोज रात को प्रेमिका की कब्र पर सोता था प्रेमी

लड़की की मौत की खबर जब उसके प्रेमी नदीम को लगी, तो वो रोज रात को अपनी प्रेमिका की कब्र के पास सोने लगा. थोड़े समय बाद नदीम को पता चला कि उसकी प्रेमिका की हत्या उसी के परिवार के लोगों ने की हैं, तो उसने कोर्ट की क्षरण लेकर प्रेमिका के घरवालों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज करवाया. जिसके बाद कोर्ट ने लड़की के शव का पोस्टमार्टम करने के आदेश दिए.

आज वैज्ञानिकों ने सुलझाई सबसे बड़ी पहेली.. बताया सबसे पहले मुर्गी आई या अंडा

क्रब से निकलवाया गया शव

कोर्ट का आदेश सुनते ही पुलिस महकमे की नींद उड़ गयी. 8 सितम्बर 2017 को पुलिसकर्मियों ने गांव में पहुंचकर शव को कब्र से निकालकर उसको पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया. पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद इस बात का खुलासा हुआ कि लड़की की मौत कीटनाशक दवा पीने से हुई थी. जिसके बाद गुस्से में आकर लड़की के घरवालों ने लड़के के परिवारवालों पर फायरिंग कर दी.जिसमें 2 लोग बुरी तरह से घायल हो गए.

Ujjawal Prabhat Android App Download Link
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button