अभी अभी: EVM मामले पर चुनाव आयोग सख्त, फिर से हो सकते है…

मध्य प्रदेश के भिंड जिले में VVPAT मशीन की जांच के दौरान केवल बीजेपी के निशान वाली पर्चियां निकलने के मामले में चुनाव आयोग ने कलेक्ट और एसपी सहित 19 अधिकारियों का तबादला कर दिया है।

मोदी सरकार ने लिया बड़ा फैसला: GST लागू करने के लिए कश्मीर से हटा दी धारा 370

आपको बता दें कि दोपहर में ही दिल्ली के मुख्यमंत्री मशीन में गड़बड़ी की शिकायत लेकर चुनाव आयोग पहुंचे थे।टीवी रिपोर्ट्स के मुताबिक चुनाव आयोग ने भिंड के कलेक्टर, एसपी सहित 19 अधिकारियों का ट्रांसफर कर दिया है। आपको बता दें कि भिंड में अगले सप्ताह विधानसभा उपचुनाव होना है।
शुक्रवार को मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया कि ईवीएम डेमो में किसी भी बटन को दबाने पर बीजेपी को वोट गया। रिपोर्ट में यह भी दावा किया गया कि मध्यप्रदेश की मुख्य चुनाव अधिकारी सलीना सिंह ने पत्रकारों को यह खबर छापने पर पुलिस थाने में हिरासत में रखने की चेतावनी दी। शनिवार को इस मुद्दे पर खूब हंगामा हुआ। कांग्रेस और आम आदमी पार्टी ने चुनाव आयोग से शिकायत की और आगे से सभी चुनाव ईवीएम की बजाय बैलेट पेपर से ही कराने की मांग की। 
इसके बाद चुनाव आयोग के एक प्रवक्ता ने कहा, ‘हमने जिला निर्वाचन अधिकारियों से विस्तृत रिपोर्ट मांगी है।’ वीवीपीएटी एक ऐसी मशीन होती है जिससे निकली पर्ची यह दिखाती है कि मतदाता ने किस पार्टी को वोट दिया है। मतदाता केवल सात सेकंड तक इस पर्ची को देख सकता है इसके बाद यह एक डिब्बे में गिर जाती है और मतदाता इसे अपने साथ नहीं ले जा सकता।
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button