आर्थिक सर्वेक्षण से पता चलता है कि राज्य में वर्ष 2015-16 की तुलना में अंडों के उत्पादन में 17.53 प्रतिशत की बढ़ोतरी दर्ज की गई है. सिलसिलेवार देखें तो राज्य में वर्ष 2012-13 में 8712 लाख अंडों का उत्पादन होता था, जो वर्ष 2013-14 में बढ़कर 9671 लाख हो गया. वर्ष 2014-15 में 11776 लाख, वर्ष 2015-16 में 14414 लाख और 2016-17 में यह आंकड़ा 16941 लाख पर पहुंच गया.

अभी-अभी: कांची पीठ के शंकराचार्य जयेन्द्र सरस्वती का निधन, देश को लगा एक और झटका

इसी तरह मांस उत्पादन के मामले में बेतहाशा बढ़ोतरी दर्ज की गई है. वर्ष 20115-16 के मुकाबले वर्ष 2016-17 में 12.85 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई है. पिछले पांच साल के ब्यौरे पर नजर दौड़ाएं तो पता चलता है कि वर्ष 2012-13 में मांस उत्पादन 40 हजार मीट्रिक टन था, जो वर्ष 2013-14 में यह आंकड़ा 43 हजार मीट्रिक टन पर पहुंच गया. इसी तरह वर्ष 2014-15 में 48 हजार मीट्रिक टन, वर्ष 2015-16 में 59 हजार मीट्रिक टन मांस का उत्पादन हुआ. इसके बाद वर्ष 2016-17 में मांस का उत्पादन बउ़ी छलांग लगाते हुए 79 हजार मीट्रिक टन तक पहुंच गया.