दिल्ली नोएडा और ग्रेटर नोएडा के लोगों को मिल सकता है सुपर फास्ट मेट्रो में सफर करने का मौका

 आने वाले कुछ सालों में नोएडा, ग्रेटर नोएडा और दिल्ली के लाखों लोगों को बड़ी खुशखबरी मिल सकती है। सबकुछ ठीक रहा और प्रस्तावित योजना ने मूर्त रूप लिया तो दिल्ली, नोएडा और ग्रेटर नोएडा के लोगों को सुपर फास्ट मेट्रो में सफर करने का मौका मिल सकता है। दरअसल, सुपर फास्ट मेट्रो के संचालन के मद्देनजर दिल्ली, नोएडा और ग्रेटर नोएडा के बीच एक स्पेशल मेट्रो कारिडोर तैयार किया जाना है। इसके लिए रूट भी तय हो गया है। प्रस्ताव के तहत सुपर फास्ट मेट्रो का यह कारिडोर जेवर में निर्माणाधीन नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट और पालम स्थित दिल्ली एयरपोर्ट के बीच होगा और यह दोनों एयरपोर्ट के कारिडोर के जरिये जोड़ेगा। 

स्पेशल मेट्रो कारिडोर होगा 74 किलोमीटर

प्रस्ताव के अनुसार, दिल्ली, नोएडा और ग्रेटर नोएडा के लोगों को राहत देने वाला और नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट को दिल्ली एयरपोर्ट से जोड़ने वाले स्पेशल मेट्रो कारिडोर 74 किलोमीटर लंबा होगा। नोएडा एयरपोर्ट से लेकर ग्रेटर नोएडा स्थित नालेज पार्क तक एक रूट होगा, जबकि नालेज पार्क से नोएडा और नोएडा से यमुना बैंक स्टेशन तक एलिवेटेड ट्रैक बनेगा। इसके आगे यानी यमुना बैंक से शिवाजी स्टेडियम तक अंडरग्राउंड कारिडोर बनाया जाएगा। यह भी जानकारी सामने आ रही है कि इस स्पेशल कारिडोर की फिजिबिलिटी रिपोर्ट और डीपीआर तैयार करने का जिम्मा दिल्ली मेट्रो रेल निगम को सौंपा गया है।

120 KMPH होगी रफ्तार

बताया जा रहा है कि सुपर फास्ट मेट्रो ट्रेन इस कारिडोर पर 120 किमी प्रति घंटे की रफ्तार फर्राटा भरेगी। यमुना एक्सप्रेस-वे औद्योगिक विकास प्राधिकरण का प्लान नोए़डा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के साथ ही मेट्रो ट्रेन भी पहुंचाने का है। ऐसे में पहले फेज के तहत दिल्ली एयरपोर्ट से लेकर नालेज पार्क की बीच 38 किमी लंबा मेट्रो रेल कारिडोर तैयार करने का प्रस्ताव है। वहीं, दूसरे फेज के तहत 35.6 किलोमीटर लंबा कोरिडोर बनाया जाएगा। इस फेज में ग्रेटर नोए़डा के नालेज पार्क से नोए़डा एयरपोर्ट तक मेट्रो ट्रेन चलाने की योजना है। नालेज पार्क से शुरू होकर जेवर तक जाने वाले मेट्रो का रूट एलिवेटेड होगा। असल में यह गौतम बुद्ध नगर का सबसे लंबा रूट होगा, क्योंकि नोएडा और ग्रेटर नोएडा मेट्रो रूट की लंबाइ 29.7 किलोमीटर है, जो सबसे बड़ा मेट्रो रूट है।

ग्रेटर नोएडा को नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट से जोड़ने वाले मार्ग पर 7 मेट्रो स्टेशनों का सुझाव दिया गया है। जेवर में अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा तक संचालित मेट्रो ट्रेनों को लेकर डीएमआरसी ने सिर्फ 7 मेट्रो स्टेशनों का सुझाव दिया है। इसका मकसद दोनों गंतव्यों के बीच यात्रा के समय को कम किया जा सके।

अधिकारियों ने कहा कि डीएमआरसी ने यह भी सुझाव दिया है कि नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट को दिल्ली के शिवाजी स्टेडियम के बजाय नई दिल्ली मेट्रो स्टेशन के माध्यम से दिल्ली के इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे से जोड़ा जाए। 

News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

15 + seventeen =

Back to top button