सियासी संकट के बीच CM कमलनाथ ने की इस्तीफे की घोषणा, बीजेपी पर लगाया गंभीर आरोप

मध्य प्रदेश में सियासी संकट के बीच सीएम कमलनाथ ने अपना इस्तीफा देने का फैसला किया है। उन्होंने भोपाल में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया कि वह आज राज्यपाल से मिलकर उन्हें अपना इस्तीफा सौंपेंगे। फिलहाल वह राज्यपाल से मिलने राजभवन पहुंच चुके हैं। इससे पहले उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कर भाजपा पर निशाना साधा और कहा कि उन्होंने कहा कि प्रदेश की जनता ने मुझे पांच साल सरकार चलाने का बहुमत दिया था। लेकिन भाजपा ने प्रदेश की जनता के साथ धोखा दिया। लेकिन जनता उन्हें माफ नहीं करेगी।

Loading...

मुख्यमंत्री कमल नाथ राज्यपाल को इस्तीफा देने राजभवन पहुंचे हैं। इससे पहले सीएम कमलनाथ ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया था कि उन्होंने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने का फैसला किया है। उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि मैंने आज राज्यपाल को अपना इस्तीफा देने का फैसला किया है।


निर्दलीय विधायक ने की भाजपा को समर्थन की घोषणा

इस बीच मध्य प्रदेश के निर्दलीय विधायक प्रदीप जायसवाल ने कमलनाथ के इस्तीफे की घोषणा के बाद कहा है कि मैंने कहा था कि जब तक कमलनाथ हैं, मैं उनका समर्थन करता रहूंगा। लेकिन मेरी प्राथमिकता मेरे निर्वाचन क्षेत्र के लोगों, उनके विकास और श्रमिकों का सम्मान है। मुझे लगता है कि अब नेतृत्व की अनुपस्थिति में यह संभव नहीं है।

इसे भी पढ़ें: जानें क्यों पीएम मोदी ने की जनता कर्फ्यू की अपील, विस्तार से पढ़े सरकार की पूरी रणनीति

उन्होंने आगे कहा कि निर्दलीय विधायक होने के नाते, अब मेरे पास और कोई विकल्प नहीं है, लेकिन अपने लोगों के विकास के लिए जो नई सरकार बनेगी, उसका समर्थन करने के लिए। मैंने उनसे(भाजपा) से बात की है।

भारतीय जनता पार्टी ने स्पष्ट किया है कि पार्टी अभी विपक्ष में है। कमल नाथ सरकार के इस्तीफे देने के बाद भाजपा की एक बार फिर विधायक दल की बैठक होगी। जिसमें नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव का इस्तीफा होगा और उसके बाद नए नेता का चुनाव किया जाएगा। भाजपा के सभी विधायकों अभी थोड़ी देर में विधानसभा पहुंचेंगे। 

– कमलनाथ ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि हमने हमने पहले दिन से काम शुरू कर दिया। किसानों की ऋण माफी के लिए कदम उठाया। शुद्ध का युद्ध, माफिया के खिलाफ अभियान शुरू किया। इसके अलावा भी कमल नाथ ने कई योजनाओं का जिक्र किया। मुख्यमंत्री कमलनाथ की प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए कहा कि प्रदेश की जनता ने मुझे पांच साल सरकार चलाने का बहुमत दिया था। लेकिन भाजपा ने प्रदेश की जनता के साथ धोखा दिया। उन्होंने कहा कि भाजपा शुरू से कहती आ रही है कि ये सरकार सिर्फ 15 दिन चलेगी।

– सीएम कमलनाथ ने कहा कि इस देश के लोग उस घटना के पीछे की सच्चाई देख सकते हैं जहां विधायकों को बेंगलुरु में बंधक बनाया जा रहा है…सच्चाई सामने आ जाएगी। लोग उन्हें माफ नहीं करेंगे।कमलनाथ ने कहा कि भाजपा पिछले 15 महीनों से सरकार गिराने की साजिश कर रही है। धोखा देने वालों को प्रदेश की जनता कभी भी माफ नहीं करेगी। महाराज के साथ मिलकर भाजपा ने जनता को धोखा दिया है। 

– फ्लोर टेस्ट से पहले एमपी के सीएम कमलनाथ ने कहा कि जनता ने हमें 5 साल का मौका दिया था। पिछले 15 महीनों में हमने काफी काम किया।

मप्र विधानसभा के स्पीकर एनपी प्रजापमध्य प्रदेश में सियासी संकट के बीच सीएम कमलनाथ ने अपना इस्तीफा देने का फैसला किया है। उन्होंने भोपाल में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया कि वह आज राज्यपालति ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा है कि मप्र के इतिहास में एक साथ इतनी विधायकों के इस्तीफे कभी नहीं हुए। उन्होंने कहा कि मैंने दुखी मन से सभी विधायकों के इस्तीफे स्वीकार किए। अभी तक कुल 23 विधायकों के इस्तीफे स्वीकार किए जा चुके हैं। इसमें एक शहडोल विधानसभा क्षेत्र के भाजपा विधायक शरद कोल भी शामिल है।
loading...
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *