आंखों को स्वस्थ रखने के लिए करें ये 4 एक्सरसाइज

आमतौर पर देखा जाए तो नेत्र स्वास्थ्य यानी आंखों की सेहत शायद स्वास्थ्य सेवा के सबसे उपेक्षित क्षेत्रों में से एक है. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) का कहना है कि दुनियाभर में लगभग 100 करोड़ लोगों को आंख या दृष्टि से संबंधित ऐसी समस्या है जिसे आसानी से होने से रोका जा सकता है या फिर जिसका कुशलता से इलाज किया जा सकता है. अंधेपन और दृष्टि दोष की ओर ध्यान आकर्षित करने के लिए ही, हर साल अक्टूबर के दूसरे गुरुवार को विश्व दृष्टि दिवस यानी वर्ल्ड साइट डे के रूप में मनाया जाता है.

Loading...

इस साल यह 8 अक्टूबर 2020 को मनाया जा रहा है वर्ल्ड साइट डे की इस साल की थीम है ‘होप इन साइट’ है. आंखों से जुड़ी समस्याओं के लक्षणों पर ध्यान देना और एक सही डायग्नोसिस प्राप्त करना नेत्र स्वास्थ्य के लिए आवश्यक है, बावजूद इसके हम सभी इस बात से सहमत होंगे कि रोकथाम को इलाज से बेहतर माना जाता है. स्वस्थ और संतुलित भोजन का सेवन करने और लैपटॉप, मोबाइल और टीवी जैसे गैजेट्स पर स्क्रीन-टाइम को कम करने के अलावा, कुछ ऐसे एक्सरसाइज भी हैं जिसे आप कर सकते हैं और ये आपकी आंखों को स्वस्थ रखने में मदद करेंगे:

1. हथेली को रगड़कर आंखों पर रखनाइसके लिए सबसे पहले फर्श पर बैठ जाएं और अपनी आंखें बंद कर लें.

अब अपनी हथेलियों को जोर से आपस में तब तक रगड़ें जब तक कि वे गर्म न हो जाएं.

अब गर्म हथेलियों को अपनी पलकों के ऊपर रखें और उन्हें तब तक रखें जब तक कि हाथों की गर्मी आंखों में अवशोषित न हो जाए. सुनिश्चित करें कि आपकी हथेलियां आंखों को कवर कर रही हों ना की आपकी उंगलियां.

अपने हाथों को आंखों पर से हटाएं और इस एक्सरसाइज को कम से कम 3 बार दोहराएं.

2. अगल-बगल में देखनाफर्श पर बैठें और अपने पैरों को शरीर के सामने बिलकुल सीधा रखें.

अब अपनी दोनों भुजाओं को बगल में कंधे के स्तर तक उठाएं और उन्हें सीधा रखते हुए अंगूठे को ऊपर की ओर इंगित करें.

अंगूठे को ऐसी जगह पर रखा जाना चाहिए जहां सिर को आगे की ओर रखते हुए परिधीय दृष्टि (आंखों के किनारे से) देखा जा सके. यदि अंगूठा स्पष्ट रूप से दिखाई नहीं दे रहा हो तो अपने हाथों को तब तक थोड़ा आगे लाएं जब तक की अंगूठे दिखने न लग जाए.

अब, अपना सिर घुमाए बिना, अपनी आंखों को पहले बाएं अंगूठे पर केंद्रित करें और फिर भौंहों (भृमध्या) के बीच के क्षेत्र पर ध्यान केंद्रित करें. अब इसी एक्सरसाइज को दूसरी तरफ दोहराएं. इसके लिए दाहिने अंगूठे पर ध्यान केंद्रित करें और फिर आइब्रोज के बीच के क्षेत्र पर फोकस करें.

आप इस अभ्यास को 10 से 20 बार दोहरा सकते हैं और फिर अपनी आंखें बंद करके 3-4 से बार हथेली को आंखों पर रखने वाली एक्सरसाइज कर सकते हैं.

3. प्रारंभिक नासिकाग्र दृष्टि (नोजटिप को देखना)जमीन पर अपने पैरों को सामने की तरफ बिलकुल सीधा रखकर बैठें या फिर आप चाहें तो पैरों को क्रॉस करके भी बैठ सकते हैं और अपनी हथेलियों को जांघ पर आराम से रखें.

अपनी अपनी दो भुजाओं को सामने की तरफ उठाएं और सीधा रखें.

अपनी दाईं भुजा को कोहनी के पास से मोड़ें और इसे अपने पेट के पास इस तरह से ले जाएं ताकि हाथ आपकी नाक के ठीक सामने आ जाए. अब दाहिने हाथ से मुट्ठी बनाएं और दाहिने हाथ के अंगूठे को ऊपर की तरफ पॉइंट करते हुए रखें.

अंगूठे की नोक पर ध्यान केंद्रित करें और धीरे-धीरे अपनी भुजा को आगे झुकाकर अपनी नाक की टिप को अंगूठे की टिप से स्पर्श करें. अंगूठे को नाक की ओर लाते हुए अपनी आंखों को अंगूठे पर ही फोकस रखें.

एक बार जब आपका अंगूठा नाक की टिप को छू लेता है, तो इसे कुछ सेकंड के लिए वहीं रहने दें और फिर धीरे-धीरे हाथ को सीधा कर लें, लेकिन अंगूठे की नोक पर लगातार अपनी नजर टिकाए रखें.

इस अभ्यास को दो बार और दोहराएं.

4. नजदीक और दूर देखनाइस एक्सरसाइज के लिए, आपको घर के बाहर आउटडोर में कहीं बैठना या खड़े होना होगा या फिर किसी खुली खिड़की के पास अपनी भुजाओं को साइड में रखें.

5 सेकंड के लिए अपनी आंखों को नाक के टिप पर (नासिकाग्र द्रष्टि) फोकस करें और फिर 5 सेकंड के लिए किसी दूर की वस्तु पर अपना ध्यान केंद्रित करें.

loading...
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button