CM केजरीवाल ने की PM से मुलाकात, हिंसा के आरोपियों को सजा देने के लिए उठाया बड़ा कदम

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की. दोनों नेताओं के बीच ये मुलाकात संसद भवन परिसर में हुई. तीसरी बार दिल्ली की कमान संभालने के बाद सीएम केजरीवाल और पीएम मोदी की पहली मुलाकात की. इस मुलाकात के दौरान कोरोना वायरस से निपटने की तैयारी और दिल्ली हिंसा पर चर्चा हुई.

सीएम केजरीवाल ने हिंसाग्रस्त इलाकों में चलाए जा रहे पुनर्वास अभियान के बारे में पीएम मोदी को बताया. सीएम केजरीवाल ने कहा कि मैंने पीएम नरेंद्र मोदी से शिष्टाचार मुलाकात की थी. चुनाव जीतने के बाद मैंने प्रधानमंत्री से समय मांगा था. दिल्ली का विकास करने के लिए लेकर उनसे सहयोग मांगा. उन्होंने कहा कि वह पूरी तरीके से दिल्ली के कामों के लिए सहयोग करेंगे.

अफवाह रोकने में कामयाब रही दिल्ली पुलिस

सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली के हालात के बारे में भी बातचीत हुई. पिछले दो-तीन दिनों में जो चारों तरफ अफरा-तफरी का माहौल था, उस दौरान दिल्ली पुलिस ने अच्छा काम किया. दिल्ली पुलिस ऑफिसर एसएन श्रीवास्तव लोगों से शांति बनाए रखने की अपील कर रहे थे. सड़कों पर उतरकर माहौल को सही करने की कोशिश की गई. अगर पुलिस पहले ठीक से काम करती है तो नुकसान को बचाया जा सकता था. अब हमें यह कोशिश करें कि भविष्य में ऐसी कोई वारदात नहीं होनी चाहिए.

इसे भी पढ़ें: मुस्लिम महिला ने CAA को लेकर खोली पति की पोल, बोलीं- जबरन करवाता था…

हिंसा के आरोपों पर हो कार्रवाई

सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली देश की राजधानी है. ऐसे कदम उठाने की जरूरत है, जिससे भविष्य में इस तरीके की हिंसा न होगा. मैंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से निवेदन किया कि जो भी हिंसा के लिए जिम्मेदार है, वह किसी भी पार्टी का कोई क्यों ना हो, कितना बड़ा व्यक्ति का नाम हो, उसको बख्शा नहीं जाना चाहिए. उसके खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए, ताकि एक संदेश जाना चाहिए.

उपराज्यपाल ने भी की थी मुलाकात

इससे पहले उपराज्यपाल अनिल बैजल ने पीएम मोदी से मुलाकात की थी और हिंसा के बाद के हालातों की ब्रीफिंग दी थी. इस बीच दिल्ली पुलिस के नए कमिश्नर एसएन श्रीवास्तव ने कहा कि उपद्रव फैलाने वालों की पहचान की जाएगी और उनके खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी.

अब तक 46 की मौत, 369 FIR

दिल्ली हिंसा को करीब एक हफ्ते का समय बीत गया है. अब तक 46 लोगों की मौत हो गई है, जबकि 50 से अधिक घायलों का इलाज चल रहा है. हिंसा के मामले में 369 एफआईआर दर्ज किए गए है और 1284 लोगों को हिरासत में लिया है. इसके अलावा 50 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया गया है. हिंसा के हफ्ते भर बाद दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने पुलिस कमिश्नर के साथ हालात का जायजा लिया और पीएम नरेंद्र मोदी को जानकारी दी.

इसे भी पढ़ें: कल नहीं होगी निर्भया के दोषियों को फांसी, अगले आदेश तक कोर्ट ने फिर लगाई रोक

केजरीवाल सरकार ने बनाई कमेटी

इन सबके बीच केजरीवाल सरकार ने फेक न्यूज पर लगाम लगाने के लिए दिल्ली विधानसभा की एक समिति बनाई है. इसके अध्यक्ष ग्रेटर कैलाश इलाके के आम आदमी पार्टी (आप) विधायक सौरभ भारद्वाज हैं. सोमवार को इस कमेटी की पहली बैठक हुई. दिल्ली सरकार की समिति ने ट्विटर, फेसबुक और व्हाट्सएस के आला अधिकारियों से बात करने का फैसला किया है, ताकि फेक न्यूज पर लगाम लगाई जा सके.


मुस्तफाबाद में लगाया गया राहत कैंप

हिंसा में प्रभावित लोगों के लिए मुस्तफाबाद में दिल्ली सरकार ने राहत कैम्प लगाया है. यहां रहने वालों का हाल चाल और व्यवस्था का जायजा लेने के लिए सोमवार को गोपाल राय ने राहत कैम्प का दौरा किया. दिल्ली सरकार ने हिंसा में जान गंवाने वाले आईबी कर्मचारी अंकित शर्मा के परिवार को एक करोड़ रुपये का मुआवजा देने का ऐलान किया है. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ऐलान किया कि मुआवजे के साथ परिवार के एक सदस्य को नौकरी भी दी जाएगी.

अफवाह फैलाने वालों पर कार्रवाई शुरू

दिल्ली पुलिस ने हिंसा की जांच के लिए दो एसआईटी गठित की है. इनकी मदद के लिए स्पेशल टास्क फोर्स का भी गठन किया गया है. एक तरफ दिल्ली पुलिस जहां जांच में जुटी है, वहीं दूसरी तरफ अफवाह फैलाने वालों पर नकेल भी कस रही है. दिल्ली पुलिस की साइबर सेल ने 24 साल के अभिषेक शुक्ला को गिरफ्तार किया है. ये निहाल विहार इलाके में दंगे की अफवाह फैला रहा था. गिरफ्तार शख्स के सोशल मीडिया पर 10 हजार से भी ज्यादा फॉलोअर्स हैं.

News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

two × 1 =

Back to top button