Home > राष्ट्रीय > खुले में शौच से मुक्त नहीं किया गांव तो नहीं मिलेगा मुफ्त चावल: किरण बेदी

खुले में शौच से मुक्त नहीं किया गांव तो नहीं मिलेगा मुफ्त चावल: किरण बेदी

एक बार फिर विवादित बयान और आदेश देते हुए पुडुचेरी की लेफ्टिनेंट गवर्नर किरण बेदी ने कहा है कि जो गांव खुले में शौच से मुक्त नहीं हो पाए हैं, वहां के लोगों को मुफ्त चावल नहीं दिया जाएगा.

गौरतलब है कि राज्य में मुफ्त चावल योजना का लाभ करीब आधी जनसंख्या को मिलता है. किरण बेदी ने शनिवार को घोषणा की, कि जिन गावों के लोग खुले में शौच करते हैं और खुले में कूड़ा-करकट फेंकते हैं, उनको मुफ्त चावल देना बंद कर दिया जाएगा.

उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘मुफ्त चावल योजना को संबंधित क्षेत्र के विधायकों और ग्रामसभा आयुक्तों द्वारा खुले में शौच तथा कूड़े-प्लास्टिक फेंकने से मुक्त होने के प्रमाणपत्र से जोड़ दिया है. यह आज के दिन का सबक है.’

इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार, उन्होंने एक बयान में कहा कि नया आदेश जून से लागू किया जाएगा. यानी इसके लिए लिए अभी चार हफ्ते का समय है. इस दौरान संबंधित प्रशासन और ग्रामीणों को अपने आसपास के परिवेश को साफ करना होगा. उन्होंने कहा, ‘तब तक मुफ्त आपूर्ति होने वाले चावल को सुरक्षित भंडारगृहों में रखा जाएगा. साफ होने के प्रमाण हासिल करने वाले गांवों को ही यह वितरित किया जाएगा.

लेफ्टिनेंट गवर्नर किरण बेदी ने अपने बयान में कहा, ‘ग्रामीण स्वच्छता की धीमी गति देखकर मैं बहुत दुखी हूं. पिछले दो साल से मैंने किसी ऐसे जनप्रतिनिधि या संबंधित सरकारी अधिकारी में यह दृढ़ता नहीं देखी है कि एक समय-सीमा के भीतर ग्रामीण पुडुचेरी को साफ-सुथरा बनाना है.’

भारत के लिए रवाना हुए पीएम मोदी, जानें क्या स्पेशल रहा इस दौरे पर…

गौरतलब है कि किरण बेदी जब से पुडुचेरी की लेफ्टिनेंट गवर्नर बनकर गई हैं, उनके साथ कोई न कोई विवाद जुड़ता रहा है. राज्य सरकार के रिश्ते उनके साथ काफी खराब रहे हैं. कुछ समय पहले मुख्यमंत्री वी नारायणसामी और एलजी किरण बेदी के बीच हालात इतने नाजकु हो गए थे कि दोनों के बीच का टकराव खुलकर सामने आने लगा.

सीएम नारायणसामी ने किरण बेदी पर अपने अधिकार क्षेत्र से बाहर जाकर काम करने का आरोप लगाया है. साथ ही उन्होंने ये भी आरोप लगाया कि किरण बेदी पुडुचेरी सरकार की गुप्त जानकारियां ट्विटर पर शेयर करती हैं.

एक बार किरण बेदी ने चेन्नई एयरपोर्ट के वीआईपी लॉन्च में शौचालयों के अनुचित रखरखाव को लेकर अधिकारियों की खिंचाई की थी. उन्होंने कहा कि शौचालयों को साफ-सुथरा रखने की जरूरत है. इसके बाद फौरन सफाई कर्मचारियों को शौचालय की सफाई करने और परफ्यूम का छिड़काव करने के लिए बुलाया गया.

Loading...

Check Also

CBI डायरेक्टर आलोक वर्मा की अर्जी पर सुप्रीम कोर्ट ने टली 29 नवंबर तक सुनवाई

CBI डायरेक्टर आलोक वर्मा की अर्जी पर सुप्रीम कोर्ट ने टली 29 नवंबर तक सुनवाई

उच्चतम न्यायालय में सीबीआई निदेशक आलोक कुमार वर्मा ने भ्रष्टाचार के आरोपों से संबंधित सीवीसी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com