बड़ीखबर: भूख हड़ताल के चलते स्वास्थ्य मंत्री बिगड़ी सत्येंद्र जैन की बिगड़ी सेहत, अस्पताल में कराया भर्ती

नई दिल्ली: उपराज्यपाल अनिल बैजल के आवास पर भूख हड़तालकर रहे दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन की तबीयत खराब होने के बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर यह जानकारी दी. गौरतलब है कि पिछले सात दिनों से आईएएस अफसरों की हड़ताल खत्म कराने की मांग को लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया अपने मंत्रिमंडल सहयोगी सत्येंद्र जैन और गोपाल राय के साथ धरना दे रहे हैं.बड़ीखबर: भूख हड़ताल के चलते स्वास्थ्य मंत्री बिगड़ी सत्येंद्र जैन की बिगड़ी सेहत, अस्पताल में कराया भर्ती

इसमें से सत्येंद्र जैन और गोपाल राय भूख हड़ताल पर हैं. आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह ने भी ट्वीट कर उपराज्यपाल अनिल बैजल पर निशाना साधा. संजय सिंह ने ट्वीट किया, ‘सत्येंद्र जैन जी की तबीयत खराब होने की वजह से उनको हॉस्पिटल में भर्ती कराया जा रहा है, लेकिन केंद्र की सत्ता में बैठे मोदी जी और LG को कोई संवेदना नहीं है. आम आदमी पार्टी के ट्विटर हैंडल से ट्वीट कर बताया गया है कि स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन को LNJP अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

बीते दिनों खबर आई थी कि भूख हड़ताल के चौथे दिन स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन का वजन 1 किलो 200 ग्राम तक बढ़ गया है.  स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन का दोपहर में  चेकअप करने वाले डॉक्टरों ने नाम नहीं बताने के शर्त पर इस बात की पुष्टि की थी. इस खबर के आते ही आप के बागी विधायक कपिल मिश्रा ने सत्येंद्र जैन पर तंज कसा था और ट्वीट कर कहा था कि ये लोग भूख हड़ताल में भी घोटाला कर रहे हैं. बता दें कि डॉक्टरों की एक टीम भूख हड़ताल पर बैठे सत्येंद्र जैन और गोपाल राय का चेकअप करती है.

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के धरने के मामले में शनिवार को उस समय नया मोड़ आ गया था. जब चार राज्यों के मुख्यमंत्री उनके समर्थन में आए थे. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, आंध्र प्रदेश के सीएम चंद्रबाबू नायडू, केरल के सीएम पिनरई विजयन और कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने अरविंद केजरीवाल का समर्थन किया था. उन्होंने शनिवार शाम एलजी अनिल बैजल से केजरीवाल से मिलने की इजाजत मांगी थी, लेकिन उन्होंने अनुमति देने से इंकार कर दिया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

आज भीमा कोरेगांव मामले में होगी अहम सुनवाई

भीमा कोरेगांव हिंसा से जुड़े पांच एक्टिविस्टों की गिरफ्तारी