इन राज्यों में अगले 24 घंटों में बढ़ेगी ठंड, मौसम विभाग ने जारी की चेतावनी…

उत्‍तर भारत से लेकर मध्‍य भारत के राज्‍य तो शीतलहर से कांप उठे हैं। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने अगले सप्ताह तक ऐसी ही ठंड की स्थिति बने रहने का अनुमान जताया है। एक हफ्ते बाद कुछ राहत मिलने की उम्मीद की जा सकती है। इस समय कड़ाके की सर्दी का अनुभव किया जा रहा है। शीतलहर के कारण मैदानों से लेकर पहाड़ों तक कड़ाके की ठंड चल रही है।

मौसम के जानकारों का कहना है कि आगामी एक सप्‍ताह तक अभी ऐसे ही हालात रहने वाले हैं। मध्य प्रदेश के पूर्वी भागों और विदर्भ में एक-दो स्थानों पर शीतलहर जारी रहने की संभावना है। जबकि उत्तर भारत के शहरों में तापमान और बढ़ेगा जिससे सर्दी और कम हो जाएगी। बिहार और उत्तर प्रदेश में कुछ स्थानों पर घना कोहरा जारी रहने की संभावना है। पूर्वी उत्तर प्रदेश विषेशरूप से घने कोहरे वाला क्षेत्र होगा।

उत्तर भारत पर बने पश्चिमी विक्षोभ के प्रभाव अगले 24 घंटों के दौरान जम्मू कश्मीर और लद्दाख में कुछ स्थानों पर बारिश और हिमपात होने की संभावना है। हिमाचल प्रदेश में भी एक-दो स्थानों पर हल्की वर्षा हो सकती है। दक्षिण भारत पर भी अगले 24 घंटों एक दौरान मौसम में हलचल काफी कम रहेगी। हालांकि 22 दिसम्बर से तमिलनाडु और केरल में बारिश शुरू हो सकती है। उत्तर भारत के अधिकतर शहर शीत लहर की चपेट में हैं। उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, तथा महाराष्ट्र में भी अब शीतलहर की संभावना है। दिल्‍ली में सर्दी गहराती जा रही है। अगले 3 दिनों तक दिल्ली के लोगों को इस भीषण सर्दी से राहत मिलने की संभावना नहीं है। मध्य प्रदेश में इन दिनों कड़ाके की ठंड पड़ रही है। मौसम विभाग ने 24 से 30 दिसंबर तक के लिए अपने पूर्वानुमान में कहा कि उत्तर-पश्चिम, मध्य और पूर्वी भारत के अधिकांश हिस्सों में न्यूनतम तापमान सामान्य से 2-6 डिग्री सेल्सियस नीचे रहेगा। आने वाले तीन दिन ऐसी ही कड़ाके की ठंड पड़ने के आसार हैं। उच्च पर्वतीय इलाकों में हलका हिमपात व बारिश हो सकती है।

Ujjawal Prabhat Android App Download Link

तापमान शून्‍य तक जाएग तो पाला पड़ने का खतरा

देश के उत्तर मध्य भागों पर लगभग एक सप्ताह से बर्फीली हवाएं अपना असर दिखा रही हैं जिससे उत्तर भारत के अधिकांश शहरों में पारा लगातार नीचे जा रहा है। अब असर मध्य भागों में दिखाई देने लगा है। अनुमान है कि अगले दो-तीन दिनों के दौरान कुछ स्थानों पर पारा 2 डिग्री या उससे भी नीचे पहुंच सकता है। कहीं-कहीं पर शून्य के करीब भी पहुंच जाएगा तापमान जिससे पाला पड़ने की भी आशंका है। दिल्ली में आगामी 3 दिनों के दौरान कुछ स्थानों पर कोहरा शुरू हो सकता है अगर कोहरा बढ़ता है तो दिन के तापमान में इसी तरह की कमी रहेगी।

कोल्‍ड डे का रहेगा असर, जानिये यह क्‍या है

देश के मैदानी भागों में जब अधिकतम तापमान 16 डिग्री सेल्सियस से नीचे रिकॉर्ड किया जाता है तब उस दिन को कोल्ड दे कहा जाता है। यानी दिन में भी शीतलहर का प्रकोप देखा जाता है। दिल्ली के अलावा पिछले 24 घंटों में जिन शहरों में अधिकतम तापमान 15 डिग्री सेल्सियस से नीचे रिकॉर्ड किया गया उनमें अलीगढ़, हिसार, शाहजहांपुर, मेरठ, लुधियाना, चंडीगढ़, करनाल, अंबाला, अमृतसर, रोहतक, बरेली शामिल है। 18 दिसंबर को राजस्थान के चूरू में तापमान शून्य से नीचे पहुंच गया। अमृतसर, सीकर, नारनौल, पिलानी, भीलवाड़ा, नलिया, फुरसतगंज, हिसार, दतिया, करनाल, लुधियाना, बरेली, चित्तौड़गढ़ में भी भीषण सर्दी का आलम रहा।

जानिये अगले 24 घंटों का अनुमान

चूरू, सीकर, अमृतसर, दिल्ली, मेरठ, बरेली सहित भीषण सर्दी से हलकान उत्तर भारत के शहरों में पाला पड़ने की भी आशंका है। कई इलाकों में तापमान फ्रीजिंग पॉइंट पर पहुंच सकता है।

 मौसम विभाग के अनुसार 24 दिसंबर तक पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, पश्चिम उत्तर प्रदेश और उत्तरी राजस्थान में शीत लहर (Cold Wave) बढ़ जाएगी।

 राष्ट्रीय राजधानी के कुछ हिस्सों में न्यूनतम तापमान तीन डिग्री पहुंच गया है। दिल्ली में शीतलहर सोमवार तक जारी रह सकती है। अमृतसर में पारा 0.4 डिग्री सेल्सियस तक गिरने के साथ पंजाब-हरियाणा शीतलहर की चपेट में हैं।

रोहतक, अंबाला, गंगानगर, पटियाला, ग्वालियर, बीकानेर, बांदा, चंडीगढ़, दिल्ली-एनसीआर, मेरठ, आगरा, गाजियाबाद, अलीगढ़ समेत पश्चिमी उत्तर प्रदेश, राजस्थान, मध्य प्रदेश, गुजरात में भीषण सर्दी देखने को मिल रही है।

बर्फीली हवाएं उत्तर भारत के पहाड़ों से होकर अगले दो-तीन दिनों तक इसी तरह से बनी रहेंगी, जिसके कारण उत्तर भारत के कई शहरों में तापमान इसी तरह से और नीचे जाता रहेगा।

राजस्‍थान के चूरू, गंगानगर, सीकर, अलवर, अमृतसर, लुधियाना, करनाल, कुरुक्षेत्र समेत दिल्ली एनसीआर में भी जल्द ही पाला पड़ने की भी संभावना है।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button