क्या आपको पता हैं देश के राष्ट्रपति की कार पर नंबर प्लेट क्यों नहीं होता?

- in Mainslide, राष्ट्रीय

नई दिल्ली। क्या आप अपनी गाड़ी को बिना रजिस्ट्रेशन नंबर के चला सकते हैं? आपकी गाड़ी पर सामने और पीछे की तरफ रजिस्ट्रेशन नंबर नहीं होगा तो आपके खिलाफ क्या कार्रवाई होगी? क्या पुलिस आपकी गाड़ी जब्त नहीं कर लेगी? या क्या आपका चालान नहीं हो जाएगा? ये प्रश्न इसलिए क्योंकि देश के राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति और राज्यों के राज्यपाल सहित कई वीवीआईपी की कारों पर रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट आपने नहीं देखी होगी। यही नहीं विदेश मंत्रालय के अनुसार उनके पास 14 ऐसी गाड़ियां हैं, जिन पर नंबर प्लेट नहीं लगी है। इन वाहनों का इस्तेमाल विदेशी मेहमानों की आवभगत के लिए किया जाता है। ऐसे में आपके जेहन में प्रश्न नहीं उठता कि आखिर इन गाड़ियों को किस कानून के तहत ऐसा करने की छूट मिलती है? चलिए हम बताते हैं आखिर ऐसा क्यों होता है और किस कानून के तहत इन्हें यह छूट मिलती है। पहले जानते हैं क्या है गाड़ियों के रजिस्ट्रेशन को लेकर क्या कहता है कानून…

सर्टिफिकेट ऑफ रजिस्ट्रेशन क्या होता है?
सर्टिफिकेट ऑफ रजिस्ट्रेशन का सीधे शब्दों में अर्थ यह है कि किसी गाड़ी को सड़क पर चलने देने की अनुमति देने के लिए सरकार की तरफ से एक रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट दिया जाता है। इसे ही आरसी या सर्टिफिकेट ऑफ रजिस्ट्रेशन कहा जाता है। इस रजिस्ट्रेशन का नंबर ही आपकी गाड़ी का नंबर कहलाता है, जो दिल्ली में DL, चंडीगढ़ में CH, उत्तर प्रदेश में UP, उत्तराखंड में UK, पंजाब में PB और बिहार में BR से शुरू होता है। किसी भी गाड़ी का रजिस्ट्रेशन 15 साल के लिए होता है। इसके बाद यह रजिस्ट्रेशन स्वत: खत्म हो जाता है, हालांकि अगर गाड़ी अच्छी स्थिति में है और सारे टेस्ट पास कर लेती है तो रजिस्ट्रेशन को 5-5 साल के लिए रिन्यू भी किया जा सकता है। रजिस्ट्रेशन नंबर के बिना किसी भी गाड़ी को सड़क पर चलने की अनुमति नहीं दी जाती है। रजिस्ट्रेशन नंबर आपकी गाड़ी पर साफ-साफ और उचित तरीके से अंकित होना चाहिए। यही नहीं गाड़ी चलाते वक्त आपके पास उसकी आरसी होना भी जरूरी होता है।

टैंपरेरी नंबर पर कितने दिन चला सकते हैं गाड़ी
अगर आपने नई गाड़ी ली है तो उसके साथ एक टैंपरेरी (अस्थायी) रजिस्ट्रेशन नंबर दिया जाता है। इस नंबर के साथ भी आप अपनी गाड़ी चला सकते हैं। लेकिन ध्यान रहे कि इस टैंपरेरी रजिस्ट्रेशन के साथ आप किसी भी सूरत में एक माह से ज्यादा गाड़ी नहीं चला सकते और यह रिन्यू भी नहीं होता है। यही नहीं एक महीने से पहले आपकी गाड़ी का रजिस्ट्रेशन पूरा हो गया है तो आपको तुरंत उसे अपनी गाड़ी पर इंगित करना होगा, क्योंकि सर्टिफिकेट ऑफ रजिस्ट्रेशन मिल जाने के बाद आपका टैंपरेरी नंबर निरस्त हो जाता है।

बड़ी खबर: बदमाशो ने बागपत में कांग्रेस नेता को गोलियों से भूना

…तो क्या होगा
खबर के शुरू में ही हमने आपसे कई प्रश्न पूछे थे। अब वक्त है उन प्रश्न के जवाब जानने का। प्रश्न था- क्या आप अपनी गाड़ी को बिना रजिस्ट्रेशन नंबर के चला सकते हैं? उसका सीधा सा उत्तर है, नहीं। अन्य प्रश्न थे- आपकी गाड़ी पर सामने और पीछे की तरफ रजिस्ट्रेशन नंबर नहीं होगा तो आपके खिलाफ क्या कार्रवाई होगी?- क्या पुलिस आपकी गाड़ी जब्त नहीं कर लेगी? या क्या आपका चालान नहीं हो जाएगा? पूर्व ज्वाइंट कमिश्नर दिल्ली पुलिस मैक्सवेल परेरा के अनुसार रजिस्ट्रेशन नंबर के बिना गाड़ी चलाना अपराध है और इस अपराध में पुलिस न सिर्फ आपका चालान कर सकती है, बल्कि आपकी गाड़ी को जब्त भी किया जा सकता है।

तो माननीयों को इसलिए मिलती है छूट
राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति और राज्यों के राज्यपाल सहित कई वीवीआईपी की कारों पर रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट क्यों नहीं होती? इसी प्रश्न के साथ हमने पूर्व ज्वाइंट कमिश्नर दिल्ली पुलिस मैक्सवेल परेरा से बात की। उन्होंने दैनिक जागरण से बात करते हुए बताया कि हम आज भी ब्रिटिश सिस्टम को ढो रहे हैं। ब्रिटिश सिस्टम के तहत माना जाता था, ‘किंग कैन डू नो रॉन्ग’ मतलब राजा कुछ भी गलत नहीं कर सकता। शायद यही कारण रहा है कि आज तक राष्ट्रपति व कई अन्य माननीयों की गाड़ियों पर रजिस्ट्रेशन नंबर नहीं होता। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि सभी के लिए रजिस्ट्रेशन नंबर जरूरी होना चाहिए और हमें ब्रिटिश काल के हैंगओवर से बाहर निकलना चाहिए। वीवीआईपी की बिना रजिस्ट्रेशन नंबर की गाड़ी से अगर किसी का एक्सीडेंट भी हो जाता है तो उसके ड्राइवर के खिलाफ कार्रवाई होगी न कि वीवीआईपी के खिलाफ।

माननीयों की सुरक्षा का क्या?
जहां तक माननीयों की सुरक्षा का प्रश्न है। मैक्सवेल परेरा ने दैनिक जागरण से बात करते हुए बताया कि उनकी सुरक्षा व्यवस्था पहले ही चाकचौबंद होती है। रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट लगाने से उनकी सुरक्षा पर कोई असर नहीं पड़ेगा। जहां तक रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट से उनकी पहचान होने की बात है तो उनकी गाड़ी पर नेशनल एम्ब्लेम (अशोक स्तंभ) बना होता है, यह उनकी गाड़ी की पहचान के लिए काफी है।

You may also like

लोअर पीसीएस-2015 के चयनितों को चार माह बाद भी नियुक्ति का इंतजार – राघवेन्द्र प्रताप सिंह

लखनऊ। एक ओर जहाँ सूबे की योगी आदित्यनाथ