रास्ता खोलने गए स्क्रीनिंग प्लांट संचालकों पर फायरिंग, पूर्व मंत्री व भानजे सहित 15 पर केस

- in हरियाणा

खिजराबाद थाना पुलिस ने स्टोन संचालकों पर फायरिंग और जेसीबी मशीन व बाइक छीनने के आरोप में पूर्व मंत्री निर्मल सिंह व उनके भानजे सुल्तान सिंह सहित 15 लोगों पर हत्या के प्रयास व अन्य धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज किया है। जगाधरी के डीएसपी राजेंद्र सिंह ने पांच थानों की पुलिस के साथ आरोपितों को गिरफ्तार करने पूर्व मंत्री के बेलगढ़ स्थित घोड़ा फार्म सहित अन्य ठिकानों पर दबिश डाली। केवल एक आरोपित ही पकड़ा जा सका। उसे न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है।

रास्ता खोलने गए स्क्रीनिंग प्लांट संचालकों पर फायरिंग, पूर्व मंत्री व भानजे सहित 15 पर केस

खिजराबाद पुलिस को दी शिकायत में मंडौली गागट निवासी कर्ण सिंह ने बताया कि बेलगढ़ के एरिया में उनका गुर्जर स्क्रीनिंग प्लांट है। यमुना नदी के बांध से होते हुए पूर्व मंत्री निर्मल सिंह की जमीन के साथ कच्चा रास्ता कन्यावाला गांव से लाक्कड़ जाता है। इस रास्ते से स्क्रीनिंग प्लाटों के लिए कच्चा माल जाता है। पूर्व मंत्री निर्मल सिंह ने दस दिन पहले खाई खोदकर इस सरकारी रास्ते को बंद कर दिया।

 उसके बाद क्रशर जोन व स्क्रीनिंग प्लांट मालिकों की 22 अप्रैल को पंचायत हुई। देवधर के पूर्व सरपंच ओमकार ने निर्मल सिंह के मुंशी असलम से फोन पर कहा कि आपने जो सरकारी रास्ता बंद किया है, उसे खोल दो। मुंशी का जवाब था कि पूर्व मंत्री से बात करने के बाद शाम तक रास्ता खोल देंगे, लेकिन उन्होंने 24 अप्रैल तक रास्ता नहीं खोला।

इस बीच भी निर्मल सिंह से संपर्क किया गया, लेकिन बात नहीं हो पाई। इसके बाद सभी लोगों ने तय किया कि रास्ते को स्वयं ही ठीक कर लिया जाए। इसके बाद उन्होंने अपने ऑपरेटर बिंदर को जेसीबी देकर रास्ता ठीक करने के लिए भेज दिया। वह स्वयं भी मौके पर पहुंच गया। उसी समय बल्लेवाला निवासी अनूप व मेहरमाजरा निवासी बृजमोहन भी बाइक से वहा आ गए। जैसे ही बिंदर जेसीबी से रास्ता ठीक करने लगा तो एक गाड़ी, एक डंपर व एक ट्रैक्टर वहां आकर रुके।

गाड़ी से पूर्व मंत्री निर्मल सिंह, सुल्तान सिंह, असलम दौलतपुर, ककड़ोनी निवासी रामू, बल्लेवाला निवासी छोटा असलम, डंपर से हिंदुओवाला निवासी मनन, संदीप और ट्रैक्टर से अब्दुल व रोहित उतरा। इनके साथ 5-6 अन्य लोग भी थे, जिनके हाथ में लाठियां व गंडासियां थी। आरोप है कि निर्मल सिंह ने ललकारते हुए कहा कि कोई भी बचने न पाए। सभी को जान से मार दो।

 शिकायत के अनुसार निर्मल सिंह ने कर्ण सिंह व बिंदर को जान से मारने की नीयत से गोली चला दी। गोली जेसीबी के शीशे पर लगी। सुल्तान ने भी गोली चला दी। तभी निर्मल सिंह ने फिर से उन पर फायर कर दिया। इस दौरान गोली जेसीबी के पिछले टायर में लगी। जान बचाकर भागने लगे तो असलम दौलतपुर ने भी उन पर फायरिंग की। उसके बाद आरोपित पक्ष ने पत्थर भी मारे। पूर्व मंत्री निर्मल सिंह व अन्य उनकी जेसीबी और बृजमोहन व अनूप की मोटरसाइकिल उठाकर ले गए। इस पर पुलिस ने पूर्व मंत्री सहित 15 लोगों पर हत्या के प्रयास सहित विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है।

पूर्व मंत्री की भी सुनिए

पूर्व मंत्री निर्मल सिंह ने बताया कि कि खनन माफिया के लोग पिछले काफी समय से उनकी जमीन में अवैध खनन कर रहे थे। इतना ही नहीं, उनके निजी रास्तों का भी इस्तेमाल कर रहे थे।  उन्होंने सिर्फ अपने रास्ते पर खाई खोदी थी। उन पर जो फायरिंग का आरोप लगा है, वह बिल्कुल निराधार है। यह सारी साजिश राजनीतिक द्वेष के कारण रची गई है। वह कोर्ट का दरवाजा खटखटाएंगे। उन्होंने बताया कि अवैध खनन को रोकने के लिए सरकार को लिखित तौर पर कई बार शिकायत दे चुके हैं लेकिन आज तक कोई कार्रवाई नहीं हुई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

रेवाड़ी गैंगरेप केस: रोहतक में दोस्त की स्पोर्टस एकेडमी में छिपा था आरोपी निशू

रेवाड़ी गैंगरेप केस में पुलिस ने अब तक सिर्फ एक